नाखून चबाने से हो सकती हैं ये 5 गंभीर बीमारियां, नहीं रहते दांत भी अपनी सही जगह

अगर खाली बैठे हुए आपको नेल बाइटिंग की आदत है तो ऐसे वक्त में नाखूनों पर कपड़े बांधकर रखें ताकि खुद को कंट्रोल कर सकें.

News18Hindi
Updated: March 15, 2019, 4:55 PM IST
नाखून चबाने से हो सकती हैं ये 5 गंभीर बीमारियां, नहीं रहते दांत भी अपनी सही जगह
नाखून चबाने की आदत सेहत पर डालती है बुरा प्रभाव
News18Hindi
Updated: March 15, 2019, 4:55 PM IST
आपको लगता है कि आप शाकाहारी हैं लेकिन नाखून कुतरना आपको नरभक्षी की श्रेणी में ला खड़ा कर सकता है! नाखून शरीर का ही हिस्सा है, लिहाजा उसे खाना नर मांस खाने के बराबर है. हालांकि आप इस संगीन अपराध से मुक्त हो सकते हैं अगर आपको सिर्फ और सिर्फ अपने नाखून कुतरने की आदत हो. ये हमारा नहीं, डॉक्टरों का कहना है.

भूलकर भी न लें अंगूर या संतरे के रस के साथ दवाई, हो सकती है Blood Pressure और Cholesterol की समस्या, शोध

आप घबरा जाते हैं तो नाखून कुतरते हैं, नाखून चबाना आपकी आदत है, नाखून कुतरना आपकी जरूरत है. कभी-कभी जब आप अपने कुतरे हुए नाखून देख शर्मिंदा होते हैं तो घबराहट में फिर से नाखून कुतरने लगते हैं. अगर आप भी इनमें से हैं तो सावधान हो जाएं. ये ऑनिकोफेजिया नामक मर्ज है जो अकेला नहीं आता, बल्कि ये कई दूसरी बीमारियों का संकेत हैं.



नाखून चबाना यानी नरभक्षी होना नहीं है. नेल बाइटिंग करने वाले लोग नाखून खाकर अपना पेट नहीं भर रहे होते. अगर उन्हें दूसरों का नाखून कुतरने को दिया जाए तो भी वे नाखून नहीं खाएंगे. नेल बाइटिंग कई तरह की दूसरी बीमारियों की ओर इशारा करता है. जैसे ऑब्सेसिव कंप्लसिव डिसऑर्डर या फिर हाइपरएक्टिव अटेंशन डिफिसिट. इनके अलावा ऐसे लोग जिन्हें किसी भी तरह का ईंटिंग डिसऑर्डर होता है, वे भी नाखून कुतरते हैं.

बुखार आने पर दिल के मरीजों को न दें एस्प्रिन, हो सकती है खतरनाक साबित

नाखून कुतरना आपको उस वक्त तो अच्छा लगता है लेकिन इससे कई बीमारियां चली आती हैं. जानें, ऐसे ही कुछ इंफेक्शन के बारे में.


Loading...

नेल बाइटिंग से नाखून के चारों ओर इन्फेक्शन फैल सकता है क्योंकि जब आप नाखून चबाते हैं तो कई तरह के जर्म्स कटे-फटे नाखूनों के जरिए शरीर में प्रवेश कर जाते हैं. इससे नाखूनों के आसपास सूजन, लालिमा और पस हो सकता है.

चबा-चबाकर खाना खाने से घटा सकते हैं वजन, नहीं करनी होगी कोई डायट फॉलो, जानिए

नेल बाइटिंग के कारण दांतों पर भी खराब असर पड़ता है. दांत अपनी सही जगह से हटने लगते हैं, ऊबड़-खाबड़ हो जाते हैं, इससे डाइट भी घट जाती है और कुल मिलाकर पूरी लाइफस्टाइल प्रभावित हो जाती है.

पेट से जुड़ी किसी भी बीमारी के वक्त अगर हमारे नाखून बढ़े हुए हैं तो डॉक्टर उन्हें काटने की सलाह देते हैं क्योंकि नाखूनों को साफ रखना बहुत कठिन है. यही बात कटे-फटे नाखूनों पर भी लागू होती है. इनके जरिए मुंह से होकर जर्म्स शरीर के भीतर चले जाते हैं और कई तरह की बीमारियां दे सकते हैं.

नेल बाइटिंग के मरीजों में वार्ट्स की परेशानी आम है. ये पहले तो अंगुलियों पर दिखाई देते हैं लेकिन धीरे-धीरे होंठों और मुंह के भीतर-बाहर भी फैल जाते हैं.

Relationship Advice: पत्नी की नजरों में गिर जाएंगे आप, अगर करेंगे ऐसे काम!

सबसे पहले तो आप नेल बाइटिंग के ट्रिगर्स को पहचानें, जैसे आप नाखून कब, किन परिस्थितियों में काटते हैं. अगर खाली बैठे हुए आपको नेल बाइटिंग की आदत है तो ऐसे वक्त में नाखूनों पर कपड़े बांधकर रखें ताकि खुद को कंट्रोल कर सकें. जब घर पर हों तो अंगुलियों पर कुछ कड़वा या कसैला सा डाल लें जैसे चिली सॉस या सिरका, ऐसे में गंध से ही आप नाखून चबाने से ठिठक जाएंगे. नाखून हमेशा छोटे रखें ताकि काट न पाएं.

(ये आर्टिकल मूलचंद अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट डॉ श्रीकांत शर्मा से बातचीत के आधार पर लिखा गया है.)
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...