National Education Day 2020: जब अबुल कलाम आज़ाद ने कहा 'सपने देखने पड़ेंगे'

अबुल कलाम आजाद Image-tweeted-by@@YahyaRahmani19
अबुल कलाम आजाद Image-tweeted-by@@YahyaRahmani19

National Education Day 2020: मौलाना अबुल आज़ाद (Maulana Abul Kalam Azad) स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री थे. उन्‍होंने कहा था कि दिल से दी गई शिक्षा समाज में क्रान्ति ला सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 3:14 PM IST
  • Share this:
National Education Day 2020: राष्ट्रीय शिक्षा दिवस (National Education Day) 11 नवंबर को प्रतिवर्ष मनाया जाता है. यह दिन भारत में मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की जयंती के रूप में मनाया जाता है. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मौलाना अबुल आज़ाद (Maulana Abul Kalam Azad) द्वारा स्वतंत्र भारत की शिक्षा प्रणाली में दिए गए योगदान की एक विशाल शृंखला के लिए एक श्रद्धांजलि है. मौलाना अबुल कलाम आज़ाद या मौलाना सैय्यद अबुल कलाम गुलाम मुहिउद्दीन अहमद बिन खैरुद्दीन अल-हुसैनी आज़ाद का जन्म 11 नवंबर, 1888 को हुआ था. वे स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री थे. उन्होंने 1947 से 1958 तक पंडित जवाहरलाल नेहरू के कैबिनेट में मंत्री पद संभाला. इसके अलावा स्वतंत्रता संग्राम में भी उनकी भूमिका बहुत महत्वपूर्ण रही.

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की स्थापना और देश में पहले भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) की स्थापना में मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की भूमिका अविस्मरणीय है. यूजीसी देश के सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए एक नियामक संस्था है. अबुल कलाम अरबी, हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू, फ़ारसी और बंगाली सहित कई भाषाओं के जानकार थे. समान्य परिस्थितियों में इस दिन को विभिन्न दिलचस्प और ज्ञानवर्धक संगोष्ठियों, निबंध-लेखन आदि का आयोजन स्कूलों में होता है. इस दिन छात्र और शिक्षक शिक्षा के सभी पहलुओं पर साक्षरता के महत्व और राष्ट्र की प्रतिबद्धता पर एक साथ चर्चा करते हैं. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के मौके पर अबुल कलाम की पांच बातों को यहां बताया गया है. अबुल कलाम की पांच प्रेरक बातें-

ये भी पढ़ें - Shayari: दिल से निकली आवाज़ है शायरी, आज पढ़ें मुहब्‍बत भरा कलाम



1. टॉप पर चढ़ने के लिए ताकत की जरूरत होती है. फिर चाहे वह माउंट एवरेस्ट के शीर्ष पर चढ़ना हो या आपके करियर के शीर्ष पर.
2. अपने मिशन में कामयाब होने के लिए आपको अपने लक्ष्य के प्रति एकनिष्ठ मन रखना चाहिए.
3. सपने पूरे होने से पहले आपको सपने देखने पड़ेंगे.
4. दिल से दी गई शिक्षा समाज में क्रान्ति ला सकती है.
5. तेजी से चलने की तुलना में सॉलिड उपलब्धियों की तरफ ज्यादा समर्पित रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज