Home /News /lifestyle /

National Milk Day 2021: मिल्क मैन की 100वीं जयंती पर जानिए नेशनल मिल्क डे का महत्व

National Milk Day 2021: मिल्क मैन की 100वीं जयंती पर जानिए नेशनल मिल्क डे का महत्व

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस पहली बार 26 नवम्बर 2014 को मनाया गया था (Image : News 18)

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस पहली बार 26 नवम्बर 2014 को मनाया गया था (Image : News 18)

National Milk Day 2021: राष्ट्रीय दुग्ध दिवस पहली बार 26 नवंबर 2014 को मनाया गया था. ये दिन डॉ. वर्गीज कुरियन के सम्मान में मनाया जाता है. इस दिन को मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य हमारे जीवन में दूध के महत्व को प्रदर्शित करना है. साल 2014 में खाद्य और कृषि संगठन द्वारा डॉ. वर्गीज कुरियन की याद में नेशनल मिल्क डे की शुरुआत की गई. उन्हीं के अथक प्रयासों के कारण भारत देश दुनिया का सर्वाधिक दूध उत्पादन करने वाला देश बना.

अधिक पढ़ें ...

    National Milk Day 2021: दूध (Milk) हमारी ज़िदगी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. जिसका उपयोग हम कई तरह से करते हैं. दूध विटामिन ए का मुख्य स्त्रोत है. दूध एक मात्र पेय पदार्थ है जिसमें भरपूर पोषक तत्व साथ ही विटामिन ए, विटामिन डी, विटामिन बी12, आयरन, कैल्शियम, मैगनिशियम, जिंक, फॉसफोरस, ऑयोडीन, पोटेशियम, फोलेट्स, प्रोटीन आदि तत्व पाए जाते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत विश्व का नंबर वन दुग्ध उत्पादक देश है.

    डॉ. वर्गीज कुरियन (Dr Verghese Kurien) जिन्हें भारत में श्वेत क्रांति (Father of White Revolution) का जनक कहा जाता है. उनका जन्म 26 नवंबर को हुआ था और इसी दिन को हर साल देश भर में राष्ट्रीय दुग्ध दिवस (National Milk Day) के रूप में मनाया जाता है.

    कब और क्यों मनाया जाता है?
    भारत के अलावा दुनिया भर में 1 जून को विश्व दुग्ध दिवस (National Milk Day 2021) मनाया जाता है. लेकिन भारत में मनाए 26 नवंबर को मनाए जाने वाला राष्ट्रीय दुग्ध दिवस इससे काफी अलग है. राष्ट्रीय दुग्ध दिवस पहली बार 26 नवंबर 2014 को मनाया गया था. ये दिन डॉ. वर्गीज कुरियन के सम्मान में मनाया जाता है. इस दिन को मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य हमारे जीवन में दूध के महत्व को प्रदर्शित करना है.

    इसे भी पढ़ें : Delhi NCR Food Outlet: मक्खन-पनीर के ज़ायके से भरा टोमेटो सूप पीना है तो अवंतिका में इस जगह आएं

    साल 2014 में खाद्य और कृषि संगठन द्वारा डॉ. वर्गीज कुरियन की याद में नेशनल मिल्क डे की शुरुआत की गई. उन्हीं के अथक प्रयासों के कारण भारत देश दुनिया का सर्वाधिक दूध उत्पादन करने वाला देश बना.

    इसे भी पढ़ें : क्या वाकई रात 03-04 बजे के बीच होती हैं सबसे ज्यादा मौतें

    कौन थे डॉ. वर्गीज कुरियन?
    डॉ वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर 1921 को केरल के कोझिकोड में एक सीरियाई ईसाई परिवार में हुआ था. डॉ. कुरियन एक प्रसिद्ध भारतीय सामाजिक उद्यमी थे उन्होंने लगभग 30 संस्थाओं कि स्थापना की (AMUL, GCMMF, IRMA, NDDB) हैं. अमूल की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि थी की उन्होंने देश में गाय के बजाय भैंस के दूध का पाउडर उपलब्ध करवाया. आज दुनिया डॉ. वर्गीज कुरियन को ‘मिल्कमैन’ (Milkman) के नाम से याद करती है. भारत सरकार ने उन्हें साल 1999 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया था. इसके अलावा उन्हें फ्रांस के कृषि मंत्रालय ने साल 1989 ऑर्डर ऑफ एग्रीकल्चर मेरिट से नवाजा. उन्हें 1963 में रेमन मैग्सेसे अवार्ड भी मिला. 9 सितंबर 2012 में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.

    Tags: Lifestyle, Milk

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर