• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Navratri 2019: नवरात्रि में कलश स्थापना करने से पहले जान लें ये नियम

Navratri 2019: नवरात्रि में कलश स्थापना करने से पहले जान लें ये नियम

कलश स्थापना के कई नियम हैं, जिनके बारे में आपको ज़रूर पता होना चाहिए

कलश स्थापना के कई नियम हैं, जिनके बारे में आपको ज़रूर पता होना चाहिए

कलश स्थापना के कई नियम हैं, जिनके बारे में आपको ज़रूर पता होना चाहिए

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    आने वाली 29 तारीख से नवरात्रि शुरू हो जाएगी. वैसे तो साल में नवरात्रि दो दफे आती है. पहली चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा में तो दूसरा यानी शारदीय नवरात्रि आश्विन माह की शुक्ल प्रतिपदा से लेकर विजयदशमी को. दोनों ही नवरात्रि में पूजन विधि लगभग एक है, लेकिन आश्विन माह की नवरात्रि का विशेष महत्व है. इसलिए इसे महानवरात्रि भी कहा जाता है. शारदीय नवरात्रों का समापन दशमी तिथि को विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है.  इस बार शारदीय नवरात्रि 29 सितंबर से 8 अक्टूबर के बीच होने जा रही है. ऐसे में जो लोग इन नौ दिन उपवास  या कलश स्थापना करने की सोच रहे हैं, उनकी तैयारी अभी से शुरू हो गई होगी. कलश स्थापना के कई नियम हैं, जिनके बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए-

    - कलश स्थापना से पहले पूजा और स्थापना स्थल को गंगाजल से पवित्र कर लें

    - व्रत करने का संकल्प लेने के बाद, मिट्टी की वेदी बनाकर ‘जौ बोया’ जाता है. दरअसल हिंदूओं में किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत से पहले सर्वप्रथम भगवान श्री गणेश की पूजा की जाती है.

    - चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर देवी जी और गणेश गौरी जी और नवग्रह स्थापित करें. उसके साथ जमीन पर जहां जौ बोया है, वहां कलश स्थापित करें.

    - कलश पर मौली बांध दें और उस पर स्वास्तिक बना दें. कलश में 1 रुपए का सिक्का हल्दी की गांठ और दूर्वा डाल दें और पांच प्रकार के पत्तों से सजाएं.

    - कलश को सिकोरे से ढक दें और उसको चांवल से भर दें. इसके बाद उस पर नारियल स्थापित करें. कलश को भगवान विष्णु जी का ही रूप माना जाता है. पूजन में समस्त देवी-देवताओं का आह्वान करें. मिट्टी की वेदी पर सतनज और जौ बोये जाते हैं, जिन्हें दशमी तिथि को पारण के समय काटा जाता है. नौ दिन 'दुर्गा सप्तशती' का पाठ किया जाता है. पाठ पूजन के समय अखंड जोत जलती रहनी चाहिए.

    - नवरात्रि की पहली तिथि में दुर्गा मां के प्रारूप मां शैलपुत्री की आराधना की जाती है. इस दिन सभी भक्त उपवास रखते हैं और सायंकाल में दुर्गा मां का पाठ और विधिपूर्वक पूजा करके अपना व्रत खोलते हैं.

    Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज