लाइव टीवी
Elec-widget

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए अब न कॉन्डोम, न दवाई, सिर्फ एक बैन्डेज काफी!

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 11:32 AM IST
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए अब न कॉन्डोम, न दवाई, सिर्फ एक बैन्डेज काफी!
अगर आपको गलती से दवा खाना नहीं याद रहा तो इससे अनचाहा गर्भ हो सकता है, जिससे आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं.

वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कॉन्ट्रासेप्टिव पैच (बैन्डेज) निकाला है जो ठीक कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स की तरह ही काम कर सकेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 11:32 AM IST
  • Share this:
ज्यादातर महिलाएं अनचाहे गर्भ से बचने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करती हैं. अनचाहे गर्भ से बचने के लिए ये गोलियां लेना सबसे आसान उपाय है. एक तरफ जहां इन गोलियों के कुछ साइड इफेक्ट भी होते हैं वहीं इन्हें खाना याद रखना भी एक बहुत बड़ा काम बन जाता है. अगर आपको गलती से दवा खाना नहीं याद रहा तो इससे अनचाहा गर्भ हो सकता है, जिससे आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं. हालांकि महिलाओं को अब इन समस्याओं से जल्द ही निजात मिल सकेगी. आजतक में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार वैज्ञानिकों ने गर्भनिरोधक गोलियों का एक अच्छा विकल्प ढूंढ निकाला है.

इसे भी पढ़ेंः World Diabetes Day 2019: डायबिटीज की दवा है इस जानवर का दूध, जानें फायदे

महिलाओं के खून में एक कॉन्ट्रासेप्टिव ड्रग छोड़ता रहता है
वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कॉन्ट्रासेप्टिव पैच (बैन्डेज) निकाला है जो ठीक कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स की तरह ही काम कर सकेगा. ये पैच त्वचा से चिपक जाता है और धीरे-धीरे 30 दिनों तक महिलाओं के खून में एक कॉन्ट्रासेप्टिव ड्रग छोड़ता रहता है. आपको बता दें कि छोटे से इस डिवाइस में छोटी-छोटी कुछ सुइयां लगी हैं जो स्किन से चिपकते ही कॉन्ट्रासेप्टिव निकालना शुरु कर देती हैं. जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने इसका प्रयोग सबसे पहले चूहों पर किया था जिसे पूरी तरह से सुरक्षित पाया गया है. इसके बाद ये परीक्षण महिलाओं पर किया गया, जिसके सकारात्मक परिणाम मिले हैं.

महिलाएं सही समय पर गर्भनिरोधक गोलियां नहीं लेतीं
जिन 10 महिलाओं पर इसका इस्तेमाल किया गया था, उनमें से किसी ने ये शिकायत नहीं की कि पैच लगाने से उनको किसी तरह का कोई नुकसान पहुंचा है. केमिकल और बायोमॉलिक्युलर इंजीनियरिंग के प्रोफेसर मार्क प्रुस्निट्ज सहित दूसरे शोधकर्ताओं का भी यही कहना है कि ये कॉन्ट्रासेप्टिव पैच उन महिलाओं के लिए बहुत लाभदायक हो सकता है, जो रोज गर्भ निरोधक दवा लेकर थक चुकी हैं. आपको बता दें कि ज्यादातर महिलाएं सही समय पर गर्भनिरोधक गोलियां लेती ही नहीं हैं, जिससे इन गोलियों का असर वैसे भी कम हो जाता है. इन्ही वजहों से लंबे समय तक चलने वाले गर्भनिरोधक पैच को गाइनैकॉलजिस्ट ने भी आसानी से मंजूरी दे दी है.

इसे भी पढ़ेंः क्या आप अपने मोटापे से परेशान हैं? अब बैंगन वजन घटाने में करेगा मदद
Loading...

कॉन्ट्रासेप्टिव पैच के नीचे सूइयां लगाई गईं हैं
दरअसल त्वचा की बनावट काफी पतली होती है जिसमें सूइयां आसानी से अंदर चली जाती हैं, जिसकी वजह से ही कॉन्ट्रासेप्टिव पैच के नीचे सूइयां लगाई गईं हैं. सिडनी विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और पीडियाट्रिक्स रेचल स्किनर का कहना है कि 'माइक्रोनीडल पैच से लोगों तक आम और एक जरूरी दवा पहुंच सकेगी'. विशेष रूप से युवा महिलाओं और कम आय वाले देशों की महिलाओं के लिए यह काफी अम कदम है जहां महिलाओं को आसानी से गर्भनिरोधक गोलियां मिल ही नहीं पाती हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 11:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com