Home /News /lifestyle /

रात में अच्छी नींद लेने वाले नवजात बच्चों में मोटापे की आशंका कम होती है: स्टडी

रात में अच्छी नींद लेने वाले नवजात बच्चों में मोटापे की आशंका कम होती है: स्टडी

जो नवजात (Newborn) रात में ज्यादा सोते और कम जागते हैं, उनमें बालपन यानी शैशवावस्था में मोटापे  की आशंका कम होती है. (photo-shutterstock.com)

जो नवजात (Newborn) रात में ज्यादा सोते और कम जागते हैं, उनमें बालपन यानी शैशवावस्था में मोटापे की आशंका कम होती है. (photo-shutterstock.com)

Good Night Sleep Reduce Risk Of Obesity : अमेरिका के ब्रिघम एंड वीमेंस हॉस्पिटल (Brigham and Women’s Hospital), मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल (Massachusetts General Hospital) और उनके सहयोगियों से जुड़े रिसर्चर्स की एक नई स्टडी में अहम जानकारी सामने आई है, इसके मुताबिक जो नवजात (Newborn) रात में ज्यादा सोते और कम जागते हैं, उनमें बालपन यानी शैशवावस्था (infancy) में मोटापे (Obesity) की आशंका कम होती है. इस रिसर्च के नतीजों को ऑक्सफॉर्ड एकेडमी (Oxford Academy) की पत्रिका ‘स्लीप (Sleep)’ प्रकाशित किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    Good Night Sleep Reduce Risk Of Obesity : रात को अच्छी नींद लेना मानसिक और शारीरिक सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है, ये बात तो लंबे समय से कही जा रही है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि जीवन के शुरुआती महीनों यानी जब हम नवजात होते हैं उस वक्त की नींद कितनी अहम होती है? अब एक नई स्टडी में सामने आया है कि ऐसे नवजात जो रात में अच्छी नींद लेते हैं, उनमें अधिक वजन की समस्या कम होती है. अमेरिका के ब्रिघम एंड वीमेंस हॉस्पिटल (Brigham and Women’s Hospital), मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल (Massachusetts General Hospital) और उनके सहयोगियों से जुड़े रिसर्चर्स की एक नई स्टडी में अहम जानकारी सामने आई है, इसके मुताबिक जो नवजात (Newborn) रात में ज्यादा सोते और कम जागते हैं, उनमें बालपन यानी शैशवावस्था (infancy) में मोटापे (Obesity) की आशंका कम होती है. इस रिसर्च के नतीजों को ऑक्सफॉर्ड एकेडमी (Oxford Academy) की पत्रिका ‘स्लीप (Sleep)’ प्रकाशित किया गया है.

    ब्रिघम के डिवीजन आफ स्लीप एंड सर्कैडियन डिसआर्डर्स (Brigham’s Division of Sleep and Circadian Disorders) में सीनियर फिजिशियन और स्टडी की सह लेखिका सुसन रेडलाइन (Susan Redline) के अनुसार, ‘हमारी नई स्टडी में पता चला है कि न सिर्फ रात में नींद की कमी, बल्कि लंबे समय तक जागे रहने से भी पहले 6 महीने के दौरान शिशुओं में मोटापे का खतरा बढ़ जाता है.’ रेडलाइन व उनके सहयोगियों ने वर्ष 2016-18 के बीच मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल (Massachusetts General Hospital) में जन्मे 298 नवजातों (newborns) पर ये स्टडी की.’

    यह भी पढ़ें-
    Symptoms of Headache: सिर दर्द के इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज, जान लें कब जाना चाहिए हॉस्पिटल

    कैसे हुई स्टडी
    टीम ने एंकल एक्टिग्राफी वॉच (ankle actigraphy watch) के जरिये नवजातों की हरकतों पर नजर रखी. एंगल एक्टिग्राफी वॉच एक प्रकार का उपकरण है, जिसके जरिये बेबी एक्टिविटी और आराम के कई दिनों का ब्योरा जुटाया जा सकता है. बच्चों के विकास का आकलन करने के लिए साइंटिस्टों ने शिशु की ऊंचाई और वजन का आकलन किया और इसके जरिये उनका बॉडी मास्क इंडेक्स (बीएमआइ) तैयार किया.

    यह भी पढ़ें-
    Sleeplessness In Cold & Cough: सर्दी-जुकाम की वजह से रात को नहीं आती नींद, तो फॉलो करें ये टिप्स

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के ग्रोथ चार्ट (Growth Chart) के 95 परसेंटाइल या उससे ज्यादा पाए जाने पर शिशुओं को मोटापे की श्रेणी में वर्गीकृत किया गया. रिसर्चर्स ने पाया कि अगर बच्चा एक घंटा भी अतिरिक्त सोता है, तो उसके मोटापाग्रसित (obese) होने का खतरा 26 फीसद कम हो जाता है और जो बच्चे रात में बहुत कम जागते हैं, उनके मोटा होने का खतरा अत्यंत कम हो जाता है. साइंटिस्टों का मानना है कि इस पहलू पर सेल्फ रेगुलेशन की भी जरूरत है, क्योंकि मोटापे का संबंध अत्यधिक खानपान से भी हो सकता है.

    Tags: Child Care, Health, Health tips, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर