लाइव टीवी
Elec-widget

हैदराबाद और रांची की बलात्‍कार की घटनाओं पर बोलीं महिला पत्रकार, 'सोच बदलो हमें नहीं'

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 6:12 PM IST
हैदराबाद और रांची की बलात्‍कार की घटनाओं पर बोलीं महिला पत्रकार, 'सोच बदलो हमें नहीं'
बलात्‍कार मामले पर महिला पत्रकारों ने रखी अपनी बात.

शुक्रवार को हैदराबाद और रांची शहरों में बलात्‍कार की घटनाएं सामने आई हैं. रांची में इस घटना का शिकार हुई लड़की लॉ की स्‍टूडेंट थी, जबकि हैदराबाद की लड़की वेटेनरी डॉक्‍टर थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 6:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. शुक्रवार को देश के सामने बलात्‍कार की दो दिल दहला देने वाली घटनाएं सामने आईं हैं. इन घटनाओं ने एक बार फिर देशभर में महिलाओं की सुरक्षा और उससे जुड़े सवाल सामने खड़े कर दिए हैं. एक घटना जहां हैदराबाद की एक 22 साल की डॉक्‍टर के साथ हुई है, तो वहीं दूसरी घटना रांची की एक लॉ स्‍टूडेंट के साथ घटी है. इन दोनों ही घटनाओं पर उठे सवालों पर न्‍यूज 18 के न्‍यूज रूम में महिला पत्रकारों ने अपनी बात रखी.

रांची में लॉ कॉलेज से 4 किमी पर हुई घटना
ये वारदात मंगलवार रात की है. एसपी (ग्रामीण) ऋषभ कुमार झा के मुताबिक, छात्रा शाम 5:30 बजे अपने सहपाठी के साथ बस स्टॉप पर बैठी थी. तभी बाइक पर आए दो युवकों ने तमंचे के बल पर उससे छेड़छाड़ की. विरोध करने पर उसके सहपाठी से मारपीट की और छात्रा को अगवा कर लिया. अगवा करने के बाद इन दोनों अपराधियों ने अपने कुछ साथियों को बुलाया, इसके बाद वे छात्रा को ईंट भट्ठे पर ले गए और गैंग रेप किया. ताजा जानकारी के अनुसार पुलिस ने 12 आरोपियों को पकड़ लिया है.

वेटेनरी डॉक्‍टर की स्‍कूटी हो गई थी पंक्‍चर

वहीं 22 साल की प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) वेटेनरी डॉक्टर हैं, वो बुधवार को कोल्लुरु स्थित पशु चिकित्सालय अपनी ड्यूटी पर निकली थीं. उन्होंने अपनी स्कूटी टॉल प्लाजा के पास पार्क की थी, जब वह रात को घर वापस आ रहीं थी तो उन्होंने देखा कि उनकी स्कूटी पंक्चर है. स्कूटी को पंक्चर देख उन्होंने तुरंत अपनी बहन को फोन किया. रात का समय होने के कारण प्रीति (बदला हुआ नाम) ने बहन को बताया, 'गाड़ी खराब हो गई है, मुझे यहां डर लग रहा है. आस-पास सिर्फ ट्रक ही दिख रहें हैं.' इस बात पर उनकी बहन ने स्कूटी वहीं छोड़ कैब से घर आने के लिए कहा. जब वह घर नहीं पहुंची, तब घरवालों ने उन्हें कॉल किया, तो फोन बंद आ रहा था. इस पर वो लोग खुद टॉल प्लाजा तलाश के लिए निकल गये. टॉल प्लाजा पहुंचने पर वहां उन्हें कोई नहीं मिला. इसके बाद परिजनों ने रात 11 बजे पुलिस के पास शिकायत दर्ज की. गुरुवार को पुलिस को प्रीति की बॉडी मिली.

शिमला का कोटखाई गैंगरेप और मर्डर केस फिर चर्चा में आ गया है.

इन दो वीभत्‍स घटनाओं पर बात करते हुए न्‍यूज18 डिजिटल की न्‍यूज एडिटर पूजा प्रसाद ने कहा, 'ये डराने वाला है कि आखिर क्‍यों महिलाएं सड़कों पर बिना डरे नहीं निकल सकतीं. हर महिला को ये हिदायद दी जाती है कि हमें घर से बाहर निकलते हुए किसी आदमी के ही साथ जाना चाहिए, जबकि रांची वाली घटना में तो वह लॉ स्‍टूडेंट अकेली नहीं थी. उसके साथ क्‍या हुआ? ये बेकार के तर्क हैं, हमें एजुकेशन स्‍तर पर इन चीजों को समझाने की जरूरत है.'
Loading...

वहीं मनीकंट्रोल डॉट कॉम की एंकर साक्षी बत्रा ने कहा, 'मेरे साथ कुछ चौंकाने वाले आंकड़े हैं, जो ये साफ करते हैं कि आप घरवालों के साथ भी उतने सुरक्षित नहीं है, जितना आप समझती हैं. जैसे 2017 में 32,559 रेप के मामले हुए जिनमें से 93 प्रतिशत मामलों में आरोपी कोई न कोई जानकार था. हम सिर्फ लड़कियों को समझाते हैं लेकिन दरअसल हमें बदलने की जरूरत नहीं है, सोच बदलने की जरूरत है.'

न्‍यूज18 हिंदी डिजिटल की मनोरंजन टीम की हेड दीपिका शर्मा ने कहा, 'हमें ये समझने की जरूरत है कि हम बलात्‍कार का शिकार हुई लड़की को इन घटनाओं के लिए ब्‍लेम करना बंद करें. जरूरी है कि हम अपने बेटों को सिखाएं कि उन्‍हें सड़कों पर कैसे बिहेव करना है, ताकि हमारी लड़कियां सुरक्षित रहें.' वहीं करियर टीम की हमारी सहयोगी नंदनी दुबे ने कहा, 'जब भी ये मामले आते हैं, ऐसी खूब बातें होती हैं लेकिन उसके बाद क्‍या होगा. हमें ऐसी घटनाओं का इंतजार क्‍यों करना है.'



बता दें कि हैदराबाद की घटना में भी पुलिस ने 4 आरोपियों को पकड़ लिया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 6:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...