लाइव टीवी

ऑफिस के काम को बेहतर करने में मदद करेगी वियाग्रा, जानिए क्या है मामला

News18Hindi
Updated: January 17, 2020, 4:15 PM IST
ऑफिस के काम को बेहतर करने में मदद करेगी वियाग्रा, जानिए क्या है मामला
खराब सेक्स परफॉर्मेंस वाले पुरुषों की तुलना में बेहतर सेक्स परफॉर्मेंस देने वाले लोगों की प्रोडक्टिविटी दोगुनी होती है.

वियाग्रा का नया अवतार आपके वर्कप्लेस यानी कि ऑफिस में आपकी परफॉर्मेंस को निखारने में काफी मदद करेगा...

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2020, 4:15 PM IST
  • Share this:
स्टैमिना बढ़ाने के लिए पूरी दुनिया में वियाग्रा जैसे ड्रग का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन पिछले कुछ समय से इस तरह की दवाइयों से लोगों का भरोसा उठने लगा है. ऐसे कई शोध हुए हैं जो दवाइयों के जरिए स्टैमिना बढ़ाने के दावों को खारिज करते हैं. ऐसे में लोगों का विश्वास जीतने के लिए वियाग्रा की पेरेंट कंपनी एक नया प्रयोग करने जा रही है. दरअसल, वियग्रा को अब एक नए रूप में पेश किया जा रहा है. वियाग्रा का नया अवतार न सिर्फ आपका स्टैमिना सुधारेगा बल्कि आपके वर्कप्लेस यानी कि ऑफिस में भी काम आएगा.

इसे भी पढ़ेंः राजमा खाने के शौकीन हैं तो पहले पढ़ लें ये खबर फिर लें फैसला

लोग ऑफिस में होते हुई भी कहीं खोए रहते हैं 
अमेरिका की फार्मेसी कंपनी Pfizer के वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि लोगों के सेक्सुअल डिसफंक्शन का दफ्तर में के 'एब्जेंटिज्म' (किसी और दुनिया में खोए रहना) और 'प्रेजेंटिज्म' से सीधा संबंध होता है. सेहत से जुड़ी समस्याओं के चलते लोग ऑफिस में होते हुई भी किसी और चीजों के बारे में सोच रहे होते हैं. जिस वजह से वो पूरी तरह से काम पर ध्यान नहीं दे पाते हैं. वह फिजिकली तो ऑफिस में मौजूद होते हैं पर उनका दिमाग कहीं और होता है.



बिना किसी वजह के ऑफिस से गायब रहना
इस बात को लेकर 8 देशों के कुल 52,697 पुरुषों पर एक शोध किया गया है. शोध में 7 फीसदी लोग एब्जेंटिज्म का शिकार पाए गए जिनमें से 3 प्रतिशत लोग बिना किसी वजह के ऑफिस से गायब रहते हैं. स्टडी में दावा किया गया है कि खराब स्टैमिना वाले पुरुषों की तुलना में बेहतर स्टैमिना वाले लोगों की प्रोडक्टिविटी दोगुनी होती है. जबकि 22.5 फीसदी पुरुष 'प्रेजेंटिज्म' का शिकार पाए गए जिनमें से कुल 10.1 फीसदी बिना किसी कारण वर्कप्लेस से मानसिक तौर पर गायब रहते हैं.

वर्क परफॉर्मेंस पर असर पड़ना
अमेरिका में इस डिसफंक्शनैलिटी का असर लोगों की ऑफिस लाइफ पर बुरी तरह से पड़ रहा है. सेक्सुअल डिसफंक्शन आपकी वर्क परफॉर्मेंस को खराब कर रहा है. हालांकि ये बात सुनने में आपको शायद थोड़ी अजीब लग रही हो. आपको बता दें कि पहले भी कई रिसर्च में जोड़ों में दर्द, एलर्जी और डिप्रेशन (मानसिक अवसाद) की वजह से वर्क परफॉर्मेंस पर असर पड़ने की बात कही गई है. इस शोध में वियाग्रा को इरेक्टाइल डिसफंक्शन के इलाज का सबसे बेहतर ड्रग बताया गया है. लोगों में बढ़ते इरेक्टाइल डिसफंक्शन से राहत मिलने के बाद कंपनी के मालिक का मुनाफा भी तेजी से बढ़ सकता है.

वियाग्रा दुनिया से खोने की कगार पर था
इस बात पर भी गौर करना जरूरी है कि इस स्टडी में हिस्सा लेने वाले शोधकर्ता वियाग्रा बनाने वाली कंपनी से जुड़े हुए हैं. शोध में इस ड्रग को इरेक्टाइल डिसफंक्शन को दूर करने की सबसे प्रभावी दवा माना गया है. यह शोध ऐसे वक्त में किया गया है जब वियाग्रा दुनिया से खोने की कगार पर था. साल 2019 की शुरुआत में ही अमेरिका में इसकी बिक्री में 9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी. 2019 के समाप्त होते-होते कई बाजारों से यह ड्रग पूरी तरह गायब हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंः आलू के छिलके के बहुत हैं फायदें, ये 5 काम जान लेंगे तो कभी नहीं करेंगे फेंकने की गलती

वियाग्रा का नया रूप मददगार साबित हो सकता है
शोध में यह भी दावा किया गया है कि जब तक लोगों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी शिकायतें सामने आती रहेंगी तब तक इसके इलाज के लिए लोग वियाग्रा का इस्तेमाल करते रहेंगे. यह शोध 'द इंटरनेशनल जर्नल ऑफ क्लीनिक प्रैक्टिस' में प्रकाशित हुआ है. शोध के अनुसार, इरेक्टाइल डिसफंक्शन का असर इंसान के काम पर पड़ता है, इसलिए लंबे वक्त तक किसी ऑफिस में सेवाएं देने और खुद को बूस्ट करने के लिए वियाग्रा का नया रूप मददगार साबित हो सकता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 11:43 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर