लाइव टीवी

जब नहीं थी कोई भाषा तो साथी को कैसे रिझाते थे हमारे पूर्वज, नए अध्ययन में हुआ खुलासा

News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 11:46 AM IST
जब नहीं थी कोई भाषा तो साथी को कैसे रिझाते थे हमारे पूर्वज, नए अध्ययन में हुआ खुलासा
मुस्कुराकर साथी को सेक्स के लिए आकर्षित करते थे पूर्वज

मिलान यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक, इसी व्यवहार से हमारे पूर्वजों के 'घरेलू जीवन' में ढलने की शुरुआत हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 11:46 AM IST
  • Share this:
आपको यकीन हो या न हो लेकिन हमारे पूर्वज प्रेम हासिल करने के मामले में हमसे ज्यादा स्मार्ट थे. एक नए अध्ययन के मुताबिक, निएंडरथल लोग जानते थे कि साथी को आकर्षित करने के लिए चेहरे के हाव भाव कैसे होने चाहिए और मुस्कराहट कैसी होनी चाहिए. मिलान यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं (University of Milan) ने निएंडरथल मानवों के जेनेटिक (अनुवांशिक) सैंपल लिए. सैंपल की जांच में यह बात सामने आई कि जीन म्यूटेशन के कारण मानव संभवत: 'अपने लिए कम आक्रामक साथी चुनने के लिए प्रेरित हुआ. इसी व्यवहार से हमारे पूर्वजों के 'घरेलू जीवन' में ढलने की शुरुआत हुई.

विज्ञान एडवांस में प्रकाशित अध्ययन का हवाला देते हुए sciencemag.org में इस बात का जिक्र है कि आधुनिक मनुष्य ने अपने विलुप्त हो चुके पूर्वजों (निएंडरथल और डेनिसोवन्स) से अलग होने के बाद खुद को घरेलू माहौल में जीने के लिए ढाला.

इसे भी पढ़ें: गर्भनिरोधक गोली खाने से पहले क्या आप भी नहीं सोचतीं एक भी बार? तो पहले जान लें ये जरूरी बात

इटली में मिलान यूनिवर्सिटी में molecular biologist Giuseppe Testa और उनके सहकर्मी  BAZ1B नाम के जीन तंत्रिका शिखा कोशिकाओं पर अध्ययन कर इस नतीजे पर पहुंचे हैं. दरअसल वह इस बात से पहले ही अवगत थे कि अधिकांश लोगों में इसी जीन की दो कॉपी पाई जाती है और यही  इंसानों की सामान्य गतिविधि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

गौरतलब है कि BAZ1B की एक कॉपी, विलियम्स-बेयर्न सिंड्रोम से प्रभावित लोगों में नहीं होती है. यह एक ऐसा विकार जो संज्ञानात्मक हानि (cognitive impairments) और दोस्ती से बहुत ज्यादा जुड़ा हुआ है. वैज्ञानिकों ने इस शोध के लिए दो निएंडरथल और एक डेनिसोवैन की स्टेम कोशिकाओं (stem cells) का जेनेटिक डेटा निकाला. मनुष्य की यह दोनों प्राचीन प्रजातियां एक ही समय में पाई जाती थीं. NYPost की रिपोर्ट के मुताबिक़, BAZ1B वहीं जीन है जिसके जरिए कुत्ते अपनी आंखों के हाव भाव के जरिये अपने एहसास जता पाते हैं, लेकिन भेड़िये ऐसा नहीं कर पाते.

इसे भी पढ़ें: चिंपैंजी को दिखा साबुन तो धोने लगा कपड़े, वायरल हो रहा है Video

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 11:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर