Home /News /lifestyle /

भारत में साल 2016 में खराब मौसम की वजह से 1,600 से लोगों की मौत

भारत में साल 2016 में खराब मौसम की वजह से 1,600 से लोगों की मौत

pic : AFP

pic : AFP

देश में पिछले वर्ष खराब मौसम की वजह से 1,600 से अधिक लोगों की मौत हुई. इनमें 40 फीसदी लोगों की मौत अत्यधिक गर्मी की वजह से हुई.

  • Bhasha
  • Last Updated :
    देश में पिछले वर्ष खराब मौसम की वजह से 1,600 से अधिक लोगों की मौत हुई. इनमें 40 फीसदी लोगों की मौत अत्यधिक गर्मी की वजह से हुई.

    इसके बाद बाढ़ और बिजली गिरने से सबसे अधिक लोगों की मौत हुई. मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि वर्ष 2016 को भारत के साथ पूरे विश्व में सबसे गर्म वर्ष के रूप में दर्ज किया गया. देश में सबसे अधिक तापमान राजस्थान के फलौदी में 51 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

    आईएमडी के अनुसार, सर्दियों के मौसम का महीना जनवरी और फरवरी भी गर्म रहा. खराब मौसम की वजह से सबसे ज्यादा लोगों की मौत बिहार, गुजरात और महाराष्ट्र में हुई. इन तीनों राज्यों में 552 लोगों की मौत हुई.

    आईएमडी द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार इनमें से 40 फीसदी लोगों की मौत अत्यधिक गर्मी की वजह से हुई और इससे देश में 700 से अधिक लोगों की मौत हुईं. अत्यधिक गर्मी की वजह से एक साथ तेलंगाना और आंध्रप्रदेश में 400 से अधिक लोगों की मौत हुई.

    अत्यधिक गर्मी की वजह से गुजरात और महाराष्ट्र में क्रमश: 87 और 43 लोगों की मौत हुई. देश में सर्दी की वजह से 53 लोगों की जान गई.

    बिहार, ओडिशा, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने से 415 से अधिक लोगों की मौत हुई. सिर्फ ओडिशा में बिजली गिरने से 132 लोगों की मौत हुई जबकि महाराष्ट्र में 43 लोगों की मौत हुई.

    लगातार दो सूखे के बाद पिछले वर्ष भारत में सामान्य मानसून था लेकिन देश के कई हिस्सों में भारी बारिश हुई जिसकी वजह से कई क्षेत्रों में बाढ़ आ गया था.

    सिर्फ बिहार में बाढ़ और आंधी की वजह से 475 से अधिक लोगों की मौत हुई. 25 जुलाई से तीन सितंबर के बीच बाढ़ की वजह से करीब 146 लोगों की मौत हुई.

    वर्ष 2016 में तमिलनाडु में चक्रवाती तूफान, वरदा की वजह से 18 लोगों की मौत हुई. आईएमडी के महानिदेशक के जे रमेश ने कहा, ‘‘हमने विशेष रूप से चक्रवात और भारी बारिश की वजह से हाने वाले नुकसान को कम करने की कोशिश की. उदाहरण के लिए वरदा और भारी बारिश के सटीक पूर्वानुमान से नुकसान को कम करने में मदद मिली. लेकिन जब मामला आकाशीय बिजली गिरने का होता है तब यह मुश्किल हो जाता है.’’

    Tags: India

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर