अपना शहर चुनें

States

सूर्य सप्तमी 2019: आज इस शुभ मुहूर्त में करें सूर्य भगवान की पूजा, घर में भरा रहेगा धन-धान्य

सूर्य सप्तमी के दिन इस विधि से करें पूजा, बरसेगा पैसा
सूर्य सप्तमी के दिन इस विधि से करें पूजा, बरसेगा पैसा

Bhanu Saptami 2019, सूर्य सप्तमी: इस विधि से सूर्य भगवान की पूजा करने पर मिलेगा मनचाहा फल...

  • Share this:
Bhanu Saptami 2019, सूर्य सप्तमी: आज 26 मई, रविवार को सूर्य सप्तमी (Bhanu Saptami) मनाई जा रही है. यह हर साल ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाई जाती है. भानु सूर्य भगवान को कहा जाता है. हिंदू धर्म में सूर्य देव को ऊर्जा का प्रतीक कहा जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन अगर कोई भक्त पूरे मन से सूर्य देव की उपासना करे तो उसके सभी प्रकार के पाप कर्मों और दुखों का नाश होता है. सूर्य देव को सभी ग्रहों में श्रेष्ठ माना गया है. आज के दिन जो भी भक्त सूर्य देव की पूजा अर्चना करते समय आदित्य ह्रदयं और अन्य सूर्य स्त्रोत का पाठ करेंगे और इसे इसे सुनने वालों को भी शुभ फल की प्राप्ति होगी. हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि सूर्य देव को अर्घ्य देने से याददाश्त अच्छी होती है और मन शांत होता है.

ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि को सुबह उठकर जो भी भक्त पूरे विधि-विधान के साथ भानु सप्तमी का व्रत रखता है उसे मनचाहा फल मिलता है. इस दिन जो भी भक्त प्रयागराज में संगम में डुबकी लगा पाते हैं उन्हें काफी पुण्य फल की प्राप्ति होती है. ऐसा भी माना जाता है कि जो भक्त भी इस दिन गंगा स्नान करके सूर्य भगवान को जल अर्पित करता है उसकी आयु लंबी होती है, उसकी काया निरोगी रहती है और उसे कभी भी धन की कमी नहीं होती है.

मनचाहे साथी से शादी के लिए करें पान के पत्ते का ये उपाय, पूरे होंगे हर काम!



भानु सप्तमी व्रत विधि:
इस दिन सुबह उठकर नित्यकर्म कर स्नान करने के बाद पूरे मन से सूर्य भगवान की पूजा करें. इसके बाद एक तांबे के बर्तन में साफ पानी भरकर तथा उसमें लाल चंदन, अक्षत, लाल रंग के फूल डालकर सूर्य देव को 'ॐ सूर्याय नमः' कहते हुए अर्घ्य दें और उनसे हाथ जोड़कर प्रार्थना करें कि वो अपनी कृपा आपपर बनाए रखें. जो भक्त भी इस विशेष दिन दान-पुण्य करते हैं उनके घर में हमेशा धन-धान्य भरा रहता है और उनकी यादाश्त अच्छी होती है.

इस मंत्र से प्रसन्न होंगे सूर्य देव:
भानु सप्तमी के दिन सूर्य देव की पूजा करते समय आप ऊँ घृणि सूर्याय नम:, ॐ सूर्याय नम:, नमस्ते रुद्ररूपाय रसानां पतये नम:, वरुणाय नमस्तेsस्तु मंत्र का पाठ कर सकते हैं. यह सूर्य देव के ही मंत्र हैं.

आज ही छोड़ दें ये आदतें, नहीं तो बर्बाद हो जाएगी शादीशुदा जिंदगी

भानु सप्तमी व्रत का महत्व:
हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार, भानु सप्तमी के दिन हवन, मंत्रो का पाठ, दान-पुण्य करने से कई गुना फल की प्राप्ति होती है. इस दिन जो भी भक्त पूरे मन से विधिवत तरीके से सूर्य देव की पूजा अर्चना करता है वो कभी अंधा, दरिद्र, दु:खी और शोकग्रस्त नहीं हो सकता.

लाइफस्टाइल, खानपान, रिश्ते और धर्म से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज