होम /न्यूज /जीवन शैली /कभी कभी बच्‍चों के लिए बोरियत भी है जरूरी, सीखते हैं खाली वक्‍त का सही इस्‍तेमाल करना

कभी कभी बच्‍चों के लिए बोरियत भी है जरूरी, सीखते हैं खाली वक्‍त का सही इस्‍तेमाल करना

बच्‍चों को हर वक्‍त बिजी रखने के अपने नुकसान भी हैं. Image : Canva

बच्‍चों को हर वक्‍त बिजी रखने के अपने नुकसान भी हैं. Image : Canva

दरअसल, हम अपने बच्‍चों की दुनिया को मजेदार बनाए रखने के लिए उन्‍हें कई तरह की गतिविधियों में व्‍यस्‍त रखने का प्रयास कर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बोरियत दूर करने के लिए खाली वक्‍त का सही इस्‍तेमाल करना वे सीख सकते हैं.
हर वक्‍त बिजी रहने या एक्टिविटीज़ में शामिल रहने से वे सोशल नहीं हो पाते हैं.

Benefits Of Boredom For Kids: अधिकतर घरों में बच्‍चे हर वक्‍त माता पिता से बोर होने की शिकायत करते रहे हैं. ऐसे में बच्‍चों को इंगेज रखना और उन्‍हें बेहतर से बेहतर एक्टिविटीज में भाग दिलाना गुड पेरैंटिंग की पहचान बन गई है. लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि बच्‍चों को कभी कभी बोर होने देना उनके सोशल स्किल को बढ़ाने के लिए बहुत ही जरूरी होता है. दरअसल जब बच्‍चे कुछ भी नहीं करते हैं और उनके पास करने के लिए किसी तरह का स्‍पेशल एक्टिविटी नहीं होता तो वे अपने खाली समय को सही तरीके से यूज करना सीख पाते हैं. तो आइए जानते हैं कि बच्‍चों के लिए कभी कभी बोर होना क्‍यों जरूरी होता है.

क्‍या कहना है विशेषज्ञों का
सीताराम भरतिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ साइंस एंड रिसर्च के एसोसिएट कंसल्‍टेंट पीडिएट्रिक डॉ. प्रशांत त्‍यागी ने इस विषय पर बताया कि दरअसल, हम अपने बच्‍चों की दुनिया को मजेदार बनाए रखने के लिए उन्‍हें कई तरह की गतिविधियों में व्‍यस्‍त रखने का प्रयास करते हैं और उनके जीवन में ‘नो डल मोमेंट’ ना आए, इसका हर संभव प्रयास करते हैं. लेकिन पेरैंटिंग का ये तरीका बच्‍चों के लिए कई बार नुकसानदायक भी हो सकता है. ऐसा करने से बच्‍चे यह सीखने से वंचित रह जाते हैं कि खाली वक्‍त में बोरियत से बचने के प्रोडक्टिव उपाय क्‍या हो सकते  हैं या इस समय को सही तरीके से किस तरह इस्‍तेमाल किया जा सकता है.

 बोरियत से बचने के लिए क्‍या सिखाएं
डॉ. त्‍यागी के मुताबिक, अगर आपका बच्‍चा कभी बोर होने की शिकायत लेकर आपके पास आए तो आप उन्‍हें कुछ काम पूरा कर लेने और समय का सही इस्‍तेमाल कर बोरियत को दूर करने का तरीका बता सकते हैं. मसलन, बाहर सूख चुके कपड़ों को उठाना और फोल्‍डकर जगह पर रखना, ब्रेकफास्‍ट, लंच या डिनर के लिए टेबल तैयार करने में मदद करना, खाने के बाद टेबल की सफाई में मदद करना, अपनी चीजों को अनपैक करना या कहीं जाना हो तो पहले से ही अपनी पैकिंग शुरू कर देना आदि. इस तरह आप उन्हें बिजी रहना और टीवी, मोबाइल, वीडियोगेम आदि हर वक्‍त इस्‍तेमाल करने से भी रोक सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : Genius है आपका बच्‍चा तो इस तरह करें उसकी परवरिश, हर क्षेत्र में रहेगा आगे

ये भी पढ़ें: बच्चों के ऑनलाइन गेम खेलने की आदत से हैं परेशान, इन तरीकों से मिलेगी राहत

 

Tags: Lifestyle, Parenting, Parenting tips

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें