होम /न्यूज /जीवन शैली /Hindi Diwas 2022: बच्‍चों को जरूर पढ़ाएं हिंदी की ये 5 किताबें, परीक्षा में आएंगे सबसे ज्यादा नंबर

Hindi Diwas 2022: बच्‍चों को जरूर पढ़ाएं हिंदी की ये 5 किताबें, परीक्षा में आएंगे सबसे ज्यादा नंबर

कहानी की किताबें बच्‍चों की भाषा को सुधारने का अच्‍छा जरिया हो सकती हैं. (Image- Canva)

कहानी की किताबें बच्‍चों की भाषा को सुधारने का अच्‍छा जरिया हो सकती हैं. (Image- Canva)

हिंदी दिवस के अवसर पर आप अपने बच्‍चों को हिदी की कुछ किताबें तोहफे में दे सकते हैं, जिससे उनकी भाषा को सुधारने में मदद ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

भाषा में सुधार के लिए जरूरी है कि कहानी का किरदार दिलचस्प हो.
किताबों में प्रयोग में होने वाली भाषा आसान होने से रुचि बढ़ जाती है.

Best Books For Kids On Hindi Diwas: कई बच्‍चों के अंग्रेजी और गणित में बेहतरीन नंबर आते हैं, लेकिन वे हिंदी में अच्छा प्रदर्शन  नहीं कर पाते. बचपन से हिंदी बोलने वाले बच्चों को हिंदी भाषा में परेशानी होना अच्छा संकेत नहीं होता. इसकी एक वजह उनकी किताबें और घर में सही हिंदी भाषा का इस्‍तेमाल ना किया जाना भी हो सकता है. ऐसे में अगर आप उन्‍हें हिंदी की कुछ अच्छी किताबें उपलब्‍ध कराएं, जो ना केवल भाषा और मात्राओं के मामले में उनके लिए आसान हों, बल्कि मजेदार भी हों, तो बच्‍चे उसे बड़े रुचि के साथ पढ़ेंगे. इससे उनकी भाषा में तेजी से सुधार होगा. हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है. इस खास अवसर पर आपको हिंदी की 5 ऐसी किताबों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें माता-पिता अपने बच्‍चों को दिलवा सकते हैं.

मालगुड़ी की कहानियां
जाने माने लेखक आरके नारायण की लिखी ये फेमस कहानी संग्रह मालगुड़ी की कहानियां क्‍लासिक बुक है, जिसे जमाने से बच्‍चे पढ़ते आ रहे हैं. इसका मुख्‍य किरदार कक्षा 2 का छात्र स्‍वामी है, जिसके जीवन के इर्दगिर्द कहानी चलती है. यह कहानी बेहद रुचिपूर्ण है.

इसे भी पढ़ें : हिंदी दिवस पर बच्चों को ऐसे समझाएं अपनी मातृभाषा की अहमियत

पद्मा चली अंतरिक्ष में
श्‍वेता प्रकाश की लिखी पद्मा चली अंतरिक्ष में एक मजेदार कहानी की किताब है, जिसे तूलिका प्रकाशन ने प्रकाशित किया है. इसे बच्‍चों की पढ़ने की क्षमता को बढ़ाने के लिए बेहतरीन किताब माना जाता है. अगर आपका बच्‍चा 2 से 6 साल की उम्र में है तो यह किताब उसके लिए काफी फायदेमंद हो सकती है.

अब्‍बा का दिन
सुनैना अली की ये किताब फैमिली बॉन्डिंग पर आधारित है. अगर आपका बच्‍चा 6 से 7 साल की उम्र में है तो यह किताब उनकी पर्सनल लाइब्रेरी में जरूर शामिल करें. यह कहानी बेटी और उसके पिता के बीच के खूबसूरत रिश्‍ते पर आधारित है.

इसे भी पढ़ें : महान लोगों ने समझाया ‘हिंदी भाषा’ का महत्व, पढ़ें ये मशहूर कथन

महाभारत की कहानियां
मैपल प्रेस से प्रकाशित महाभारत की कहानियां भी बच्‍चों की भाषा को बहुत ही मजेदार तरीके से सुधारने में मदद कर सकती है. अगर आपका बच्‍चा 9 साल का है तो आप यह किताब उसे जरूर दें और पढ़ने के लिए कहें. इससे भाषा में काफी सुधार आ जाएगा.

फखरुद्दीन का फ्रिज
मीनू थॉमस की लिखी गई और तूलिका प्रकाशन से प्रकाशित की गई यह किताब बच्‍चों के लिए बहुत ही मजेदार है. य‍ह किताब 5 साल या उससे अधिक उम्र के बच्‍चों के लिए रिकमंड की जा सकती है. इस कहानी का मुख्‍य किरदार बच्‍चा फखरुद्दीन है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Books, Hindi Diwas, Hindi Literature, Kids, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें