होम /न्यूज /जीवन शैली /चेक करना चाहते हैं अपने बच्चों की मेंटल हेल्थ? उनसे पूछ लें बस ये 7 सवाल

चेक करना चाहते हैं अपने बच्चों की मेंटल हेल्थ? उनसे पूछ लें बस ये 7 सवाल

बच्चों से उनके मन की बात जानने के लिए आपको धैर्य रखना पड़ेगा.

बच्चों से उनके मन की बात जानने के लिए आपको धैर्य रखना पड़ेगा.

Parenting Tips: बच्चे काफी मासूम होते हैं वे कई बार अपने मन की बात को कह नहीं पाते. बच्चों में अपनी दिक्कते शेयर न करने ...अधिक पढ़ें

Parenting Tips: इस भागमभाग जिंदगी में शरीर को स्वस्थ्य रखना बहुत जरूरी है. स्वास्थ्य सिर्फ शारीरिक अंगों की सेहत पर निर्भर नहीं करता बल्कि यह मानसिक स्थिति पर भी निर्भर होता है. आप जितना अधिक मानसिक तौर पर मजबूत होंगे आप शरीर भी उतना ही अधिक स्वस्थ्य होगा. बदलती जीवन शैली में आजकल बच्चे भी मानसिक बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं इसलिए जरूरी है कि माता पिता बच्चों पर ध्यान दें और उनके मेंटल हेल्थ की कंडीशन को समझे.

बच्चे काफी मासूम होते हैं वे कई बार अपने मन की बात को कह नहीं पाते. बच्चों में अपनी दिक्कते शेयर न करने की कई वजहें हो सकती हैं. इसके पीछे परिवार का स्ट्रिक्ट माहौल या फिर सामाजिक डर भी हो सकता है. ऐसे में जरूरी है कि माता पिता बच्चे को समय दें और उनकी बातों को समझने की कोशिश करें. हेल्थशॉट्स की खबर के अनुसार कुछ ऐसे तरीके हैं जिनसे पैरेट्स बच्चों की मेंटल हेल्थ को चेक कर सकते हैं. कुछ ऐसे खास सवाल है जिनके माध्यम से आप अपने बच्चे के मेंटल कंडीशन्स को समझ सकते हैं….आइए जानते हैं उन सवालों के बारे में….

– किस घटना से तनाव हो रहा है?
बच्चे कभी भी आलोचना महसूस नहीं करना चाहते इसलिए कई बार वे अपने मन के बुरी बातों को कह नहीं पाते. इसलिए जरूरी है कि उन्हें समय दें और पूछें कि उन्हें किस बात से दिक्कत हो रही है.

– कौन सी रोमांचक चीज का इंतजार है?
कई बार बच्चे कई दिनों तक एक ही बात को सोचते सोचते डिप्रेशन में चले जाते हैं, उन्हें अपने भविष्य के बारे में कुछ भी नहीं पता होता इसलिए जरूरी है कि आप बच्चे से पूछे कि वह कौन सा काम करना चाहते हैं जिससे उन्हें खुशी मिलेगी.

Parenting Tips: हर माता-पिता को फॉलो करने चाहिए ये पेरेंटिंग टिप्स, बच्चों पर चीखने की नहीं पड़ेगी जरूरत

– क्या पढ़ाई करने में कोई कठिनाई हो रही है?
इस सवाल के साथ ही बहुत जरूरी है कि आप बच्चों की बात को ध्यान से सुने और जानें कि उसका रुझान क्या है और उसे क्या दिक्कत है.

– इस वक्त सबसे ज्यादा किसे याद कर रहे है?
अगर बच्चा अलग और मायूस रहता है तो आप उससे पूछें कि वह किसे सबसे ज्यादा मिस कर रहा है और किसके साथ समय बिताना उसे अच्छा लगता है. आप उसके साथ पुरानी यादों पर बातें कर सकते हैं.

आसानी से मानसिक समस्‍याओं के शिकार हो सकते हैं इकलौते बच्चे, परवरिश में रखें इन 6 बातों का ख्‍याल

– मैं आपकी मदद किस तरह से कर सकता हूं?
बच्चे मासूम होते हैं वे इतनी जल्दी आपको कुछ नहीं बताएंगे इसलिए जरूरी है कि धैर्य रखें और बच्चे से पूछें कि हम आपकी किस तरह से मदद कर सकते हैं. माता पिता को यह ध्यान रखना होगा कि बच्चा डरा हुआ भी हो सकता है इसलिए उससे सवाल पूछते समय उसे डांटे या चिल्लाएं नहीं.

– मुझे वो बताएं जिससे आपको डर लगता है
आपको बच्चे की मायूसी और निराशा के कारण को जानना है इसलिए जरूरी है कि आप उससे यह जानने की कोशिश करें कि वह उस बात का जिक्र करे कि वह किससे डर रहा है.

– आपको क्या चाहिए जो आपके पास नहीं है
बच्चे हमेशा दूसरे बच्चों की नकल करते हैं. हो सकता है कि वह कुछ ऐसा चाहता हो जो उसके दोस्त के पास हो लेकिन वह यह बात माता पिता को कहने से डरता हो. इसलिए आपको जानना होगा कि वह क्या पाना चाहता है.

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें