होम /न्यूज /जीवन शैली /5 तरीकों से दूर करें बच्चों का संकोच, मिनटों में बूस्ट होगा कॉन्फिडेंस, बनेंगे सोशल और फ्रेंडली

5 तरीकों से दूर करें बच्चों का संकोच, मिनटों में बूस्ट होगा कॉन्फिडेंस, बनेंगे सोशल और फ्रेंडली

बच्चों को शेयरिंग सिखाकर आप उन्हें मिलनसार बना सकते हैं. (Image-Canva)

बच्चों को शेयरिंग सिखाकर आप उन्हें मिलनसार बना सकते हैं. (Image-Canva)

Children Hesitation Solution at Home: बचपन मे कुछ बच्चे काफी संकोची स्वाभाव के होते हैं. ऐसे में बच्चों का संकोच खत्म क ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बच्चों की तारीफ करके आप उनका आत्मविश्वास बढ़ा सकते हैं.
बच्चों की हर छोटी-बड़ी बात को महत्व देने की कोशिश करें.

Children Hesitation Solution at Home: छोटे बच्चों में शैतानी करने की आदत काफी कॉमन होती है. मगर शैतान स्वाभाव के बावजूद सभी बच्चों का बिहेवियर एक-दूसरे से बेहद अलग होता है. ऐसे में कुछ बच्चे मिलनसार स्वाभाव के होते हैं. तो वहीं बचपन में कई बच्चे दूसरों के सामने बेहद संकोच (Hesitation solution) करते हैं. ऐसे में कुछ आसान तरीके अपनाकर आप ना सिर्फ बच्चों को सोशल बना सकते हैं बल्कि कुछ ही दिनों में उनकी झिझिक भी दूर कर सकते हैं.

फ्रेंडली बिहेवियर होने पर बच्चे अंजान लोगों से भी मिनटों में दोस्ती कर लेते हैं. मगर वहीं संकोची बच्चों के अंदर कॉन्फिडेंस की कमी होती है. जिसके चलते बच्चे अंजान लोगों के सामने अनकंफर्टेबल महसूस करने लगते हैं. इसलिए हम आपको बताने जा रहे हैं बच्चों की हिचकिचाहट दूर करने के कुछ टिप्स, जिसकी मदद से आप बच्चों को मिलनसार बना सकते हैं.

बच्चों का अत्मविश्वास बढ़ाएं
बच्चे का संकोची स्वाभाव खत्म करने के लिए आप उसे किसी रिलेटिव या फ्रेंड के घर ले जा सकते हैं. ऐसे में वहां मौजूद सभी लोगों से बच्चे का इंट्रोडक्शन करवाएं. साथ ही रिश्तेदारों या दोस्तों के सामने बच्चे की खूब तारीफ करें. इससे बच्चे का कॉन्फीडेंस बूस्ट होने लगेगा और बच्चा संकोच करना कम कर देगा.

ये भी पढ़ें: बच्चे में दिख रहे हैं 5 बदलाव तो समझ लें लाडला चाहता है आपकी अटेंशन, न करें नजरअंदाज

शेयर करना सिखाएं
संकोची स्वाभाव के बच्चे अक्सर अपनी चीजों को किसी के साथ बांटना पसंद नहीं करते हैं. ऐसे में बच्चों को खाने की चीजें और खिलौने सभी के साथ शेयर करने की आदत डालें. इससे बच्चे मिलनसार और फ्रेंडली स्वाभाव के बनेंगे.

बच्चों के साथ दोस्ती करें
पेरेंट्स अक्सर बच्चों के साथ सख्ती से पेश आते हैं. जिसके चलते बच्चे अपने दिल की बात माता-पिता को बताने में संकोच करने लगते हैं. ऐसे में बच्चों के साथ फ्रेंडली बिहेवियर रखें और उनकी पसंद-नापसंद को खास तवज्जो देने की कोशिश करें. जिससे बच्चों की हिचकिचाहट कम होने लगेगी.

ये भी पढ़ें: 5 चीजों को करें बच्चे के रुटीन में शामिल, दिमाग बनेगा शार्प, हमेशा रहेगा स्मार्ट और एक्टिव

फ्रेंड्स को इनवाइट करें
बच्चों के अंदर सोशल बिहेवियर डेवलेप करने के लिए आप उनके दोस्तों को घर पर इनवाइट कर सकते हैं. इससे बच्चे दोस्तों से खुलने लगेंगे और उनका संकोच दूर हो जाएगा. वहीं आप बच्चों को उनके दोस्तों के घर घुमाने भी लेकर जा सकते हैं.

ध्यान से सुनें बातें
कई बार पेरेंट्स बच्चों की बातों को बकवास समझकर इग्नोर कर देते हैं. जिससे बच्चों का मनोबल कम हो जाता है और बच्चे सभी के सामने बोलने में शर्म महसूस करते हैं. इसलिए बच्चों की हर छोटी-बड़ी बात को महत्व देने की कोशिश करें. जिससे उनका संकोच खत्म हो जाएगा.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Child Care, Lifestyle, Parenting, Parenting tips

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें