होम /न्यूज /जीवन शैली /छोटे बच्चे में क्यों होती है क्रॉस आंखों की परेशानी, जानिए कारण और उपचार

छोटे बच्चे में क्यों होती है क्रॉस आंखों की परेशानी, जानिए कारण और उपचार

क्रॉस आंखों का लक्षण जानिए,Image-Canva

क्रॉस आंखों का लक्षण जानिए,Image-Canva

Cross Eyes Problem Causes IN Kids: कई बार हमें यह महसूस होता है कि बच्चे की आंखों में फर्क है क्योंकि उनकी आंख किसी ओर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एस्ट्रोपिया सबसे आम बीमारी है.
हाइपरट्रोपिया भी हो सकती है वजह.

Cross Eyes Problem Causes In Kids – छोटे बच्चों को देखकर कई बार ऐसा लगता है कि उनकी एक आंख सीधा देख रही है. लेकिन दूसरी आंख अंदर, बाहर, ऊपर या नीचे देख रही है इस तरह की स्थिति को स्ट्रैबिस्मस कहते हैं. इसमें कोई चिंता की बात नहीं है. इस स्थिति में बच्चे की मांसपेशियां विकसित और मजबूत होती हैं और वे ध्यान केंद्रित करना सीखते हैं. ज्यादातर छोटे बच्चों में स्ट्रैबिस्मस नामक बीमारी 1 से 4 वर्ष की उम्र में होती है. इसका इलाज चश्मे से लेकर सर्जरी तक कई तरह के उपचार से किया जा सकता है. जो बच्चे की क्रॉस्ड आई को सीधा कर उनकी दृष्टि को सुरक्षित रख सकते हैं. आइए जानते हैं क्या है क्रॉस आई के लक्षण और क्या है उपचार.

क्रॉस-आइड बेबी के लक्षण
एसोट्रोपिया
हेल्थ लाइन के अनुसार इसमें बच्चे की दोनों आंखे नाक की ओर अंदर की ओर मुड़ जाती हैं यह सबसे आम बीमारी है.

इसे भी पढ़ेंः जानें चाय को बार-बार गर्म करके क्यों नहीं पीना चाहिए? क्या है इसके पीछे का कारण

एक्सोट्रोपिया
इस बीमारी में बच्चे की दोनों आंखें कानों की तरफ मुड़ जाती है.

हाइपरट्रोपिया
इस बीमारी में बच्चा अपनी आंखों को एक साथ एक जगह पर नहीं रख पाता.

कारण जानिए
स्ट्रैबिस्मस आंखों की मसल्स के कारण होता है. जब बच्चे की मसल्स एक साथ काम नही करती हैं, तब बच्चे में क्रॉस आंखों की बीमारी होती है. यह बीमारी जेनेटिक हिस्ट्री से जुड़ी हुई होती हैं. अगर किसी बच्चे के परिवार में स्ट्रैबिस्मस की बीमारी थी तो बच्चे को भी हो सकती है.


रिस्क फैक्टर
जो बच्चा मोतियाबिंद के साथ पैदा हुआ हो.

उपचार क्या है
-आंख में दृष्टि को ठीक करने के लिए चश्मा का उपयोग कर सकते हैं.
-आँख की दवा. ये काफी हद तक उपयोगी है.
-डॉक्टर बोटॉक्स के इंजेक्शन से एक आंख की मसल्स को ठीक कर सकता है.
बच्चे में क्रॉस आई की समस्या से एकदम परेशान होने की जगह डॉक्टर से कंसल्ट करें अगर बच्चा 4 महीने की अवस्था से बड़ा है तो जरूर डॉक्टर को तुरंत दिखाएं.

इसे भी पढ़ेंः घर में लगाएं ये खास औषधीय पौधे, कई बीमारियों से रहेंगे दूर

Tags: Lifestyle, Parenting tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें