होम /न्यूज /जीवन शैली /उम्र के हिसाब से अपने बच्‍चों को सिखाएं ये अच्‍छी आदतें, परवरिश में नहीं आएगी परेशानी

उम्र के हिसाब से अपने बच्‍चों को सिखाएं ये अच्‍छी आदतें, परवरिश में नहीं आएगी परेशानी

परवरिश तब सफल मानी जाती है जब सही उम्र में बच्‍चे अच्‍छी आदत सीखने लगें. (Image : Canva)

परवरिश तब सफल मानी जाती है जब सही उम्र में बच्‍चे अच्‍छी आदत सीखने लगें. (Image : Canva)

सही उम्र में अगर बच्‍चे बेसिक मैनर सीख जाएं तो इससे उन्‍हें बाहरी लोगों से मिलने जुलने और सोशल बनने में आसानी होती है. ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

बच्चों को शुरू से ही अच्छे तरीके से बातचीत करना सिखाएं.
शुरुआत से उन्हें अच्छे शब्द सिखाएं, ताकि उनका कॉन्फिडेंस बढ़े.

Good Habits for Children: बच्‍चों की परवरिश माता पिता के लिए एक आनंद देने वाला वक्‍त होता है. इस जिम्‍मेदारी को बेहतर तरीके से निभाने के लिए माता पिता क्‍या क्‍या नहीं करते हैं. लेकिन उनकी परवरिश तब सफल मानी जाती है जब सही उम्र में बच्‍चे अच्‍छी आदतों को सीखते जाएं और आत्‍मनिर्भर बनें. ऐसे में यह जरूरी है कि हम सही उम्र में उन्‍हें सही आदत सिखा दें. इसके लिए यह भी जरूरी है कि हमें पहले से ही पता हो कि आखिर किन आदतों को किस उम्र में सिखाना चाहिए. ऐसे में हम आपके लिए यहां पेरेंटिंग टिप्‍स लेकर आए हैं. इनसे आप जान सकेंगे कि किस उम्र में आप अपने बच्‍चे को क्‍या सिखाएं.

ये भी पढ़ें: बच्चों की इम्यूनिटी को स्‍ट्रॉन्‍ग रखने के लिए उनकी डाइट में शामिल करें ये चीज़ें

1 से 2 साल की उम्र
अगर आपका बच्‍चा एक से दो साल का हो रहा है तो उसे इस उम्र प्‍लीज, थैंक्‍यू, वेलकम, नमस्‍ते, सॉरी आदि शब्‍द बोलना सिखाएं. वे आसानी से सीख जाएंगे. इसके लिए आप घर पर भी इन शब्‍दों का खूब प्रयोग करें.

ये भी पढ़ें: कैसे रखें बच्चों की आंखों का ख्याल? अपनाएं ये तरीके

3 से 6 साल की उम्र
इस उम्र में बच्‍चे शरारत करना शुरू कर देते हैं. यही नहीं, उनमें दोस्‍त बनाने और खेलने का भी शौक जगने लगता है. ऐसे में आप उन्‍हें प्‍यार करना, शेयर करना, दूसरों की केयर करना, सच बोलना आदि सिखाएं. इस उम्र में आप बच्‍चों को कुछ और मैनर सिखा सकते हैं. मसलन, कोई जाए तो उसे बाय कहना या थैंक्‍यू बोलना. इस उम्र में आप बच्‍चों को दूसरों की बात को सुनना भी सिखाना जरूरी है.

 7 से 10 साल की उम्र
इस उम्र के बच्‍चों में सही और गलत की पहचान करना सिखाएं. उन्‍हें बताएं कि किन हालात में किसी को सहानुभूति देनी चाहिए और आभार प्रकट करना चाहिए. आप बच्‍चे को अपने जन्‍मदिन पर मिले तोहफे के बदले लोगों को नोट पर थैंक्‍यू लिखकर देना सिखाएं. उनमें इसी उम्र में टीम वर्क का महत्‍व सिखाएं. इसके लिए आप उन्‍हें गेम में डालें जिससे उनमें टीम वर्क और डिसीजन लेने का कॉन्फिडेंस बिल्‍ड हो. इसके अलावा उन्‍हें बड़ों के साथ तमीज से बात करना और छोटों के साथ प्‍यार से पेश आना सिखाएं.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Lifestyle, Parenting, Parenting tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें