होम /न्यूज /जीवन शैली /Parenting Tips-बच्चे को सजा देना हर बार सही नहीं, कैसे बदलें ये सिचुएशन

Parenting Tips-बच्चे को सजा देना हर बार सही नहीं, कैसे बदलें ये सिचुएशन

सजा देने से बच्‍चे बन सकते हैं जिद्दी-(Image Canva)

सजा देने से बच्‍चे बन सकते हैं जिद्दी-(Image Canva)

How To Change This Situation-हर बच्‍चे की सोचने और सीखने की क्षमता अलग होती है ऐसे में बच्‍चे को हर बार डांटना या सजा द ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

बच्‍चे को कराएं उसकी गलती का अहसास.
बच्‍चे को सजा देने की बजाय प्‍यार से समझाएं.
सजा देने या डांटने से बच्‍चे बन जाते हैं गुस्‍सैल.

How To Change This Situation- बच्‍चे को सही दिशा देने और अनुशासन सिखाने के लिए कई बार पेरेंट्स को स्‍ट्रिक्‍ट होना पड़ता है. बच्‍चों को प्‍यार करने के साथ कई बार डांटना भी पड़ जाता है. हर बच्‍चे की सोचने और सीखने की क्षमता अलग होती है ऐसे में बच्‍चे को हर बार डांटना या सजा देना ठीक नहीं है. जब बच्‍चा हर छोटी-बड़ी बात पर डांट या सजा खाने लग जाता है तो उसे पेरेंट्स की डांट और गुस्‍सा सहने की आदत हो जाती है. जिस वजह से बच्‍चा जिद्दी और गुस्‍सैल बन सकता है. बच्‍चे को बार-बार सजा देने की बजाय यदि प्‍यार से समझाया जाए तो वे चीजों को जल्‍दी सीखेगा. इसके साथ ही वे पेरेंट्स की रिस्‍पेक्‍ट भी करेंगे. चलिए जानते हैं बच्‍चे को सजा देने के बजाय कैसे सिचुएशन को हैंडल किया जा सकता है.

इमोशंस पर करें कंट्रोल
जब बच्‍चा गलती करें तो बच्‍चे को उस वक्‍त सजा देने से बचें और स्‍वयं के इमोशंस पर कंट्रोल करें. अहा पेरेंटिंग डॉट कॉम के अनुसार पेरेंट्स यदि खुद के इमोशंस पर कंट्रोल करेंगे तो बच्‍चा उस गलती को दोबारा नहीं दोहराएगा. वहीं यदि पेरेंट्स बच्‍चे को सजा देंगे या डांटेंगे तो बच्‍चे विरोधी हो जाएंगे और उल्‍टा जवाब देंगे. पेरेंट्स ऐसी सिचुएशन को हैंडल करने के लिए गहरी सांस लें और स्थिति के नॉर्मल होने का इंतजार करें.



समर्थन करें ताकि बच्‍चा सीख सके
गलती हर बच्‍चा करता है लेकिन हर गलती पर सजा देना ठीक नहीं होता. जैसे गलती होने पर बच्‍चे को डांटते हैं उसी प्रकार कोई अच्‍छा काम करने पर बच्‍चे का समर्थन भी करें ताकि वे आसानी से सीख सके. सीखते वक्‍त भी बच्‍चे से गलती हो सकती है ऐसे में गुस्‍सा करने की बजाय उसे प्‍यार से समझाएं.

इसे भी पढ़ें : छोटे बच्‍चों को जरूर पिलाएं मूंग दाल का पानी, मिलेगा चमत्कारी फायदा

बच्‍चे को रिपेयर करना सिखाएं
बच्‍चे कई बार खेल-खेल में बड़ा नुकसान कर देते हैं ऐसे में पेरेंट्स का गुस्‍सा करना या सजा देना लाजमी है. लेकिन हर बार बच्‍चे को डांटने से वे बिगड़ सकता है और पेरेंट्स की बातों को अनसुना करने लगता है. जब बच्‍चा किसी चीज को तोड़े या खराब करे तो डांटने की बजाय उसे रिपेयर करने के लिए कहें. रिपेयर करने से बच्‍चे में मोटर स्‍किल डेवलप होगी और वे आगे से चीजों को तोड़ने से बचेगा.

Tags: Health, Lifestyle, Parenting tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें