Home /News /lifestyle /

parenting tips back pain causes in children and how to get rid of it mt

Parenting Tips: आपके बच्चे की पीठ में दर्द तो नहीं? इन चीजों को रूटीन में शामिल कर दे सकते हैं राहत

बैक पेन से निजात के लिए एक्सरसाइज और हेल्दी डाइट जरूरी है

बैक पेन से निजात के लिए एक्सरसाइज और हेल्दी डाइट जरूरी है

Parenting Tips: वर्तमान में जहां कई बच्चे स्मार्टफोन और टीवी के आदी हो गए हैं. वहीं कोरोना काल में शारीरिक गतिविधियों (Physical activities) पर विराम लगने और घंटों स्क्रीन पर समय बिताने के कारण बच्चों (Kids) में फिजकल फिटनेस का अभाव देखने को मिला है. जिसके कारण कई बच्चे पीठ में दर्द (Back pain) की समस्या से परेशान रहने लगे हैं. हालांकि, पीठ में दर्द के कारण और लक्षणों का पता लगाकर कुछ एहतियात बरतने से आप इस समस्या से बच्चों को बचा सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

Parenting Tips: आधुनिकता के इस दौर का असर बड़ों के साथ-साथ बच्चों पर भी देखने को मिलता है. स्मार्टफोन की लत कई बच्चों (Children) में आम हो गई है. वहीं कोरोना काल ने बच्चों की फिजिकल एक्टीविटीज (Physical activities) पर भी रोक लगा दी है. जिसके कारण ज्यादातर बच्चों में पीठ दर्द (Back Pain) की समस्या भी देखने को मिलती है. हालांकि, आप पीठ दर्द के कारण और लक्षणों को समझकर बच्चों की इस दर्द से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं.

दरअसल, वर्तमान में कई बच्चे दोस्तों के साथ खेल-कूद करने के बजाए घर में ही टीवी, इंटरनेट और वीडियो गेम्स खेलना ज्यादा पसंद करने लगे हैं. जिसकी वजह से शारीरिक गतिविधियां कम होने और घंटों तक गलत पोजीशन में बैठने के कारण पीठ में दर्द की समस्या शुरू हो गई है. जिससे बच्चों की सेहत भी बड़े पैमाने पर प्रभावित हुई है. आइये जानते हैं इसके बारे में

पीठ दर्द के कारण

  • बता दें कि बच्चों की पीठ की हड्डी काफी नुजक होती है. ऐसे में पीठ दर्द उठने के कई कारण हो सकते हैं. हालांकि, ज्यादातर कई घंटों तक फोन, लैपटॉप या फिर टीवी के आगे गलत पॉश्चर में बैठने के कारण न सिर्फ पीठ में बल्कि गर्दन, कंधे और पैर में भी दर्द की संभावना बढ़ जाती है.

ये भी पढ़ें: Parenting Tips: छोटे बच्चों को सुलाते समय इन बातों का रखें ख्याल

  • स्कूल बैग उठाने की वजह से भी कई बार पीठ और कंधों में दर्द होने लगता है. इसलिए बच्चों को स्कूल बैग में टाइम-टेबल के अतिरिक्त एक्सट्रा किताबें बैग में रखने से रोकना चाहिए.

पीठ दर्द के लक्षण

कई बार बच्चे पीठ के दर्द को वास्तव में पहचान नहीं पाते हैं. वहीं कई माता-पिता भी इसे आम समस्या समझ कर अनदेखा कर देते हैं. हालांकि छोटी उम्र से पीठ में दर्द की परेशानी कई और दिक्कतों की वजह भी बन सकती है. इसलिए आप कुछ लक्षणों की मदद से बच्चों के पीठ दर्द का आसानी से पता लगा सकते हैं.

अक्सर पीठ में दर्द के कारण सूजन, झनझनाहट, सिहरन होना, टॉयलेट कंट्रोल न होना, गर्दन और पैर में दर्द के साथ-साथ बुखार और इंफेक्शन भी देखने को मिलने लगता है. इसके अलावा कई बार गलत पोजीशन में सोने के कारण भी पीठ दर्द होने लगता है.

ये भी पढ़ें: बच्चों को हो रही हैं फुंसियां? न करें नजरअंदाज, हो सकता है एक्ज़िमा

पीठ दर्द से बचने के उपाय

बच्चों को पीठ में दर्द की समस्या से बचाने और निजात दिलाने के लिए दो महत्वपूर्ण चीजों को उनकी डेली रूटीन का पार्ट बनाना बेहद जरूरी होता है. पहला एक्सरसाइज या फिर योगा और दूसरा हेल्दी डाइट. जहां एक्सरसाइज से बच्चे फिजकली फिट रहते हैं. वहीं दूध, सोयाबीन, पनीर, हरी पत्तेदार सब्जियों जैसी न्यूट्रिएंट्स रिच डाइट बच्चों के शरीर में पोषण की कमी पूरी कर के उनको मेंटली स्ट्रांग रखने में मदद करती है. इसके अलावा आप बच्चों को स्पोर्ट्स में भाग लेने के लिए प्रेरित करें. साथ ही हफ्ते में एक बार बच्चों के शरीर पर मालिश करना न भूलें. कोशिश करें कि बच्चे ऑयली और जंक फूड का सेवन कम से कम करें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Lifestyle, Parenting, Parenting tips

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर