Home /News /lifestyle /

parenting tips common types of child abuse signs and what you can do to stop it nav

बाल शोषण के सामान्य प्रकार, संकेत और इसे रोकने के उपाय

जरूरी है कि हम वयस्क के रूप में बाल शोषण को समझने, पहचानने और रोकने में अपनी भूमिका निभाएं.  (फोटो-canva.com)

जरूरी है कि हम वयस्क के रूप में बाल शोषण को समझने, पहचानने और रोकने में अपनी भूमिका निभाएं. (फोटो-canva.com)

What is child abuse: विश्व स्तर पर 2-17 साल आयु के 1 बिलियन बच्चों ने पिछले एक साल में शारीरिक, भावनात्मक हिंसा या उपेक्षा का अनुभव किया है. ऐसे में जरूरी है कि हम वयस्क के रूप में बाल शोषण को समझने, पहचानने और रोकने में अपनी भूमिका निभाएं.

अधिक पढ़ें ...

Recognizing child abuse Is important : विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का सुझाव है कि विश्व स्तर पर 2-17 साल आयु के 1 बिलियन बच्चों ने पिछले एक साल में शारीरिक, भावनात्मक हिंसा या उपेक्षा का अनुभव किया है. इंटरपोल के आंकड़ों के अनुसार, भारत ने वर्ष 2017 से 2020 तक ऑनलाइन बाल शोषण के 24 लाख से अधिक मामले दर्ज किए, जिनमें से लगभग 80% मामले 14 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों के थे. चौंका देने वाली संख्या को देखते हुए, यह महत्वपूर्ण है कि हम वयस्क के रूप में बाल शोषण को समझने, पहचानने और रोकने में अपनी भूमिका निभाएं. हमें न केवल बच्चों पर होने वाले शारीरिक और मानसिक हमलों को पहचानने के लिए पूरी तरह से तैयार होना चाहिए, बल्कि हमें यह भी पता होना चाहिए कि भावनात्मक शोषण (Emotional abuse) बच्चे के मानस को कैसे प्रभावित कर सकता है.

अक्सर एक बच्चा दोष या दंडित होने के डर से बात नहीं कर सकता है. वे शर्म और शर्मिंदगी भी महसूस कर सकता है. यही कारण है कि वयस्कों और विशेष रूप से माता-पिता के लिए इन शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दुर्व्यवहारों के खिलाफ उठना महत्वपूर्ण है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, बाल शोषण के सामान्य प्रकार कुछ इस तरह से हैं.

शारीरिक शोषण 
जानबूझकर या अनजाने में किसी बच्चे को नुकसान पहुंचाना, जिससे उन्हें दीर्घकालिक शारीरिक चोट या मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, इसे भी शारीरिक शोषण के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है. शारीरिक शोषण के कुछ कृत्यों में शामिल हैं.

– नुकसान पहुंचाने के लिए बच्चे को मारना, लात मारना, जलाना या पीटना.
– बच्चे को जोर से हिलाना
– बच्चे का दम घुटने या डूबना
– विषाक्तता
– एक बच्चे को बांधना
– भोजन, दवाएं या नींद न देना

यह भी पढ़ें-
Parenting Mistakes: पैरेंट्स की इन 7 गलतियों की वजह से बच्चों का आत्मविश्वास होता है कम

भावनात्मक शोषण
भावनात्मक दुर्व्यवहार, दुर्व्यवहार का एक गैर-शारीरिक रूप है जिसमें मनोवैज्ञानिक या मौखिक दुर्व्यवहार शामिल हो सकता है. इस प्रकार का दुर्व्यवहार एक बच्चे को अवांछित, बेकार और प्यार रहित महसूस कराता है. इसमें ऐसे शब्द और कार्य शामिल हो सकते हैं, जो बच्चों में कम आत्मविश्वास, तनाव, चिंता, अवसाद और अनुशासनहीनता के कारण भावनात्मक क्षति का कारण बनते हैं. इसमें शामिल हो सकते हैं.

– अवास्तविक अपेक्षाएं (unrealistic expectations) स्थापित करना
– अपने बच्चे के कार्यों के प्रति अधिक आलोचनात्मक होना
– उन्हें आपकी अपेक्षाओं पर खरे उतरने की धमकी देना
– सीमाओं को कम करना
– बच्चों को कम आंकना या दूसरों से तुलना करना
– अपना रास्ता पाने के लिए मूक उपचार (silent treatment) का उपयोग करना
– बच्चे की फीलिंग्स और इमोशंस को खारिज करना

यह भी पढ़ें-
बच्चे करने लगे हैं बदतमीजी? जानें क्या हो सकती है इसकी वजह

उपेक्षा करना
बच्चों की उपेक्षा (neglect) करना भी एक तरह का बाल शोषण है. जब एक माता-पिता अपने बच्चों की जरूरतों और चाहतों की देखभाल करने में असमर्थ होते हैं, तो यह बाल शोषण का दूसरा रूप हो सकता है.

– अपने बच्चे को बुनियादी ज़रूरतें जैसे भोजन, आश्रय, कपड़े, चिकित्सा देखभाल आदि प्रदान करने में विफल होना.
– बिना किसी देखभालकर्ता के बच्चे को अकेला घर छोड़ना
– ऐसा माहौल बनाना जहां बच्चा शारीरिक और यौन शोषण का शिकार हो सके
– शिक्षा प्रदान करने में सक्षम नहीं होना

यह भी पढ़ें-
इन तरीकों से कम करें भाई-बहन में होने वाले झगड़े

बाल शोषण के कुछ संकेत
कुछ परिस्थितियों को देखते हुए हर बच्चा दुर्व्यवहार का शिकार होता है. और सबसे अधिक बार यदि कोई बच्चा एक दुर्व्यवहार का शिकार होता है, तो उसके अन्य प्रकार के दुर्व्यवहार के प्रति भी अतिसंवेदनशील होने की संभावना होती है. इसलिए कुछ संकेतों को अनदेखा ना करें.

– तबीयत खराब होना
– व्यवहार और मनोदशा में अस्पष्टीकृत परिवर्तन
– चिंता और तनाव के लक्षण
– अत्यधिक आक्रामक होना
– अलग रहना और दूसरों से दूर रहना
– बार-बार स्कूल छूटना
– गलत तरीके से कपड़े पहनना
– ड्रग्स या अल्कोहल का उपयोग करना

बाल शोषण को रोकने के उपाय
ऐसे कई तरीके हैं जिनसे बाल शोषण को रोका या रोका जा सकता है. माता-पिता और वयस्कों को अपने बच्चों के बारे में अच्छी तरह से सूचित और चौकन्ना रहने की जरूरत है. इस रिपोर्ट में कुछ तरीके सुझाए गए हैं जिनसे आप बाल शोषण को रोक सकते हैं.

– विभिन्न प्रकार के बाल शोषण के बारे में स्वयं को शिक्षित करना सुनिश्चित करें
– अपने बच्चों से बात करने से न शर्माएं, बल्कि यह भी सुनिश्चित करें कि आप उनके पर्सनल स्पेस पर आक्रमण न करें.
– बच्चों को उनके अधिकारों के बारे में शिक्षित करें
– अपने बच्चों से उचित और अनुचित व्यवहार के बारे में बात करें.
– अपने बच्चे को बताएं कि आप उनके लिए हमेशा मौजूद हैं और प्रोडक्टिव बातचीत को प्रोत्साहित करें.
– यदि आप दुर्व्यवहार की कोई घटना देखते हैं, तो तुरंत इसकी रिपोर्ट करें या जांच की मांग करें.

Tags: Child sexual abuse, Lifestyle, Parenting, Parenting tips

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर