होम /न्यूज /जीवन शैली /बेहतर परवरिश के लिए पैरेंट्स अपने बेटे को सिखाएं ये 6 बातें, नहीं पड़ेगा बुरी संगतों में

बेहतर परवरिश के लिए पैरेंट्स अपने बेटे को सिखाएं ये 6 बातें, नहीं पड़ेगा बुरी संगतों में

बचपन से ही बच्‍चों को लोगों की इज्‍जत करना सिखाएं. Image : Canva

बचपन से ही बच्‍चों को लोगों की इज्‍जत करना सिखाएं. Image : Canva

अक्सर लड़के आसपास के माहौल को देखकर खुद को सुपीरियर समझने लगते हैं और लड़कियों को कमजोर मानते हैं. अपने बेटे को बताएं क ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अपने बेटे को अपनी भावनाओं को व्‍यक्‍त करने का मौका दें.
कभी भी डांटकर चुप करा देने वाली आदत नुकसान पहुंचा सकता है.

Parenting Tips For Raising Boy Child: एक समझदार और वेल ग्राउंड बेटे की परवरिश करना चुनौती भरा काम होता है. सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव की वजह से कुछ लड़के सोशल होने में पीछे होते है और उन्‍हें लोगों से मिलने-जुलने की तुलना में मोबाइल या वीडियो गेम खेलने में अधिक इंट्रेस्‍ट रहता है. कुछ लड़के शर्मीले स्‍वभाव के होते है, जबकि कुछ लड़कों को ना करने में परेशानी होती है. इस वजह से वे गलत संगत में जाने से खुद को रोक नहीं पाते. ऐसे में पैरेंट्स की जिम्‍मेदारी बढ़ जाती है. यहां हम आपको बता दें कि आप अपने बेटे की परवरिश को किस तरह इंप्रूव कर सकते हैं और उन्‍हें आगे बढ़ने में आने वाली रुकावटों से बाहर आने के लिए प्रेरित कर सकते हैं.

बेटे की बेहतर परवरिश के लिए ये 5 बातें ज़रूर सिखाएं

इमोशन को दर्शाना
लड़कों को भी अपने इमोशन को दर्शाना ज़रूरी होता है. उन्‍हें रोने से रोके नहीं और दुखी होने पर बात को शेयर करने के लिए मोटिवेट करें. ऐसा करने से वे अंदर से कठोर नहीं बनेंगे. उन्‍हें डांटकर चुप कराने की कोशिश ना करें.

इसे भी पढ़ेंः पैरेंटिंग में बढ़ी पिता की भागीदारी, अब बच्चों के साथ मजबूत बॉन्डिंग चाहते हैं फादर

 

जेंडर सुपीरियर
अक्सर लड़के आसपास के माहौल को देखकर खुद को सुपीरियर समझने लगते हैं और लड़कियों को कमजोर मानते हैं. अपने बेटे को बताएं कि भले ही पुरुष फिजिकली स्ट्रॉन्ग हो, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि वे अपनी बहन से या किसी और लड़की से ज्यादा स्ट्रॉन्ग है.

दूसरों को नीचा दिखाना
अक्सर हम लोग खुद को महान समझ कर दूसरों को नीचा दिखाने लगते हैं. अपने बेटे को सिखाएं कि आपका जेंडर या आपका घमंड आपको महान नहीं बनाता है, इसलिए सभी लोगों के प्रति दया का भाव रखें, चाहे वह व्यक्ति अमीर हो या गरीब.

ये भी पढ़ें: तेज धूप में बच्चों की सॉफ्ट स्किन पर हो जाते हैं रैशेज, जलन, ऐसे करें प्रोटेक्‍ट

 

सभी का सम्मान करना
बचपन से ही बच्‍चों को लोगों की इज्‍जत करना सिखाएं. यह भी सिखाएं कि कोई छोटा हो, बड़ा हो, गरीब हो, अमीर हो, जानवर हो, सभी की इज्‍जत करना चाहिए. इसके लिए आपको भी अपने हावभाव में इन चीजों को शामिल करना ज़रूरी है.

जेंटल बनें
जहां तक हो सके, अपने व्‍यवहार को लेकर जेंटल बनें. मसलन, जरूरत पड़ने पर सॉरी, थैंक यू और प्लीज जैसे शब्दों का उपयोग करें और दूसरों के साथ कंफर्टेबल होकर मिले.

जिम्‍मेदारियां दें
बच्‍चों को कम उम्र से ही जिम्‍मेदारियां देना अच्‍छा रहता है. इससे वे दूसरों के काम का वैल्‍यू करते हैं और अपने काम के प्रति जिम्‍मेदार रहते हैं.

Tags: Lifestyle, Parenting tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें