PG Story: नई रूममेट हमारा सामान तो छोड़ो कपड़े भी चुराती थी

ये कहानी, कॉलेज में पढ़ रही एक लड़की की है. जो गर्मियों की छुट्टियों से लौटकर नए पीजी में जाती है. पर उसे वहां रूममेट पुरानी ही मिल जाती है. इस बार उसने पीजी में अपनी बहन को रहने के लिए भी बुला लिया था, बहन उससे भी दो कदम आगे थी. वो महाचोर निकली.

News18Hindi
Updated: September 20, 2018, 10:01 AM IST
PG Story: नई रूममेट हमारा सामान तो छोड़ो कपड़े भी चुराती थी
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: September 20, 2018, 10:01 AM IST
नए शहर में रहते हुए दो साल बीत चुके थे. गर्मियों की छुट्टियों से वापस आकर, नए पीजी में रहना था. नया इलाका, नया पीजी, नया कमरा था पर रूममेट मिली पुरानी. मैं उसके साथ सबसे पहले वाले पीजी में बतौर रूममेट रह चुकी थी. उसकी रग-रग से वाकिफ थी. नए पीजी के नए लोगों के साथ उसने अपनी हरकतें तो नहीं दोहराईं पर नया खेल खेला.

इस पीजी में एक कमरे में दो लोग रहते थे. उस फ्लोर पर कुल तीन कमरे थे और हम छह लड़कियां. इसी बीच उसने एक कमरे में तीन लड़कियों को शिफ्ट करवाया क्योंकि उसकी बहन आ रही थी. बहन को बिना किराया दिए पीजी में, अपने कमरे में रखा. जिसके लिए उसने जबरदस्ती दूसरे रूम में तीन लोगों को रहने पर मजबूर किया.

बहन उसकी बिहार से ही आई थी. सांवली थी और बहुत सुंदर. अंग्रेजी कमजोर थी और हिंदी में रीजनल लहजा था. यहां नौकरी सर्च कर रही थी. हमारे लिए तो यहां का माहौल नॉर्मल सा था, पर उसके लिए सब नया. यहां के रंग में रंग रही थी. नई-नई दिल्ली देखी थी उसने. जो उसके लिए वो ड्रीमी वर्ल्ड था. आते ही हमें देखा देखी कपड़े पहनने का तरीका बदला. वो घर में रहती, हम कॉलेज चले जाते थे.



धीरे-धीरे पीजी से सामान चोरी होने लगा. पहले शैम्पू वगैरह बाथरूम में ही छोड़ दिया करते थे, फिर उठाकर रखने लगे. इसी दौरान मेरा एक कार्गो प्रिंट लोअर और शर्ट गायब हुई. बहुत ढूंढा, पर नहीं मिला. उस लड़की ने 15-20 दिन में एक लड़के से भी दोस्ती कर ली थी. जो उसे नई-नई जगह इंटरव्यू दिलवाने ले जाया करता था.

एक दिन मैं कॉलेज वालों के साथ कहीं बाहर गई. कॉलीग्स मुझसे पहले रेस्ट्रो पहुंच गए. वहां वो एक लड़के के साथ, मेरे कपड़े पहनकर बैठी थी. कुलीग्स ने समझा कि वो मैं हूं. उन्होंने उसके कंधे पर थपथपाया. वो पल्टी तो उन्हें पता चला कि वो लड़की, मैं नहीं हूं. दोस्त सॉरी कहते हुए बोले, हमें लगा हमारी दोस्त है. क्योंकि उसके पास भी ऐसे ही कपड़े हैं. वो भी बस यहां आती ही होगी. जिसके बाद उसे लगा, आज वो पकड़ी जाएगी.

वो जल्दबाजी मैं वहां से उठकर जाने लगी. जैसे ही उसने गेट खोला मैं भी गेट पर थी. मुझे देखते ही खुद-ब-खुद सफाई देने लगी. यार ये कपड़े तो मुझे मिल गए थे. रखे हुए थे, इसलिए मैंने पहन लिए. वो कपड़े उसे फस रहे थे. मैं उसकी सफाई को सुन ही नहीं पा रही थी, बस अपने पसंदीदा कपड़ों को देख रही थी. गुस्से से भरी थी पर खुद को नॉर्मल करते हुए कहा, तुमने मुझसे पूछे बगैर मेरे कपड़े क्यों पहने. इसका मतलब ये कि पीजी से जो आजकल सारा सामान चोरी हो रहा है, वो भी तुम ही चुरा रही हो. मैंने लगे हाथ ये भी पूछ लिया, ये लड़का कौन है तुम्हारे साथ. अब तुम्हारी दीदी को बताऊंगी, लड़के के साथ घूम रही थी.
Loading...

लेकिन दोस्तों ने मुझे समझाया. पर उसपर इस बात का गहरा असर हुआ. मैं शाम को घर लौटी तो पीजी से चोरी हुआ सारा सामान कमरे के बीचों बीच रखा था. मेरे बगैर कुछ रिप्लाई दिए ही उसने कहना शुरू किया- दीदी की कसम, पापा की कसम मैंने कुछ नहीं किया. ये सामान तो यहां किसी और ने रख दिया है.

आज आपने News18 हिन्दी की सीरीज़ 'पीजी स्‍टोरी' की 92वीं कहानी पढ़ी. 

(सीरीज PG Story में पीजी में रहने वाली उन लड़कियों और लड़कों के तजुर्बों को सिलसिलेवार साझा किया जा रहा है, जो अपने घर, गांव, कस्‍बे और छोटे शहर से निकलकर महानगरों में पढ़ने, अपना जीवन बनाने आए. हममें से ज़्यादातर साथी अपने शहर से दूर, कभी न कभी पीजी में रहे या रह रहे हैं. मुमकिन है, इन कहानियों में आपको अपनी जिंदगी की भी झलक मिले. आपके पास भी कोई कहानी है तो हमें इस पते पर ईमेल करें- ask.life@nw18.com. आपकी कहानी को इस सीरीज में जगह देंगे.)

पढ़ें, इस सीरीज बाकी कहानियां-
#PGStory: मैंने उसके पूरे खानदान के सामने कहा, रात को गमले में पेशाब करना बंद कर दो#PGStory: 'डेट पर गई दोस्त को देर रात पीजी वापस लाने के लिए बुलाई एम्बुलेंस'
#PGStory: 'गर्लफ्रेंड और मैं कमरे में थे, पापा पहुंच गए सरप्राइज देने'
#PGStory: कुकर फट चुका था और मैं चिल्ला रहा था- 'ओह शिट, आय एम डेड'
#PGStory: 'गाड़ी रुकी, शीशा नीचे हुआ और मुझसे पूछा- मैडम, आर यू इंटरेस्टेड टू कम विद मी?'
#PGStory: 'वो चाकू लेकर दौड़ी और मुझसे बोली, सामान के साथ मेरा पति भी चुरा लिया'
#PGStory: 'जब 5 दोस्त नशे में खाली जेब दिल्ली से उत्तराखंड के लिए निकल गए'
#PGStory: '3 दोस्त डेढ़ दिन से पी रहे थे,अचानक हम में से एक बोला- इसकी बॉडी का क्या करेंगे'
#PGStory: 'डेट पर गई दोस्त को देर रात पीजी वापस लाने के लिए बुलाई एम्बुलेंस'

इस सीरीज की बाकी कहानियां पढ़ने के लिए नीचे लिखे  PG Story पर क्लिक करें.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर