बारिश में प्लास्टिक के चप्पल पैरों को पहुंचा रहे हैं नुकसान, हो जाएं सावधान

बिना मोजों के जूते पहनने पर पैरों में बैक्टीरिया को बढ़ने का मौका मिल जाता है. प्लास्टिक के जूतों में ये और भी ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि इस तरह के जूतों में मॉइस्चर सूखता नहीं है और पैर गीले ही बने रहते हैं.

News18Hindi
Updated: September 1, 2019, 5:59 PM IST
बारिश में प्लास्टिक के चप्पल पैरों को पहुंचा रहे हैं नुकसान, हो जाएं सावधान
बिना मोजों के जूते पहनने पर पैरों में बैक्टीरिया को बढ़ने का मौका मिल जाता है. प्लास्टिक के जूतों में ये और भी ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि इस तरह के जूतों में मॉइस्चर सूखता नहीं है और पैर गीले ही बने रहते हैं.
News18Hindi
Updated: September 1, 2019, 5:59 PM IST
बारिश में पैरों को गीला होने से बचाने के लिए लोग प्लास्टिक के जूते या फुटवेअर पहनना पसंद करते हैं. बाजार में इस तरह के कई जूते मौजूद हैं. इसमें फ्लैट स्टाइल से लेकर हील्स तक में अलग-अलग लुक के फुटवेअर आसानी से मिल जाते हैं. बारिश के लिए भले ही ये अच्छे हों लेकिन हेल्थ के लिए यह खतरा साबित हो सकते हैं. प्लास्टिक के जूते या फुटवेयर से पैरों में इंफेक्शन हो सकता है.

दरअसल बिना मोजों के जूते पहनने पर पैरों में बैक्टीरिया को बढ़ने का मौका मिल जाता है. प्लास्टिक के जूतों में ये और भी ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि इस तरह के जूतों में मॉइस्चर सूखता नहीं है और पैर गीले ही बने रहते हैं. इससे फंगल इंफेक्शन फैलने का डर रहता है. अगर किसी को प्लास्टिक से एलर्जी है तो समस्या और भी गंभीर रूप ले सकती है. आइए आपको बताते हैं प्लास्टिक के फुटवेयर से होने वाली परेशानी के बारे में.

लचीलापन नहीं

प्लास्टिक फुटवेअर की एक बड़ी कमी यह है कि प्लास्टिक लचीला नहीं होता है. काफी देर तक इसे पहने रहने से पैर सूज जाते हैं. दूसरे शूज के मटीरियल पैर के साइज के मुताबिक एडजस्ट कर लेते हैं लेकिन प्लास्टिक में यह गुण नहीं है.

पैरों में दर्द की समस्या

प्लास्टिक के फुटवेअर में अगर सोल भी प्लास्टिक का है तो उसमें शॉक अब्जॉर्बशन क्वॉलिटी नहीं होगी. ऐसा नहीं होने पर चलने के दौरान पैरों को सीधे तौर पर झटका लग सकता है, जिससे हड्डियों से संबंधित समस्या और दर्द की परेशानी हो सकती है.

पैरों में बदबू की समस्या
Loading...

ज्यादा देर तक प्लास्टिक के फुटवेअर पहनने पर पैरों में बदबू की समस्या भी हो सकती है. प्लास्टिक में किसी भी तरह से हवा नहीं जाती जिस वजह से पसीना सूख नहीं पाता और पैरों से बदबू आने लगती है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 1, 2019, 5:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...