Home /News /lifestyle /

प्रेग्नेंसी से पहले वजन बढ़ने से बच्चे में एलर्जिक डिजीज का खतरा - स्टडी

प्रेग्नेंसी से पहले वजन बढ़ने से बच्चे में एलर्जिक डिजीज का खतरा - स्टडी

गर्भवती होने से पहले महिला का वजन बढ़ा होने से उसके होने वाले बच्चे में एलर्जी संबंधी रोगों के होने का खतरा बढ़ सकता है. (फोटो- shutterstock.com)

गर्भवती होने से पहले महिला का वजन बढ़ा होने से उसके होने वाले बच्चे में एलर्जी संबंधी रोगों के होने का खतरा बढ़ सकता है. (फोटो- shutterstock.com)

Mother’s weight before pregnancy : एक नई स्टडी के आधार पर बताया गया है कि गर्भवती होने से पहले महिला का वजन बढ़ने का उसके होने वाले बच्चे में एलर्जी संबंधी रोगों (Allergic Diseases) के होने का खतरा बढ़ सकता है, जबकि प्रेग्नेंसी के दौरान वजन बढ़ने से वैसा असर नहीं होता है. इस स्टडी का निष्कर्ष पीडियाट्रिक एंड पेरीनेटल एपिडिमियोलॉजी (Paediatric and Perinatal Epidemiology) जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    Mother’s weight before pregnancy : प्रेग्नेंसी से पहले महिला का हेल्दी होना जरूरी है, ये तो सभी जानते हैं. लेकिन अब एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि अगर गर्भधारण से पहले महिला का वजन ज्यादा होता है, और प्रेग्नेंसी के दौरान वेट नहीं बढ़ता है. तो इससे उसके होने वाले बच्चे में एलर्जी संबंधी रोगों का रिस्क बढ़ जाता है. कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ ओटावा (University of Ottawa) के रिसर्चर्स ने एक नई स्टडी के आधार पर बताया है कि गर्भवती होने से पहले महिला का वजन बढ़ने का उसके होने वाले बच्चे में एलर्जी संबंधी रोगों (Allergic Diseases) के होने का खतरा बढ़ सकता है, जबकि प्रेग्नेंसी के दौरान वजन बढ़ने से वैसा असर नहीं होता है. इस स्टडी का निष्कर्ष पीडियाट्रिक एंड पेरीनेटल एपिडिमियोलॉजी (Paediatric and Perinatal Epidemiology) जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

    यूनिवर्सिटी ऑफ ओटावा (University of Ottawa) के स्कूल एपिडेमियोलॉजी एंड पब्लिक हेल्थ (School Epidemiology and Public Health) में फैकल्टी ऑफ मेडिसिन सेबैस्टियन स्नुगो (Sebastian A. Srugo) के नेतृत्व में ये स्टडी की गई.

    स्टडी में क्या निकला 
    इस स्टडी के निष्कर्षों के अनुसार, बचपन में एलर्जी संबंधी रोगों का मां की प्रेग्नेंसी के दौरान वजन बढ़ने से कोई संबंध नहीं मिला. साथ ही मोटापे की शिकार मां से पैदा हुए बच्चे में अस्थमा होने का ज्यादा खतरा, लेकिन डर्मेटाइटिस (Dermatitis) यानी त्वचाशोथ और एनाफाइलैक्सिस (anaphylaxis) होने का अपेक्षाकृत कम जोखिम मिला.

    यह भी पढ़ें-
    रात में अच्छी नींद लेने वाले नवजात बच्चों में मोटापे की आशंका कम होती है: स्टडी

    इसके साथ ही गर्भधारण से पहले जो महिलाएं मोटापे की शिकार रहीं, उनके बच्चों में अस्थमा होने का रिस्क 8 प्रतिशत ज्यादा रहा.जो महिलाएं पहले से ही मोटापे का शिकार थीं और प्रेग्नेंसी के दौरान भी जिनका वजन बढ़ा, उनके बच्चों में शुरुआती दौर में एलर्जी विकसित हुए.

    यह भी पढ़ें-
    एंजाइटी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है वर्कआउट- स्टडी

    कनाडा में 30% आबादी एलर्जी रोगों से पीड़ित
    दुनियाभर में एलर्जी से संबंधित रोग इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि यह महामारी का रूप लेता जा रहा है. कनाडा में तो करीब 30 प्रतिशत आबादी एलर्जी से संबंधित कम से कम एक रोग से पीड़ित है. ये निष्कर्ष आगे पैदा होने वाली गंभीर स्थिति की ओर इशारा करते हैं.

    Tags: Health, Health News, Pregnancy, Pregnant woman

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर