गर्मी में किसी 'संजीवनी बूटी' से कम नहीं है पुदीना, आपके फ्रिज में है न ?

पुदीना के फायदे जानें (credit: shutterstock/Oxana Denezhkina)

पुदीना के फायदे जानें (credit: shutterstock/Oxana Denezhkina)

Benefits Of Pudina In Summer- गर्मी के दिनों में तो पुदीने की चटनी न हो तो खाना ही अधूरा लगता है. पुदीना कहीं से आया हो लेकिन इसकी चटनी तो भारत में ही पहली बार बनी थी. अंग्रेज भारतीय चटनी के मुरीद थे. यहां तक कि 'चटनी' शब्द ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में भी दर्ज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 9, 2021, 11:43 AM IST
  • Share this:
(विवेक कुमार पांडेय)



Benefits Of Pudina In Summer- गर्मी में तो कई सारे फल और खाने की चीजें हैं जो पूरी तरह से नेचुरल हैं और हीट को कंट्रोल भी करती हैं. लेकिन, आज में जिस चीज की बात करने जा रहा हूं उसे गर्मी की 'संजीवनी बूटी' के नाम से भी जाना जाता है. गर्मी ही नहीं बरसात में भी यह गजब काम की होती है. मैं बात करने जा रहा हूं पुदीने की.



गजब का संगम:

पुदीने का नाम आते ही आ गया न मुंह में पानी. स्वाद, सौंदर्य और सुंगंध का यह एक ऐसा ठिकाना है जो दुनियाभर में बहुत ही कम पाया जाता है. इसकी उम्र भी खासी लंबी होती है और नमी वाले स्थानों पर आप इसे हर मौसम में उगा सकते हैं. जितनी गर्मी बढ़ती है उतना ही इसका असर बढ़ता है.
ये भी पढ़ें - स्वाद के साथ स्वास्थ्य का खजाना है 'उंधियू', पौष्टिकता से है भरपूर

भारत में पुराना इतिहास:

भारत में पुदीने का बहुत ही पुराना इतिहास है. आपने पुदीने से संबंधित बदहजमी की दवा का भी नाम सुना ही होगा. टीवी पर भी बहुत से विज्ञापन आते हैं इसके. इससे इसके औषधीय गुणों के बारे में पता चलता है. पुदीने का जिक्र हमारे वेदों में कई स्थानों पर किया गया है. इसकी ओरिजिन फिर भी यूरोप मानी जाती है.

कई प्रकार के होते हैं:

इसकी करीब 30 जातियां और 500 से भी ज्यादा प्रजातियां पाई जाती हैं. इसके दुनियाभर में उगाया और खाया जाता है. असल में यह मेंथा वंश का एक पौधा है. पिपरमिंट और पुदीना एक ही जाति के होते हैं. इसकी अलग-अलग प्रजातियां यूरोप, अमेरिका, एशिया, अफ्रीका और आस्ट्रेलिया में उगाई जाती है.

उपयोग भी कई हैं:

इसका उपयोग कई दवाओं, सौंदर्य प्रसाधनों, पेय पदार्थों, पान मसालों और अन्य स्थानों पर किया जाता है. पेट के साथ ही यह आपकी स्किन के लिए भी बेहतर होता है. कई पुरानी पैथीज में पुदीने का भरपूर इस्तेमाल किया जाता है. यह आपको हाईड्रेट रखने में बहुत मदद करता है.

अब कुछ चटपटी बातें:

जानकारी का सिलसिला बहुत हो गया लेकिन अब जरा हम चटपटी बातें करते हैं. तो गर्मी के दिनों में तो पुदीने की चटनी न हो तो खाना ही अधूरा लगता है. पुदीना कहीं से आया हो लेकिन इसकी चटनी तो भारत में ही पहली बार बनी थी. अंग्रेज भारतीय चटनी के मुरीद थे. यहां तक कि 'चटनी' शब्द ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में भी दर्ज है. पुदीने वाले पानी के बिना तो गोलगप्पा भी नहीं खाया जाता !

तो आपने अपने फ्रिज में पुदीना रखा है न ! फ्रिज की सुविधा न हो तो भी इसकी जड़ों को पानी में भिगो कर घड़े आदि पर रखा जा सकता है. काफी समय तक यह हरा ही रहता है. सफर पर जाएं तो इसे बस पानी की बोतल में डाल लें...फायदा होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज