लाइव टीवी

सावधान! कोरोना वायरस को लेकर किसी को बनाया April Fool तो जाना पड़ सकता है जेल

News18Hindi
Updated: March 31, 2020, 3:10 PM IST
सावधान! कोरोना वायरस को लेकर किसी को बनाया April Fool तो जाना पड़ सकता है जेल
अप्रैल फूल डे वाले दिन किसी भी तरह की अफवाह फैलाने के खिलाफ साइबर क्राइम के तहत मामला दर्द किया जाएगा.

इस साल अप्रैल फूल डे पर कोरोना वायरस को लेकर कोई प्रैंक आपको जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा सकता है. किसी भी प्रैंक के खिलाफ साइबर क्राइम (Cyber Crime) के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2020, 3:10 PM IST
  • Share this:
हर साल दुनिया भर में 1 अप्रैल के दिन फूल्स डे (April fool day) के रूप में मनाया जाता है. इस दिन लोग एक दूसरे को कई तरह के मैसेज या प्रैंक्स के जरिये बेवकूफ बनाते हैं. दुनियाभर में अप्रैल फूल डे से पहले ही इसके मैसेज और शायरी को सर्च करने का सिलसिला शुरू कर हो जाता है. लेकिन इस साल अप्रैल फूल डे पर कोरोना वायरस को लेकर कोई प्रैंक खेलना आपको जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा सकता है. ऐसे किसी भी प्रैंक के खिलाफ साइबर क्राइम (Cyber Crime) के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है. हालांकि ये आदेश पूरे भारत में नहीं बल्कि सिर्फ महाराष्ट्र (Maharashtra) में लागू किया गया है.

इस बारे में जानकारी देते हुए महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा है, 'एक अप्रैल को अप्रैल फूल बनाने के लिए कोरोना वायरस से जुड़ी किसी प्रकार की अफवाह फैलाने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस साइबर क्राइम (Cyber Crime) के अंतर्गत मामला दर्ज करेगी और ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.'

पुलिस ने भी जारी की चेतावनी
इससे पहले पुणे पुलिस (Pune Police) की तरफ से लोगों को चेतावनी जारी की गई थी. पुणे पुलिस ने कहा था कि जो लोग अप्रैल फूल डे वाले दिन प्रैंक या सोशल मीडिया पर मजाक के नाम पर अफवाह फैलाने या कोरोना वायरस (Coronavirus) के संबंध में गलत जानकारी देंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. लोग अप्रैल फूल डे वाले दिन किसी तरह का कोई प्रैंक न करें, इसके लिए पुलिस द्वारा नोटिफिकेशन जारी किया गया है.



6 महीने की जेल और 1 हजार रुपये का जुर्माना


पुणे पुलिस द्वारा जारी किए गए नोटिफिकेशन में कहा गया है कि यदि कोई व्यक्ति अप्रैल फूल के नाम पर कोरोना वायरस से संबंधित कोई गलत जानकारी फैलाता है तो उसके खिलाफ IPC की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी. इस धारा के तहत अफवाह फैलाने वाले को 6 महीने की जेल और 1 हजार रुपये का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 31, 2020, 2:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading