लाइव टीवी

भूतों के इस गांव में पुतलों ने ली बच्चों की जगह, 18 सालों से पैदा नहीं हुआ एक भी बच्चा, स्कूल पड़े हैं वीरान

News18Hindi
Updated: December 27, 2019, 11:21 AM IST
भूतों के इस गांव में पुतलों ने ली बच्चों की जगह, 18 सालों से पैदा नहीं हुआ एक भी बच्चा, स्कूल पड़े हैं वीरान
भूतों के इस गांव में पुतलों ने ली बच्चों की जगह!

जापान के नोगोरो गांव को भूतों का गांव कहा जाता है. पहाड़ों पर बसे इस गांव में पिछले 18 सालों से एक भी बच्चा नहीं पैदा हुआ है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 27, 2019, 11:21 AM IST
  • Share this:
क्या आपने कभी ऐसे गांव के बारे में सुना है जहां बच्चों की जगह पुतलों ने ले ले हो? सवाल सुनकर भले ही आपको हैरानी हो रही हो लेकिन जापान के एक गांव में ये बात हकीकत है. जापान के नोगोरो गांव को भूतों का गांव कहा जाता है. पहाड़ों पर बसे इस गांव में पिछले 18 सालों से एक भी बच्चा नहीं पैदा हुआ है. साल 2012 में जब से दो बच्चों ने कक्षा 6 की पढ़ाई पूरी की थी तभी से यहां का प्राइमरी स्कूल बंद है क्योंकि बच्चे हैं ही नहीं जो स्कूल जाएंगे. आइए जानते हैं इस अजीबो गरीब गांव की दिलचस्प दास्तान....

इसे भी पढ़ें: दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है., मिर्ज़ा ग़ालिब के जन्मदिन पर पढ़ें उनके बेहतरीन शेर

बच्चों की किलकारी से मरहूम इस गांव की हंसी मानो फीकी पड़ चुकी थी. लेकिन उम्मीदों पर ही दुनिया कायम है. कुछ दिन पहले ही जापान के ही निवासी 70 साल की एक महिला सुकुमी आयानो (Tsukimi Ayano) ने इस गांव की हंसी को वापस लौटाने और इसे फिर से गुलजार बनाने का एक फैसला लिया.

सुकुमी आयानो (Tsukimi Ayano) ने गांव की बच्चों की कमी की वजह से बंद हो चुकी प्राइमरी पाठशाला की रौनक को पुतलों के जरिए लौटाने की कोशिश की है. उन्होंने छोटे बच्चों के 40 से ज्यादा पुल्टे बनाकर गांव के इस स्कूल में रखे हैं.

इसे भी पढ़ें: क्या आप नाश्ते में खाते हैं ओट्स, कम होगा ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

आयानो ने बताया कि इस गांव में किसी बच्चे का जन्म हुए एक लंबा समय बीत चुका है. आयानो पिछले सात सालों से डॉल फेस्टिवल को बढ़ावा दे रही हैं. उनकी इच्छा है यहां ज्यादा से ज्यादा बच्चे दिखें, इसलिए जगह-जगह बच्चों के पुतले बनाकर लगा रही हैं.

(एजेंसी- भाषा)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 27, 2019, 10:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर