होम /न्यूज /जीवन शैली /लुब्रिकेशन से बढ़ जाता है सेक्सशुअल प्लेजर, जानें नेचुरल सेक्स लुब्रिकेंट के फायदे

लुब्रिकेशन से बढ़ जाता है सेक्सशुअल प्लेजर, जानें नेचुरल सेक्स लुब्रिकेंट के फायदे

प्राकृतिक सेक्स लुब्रिकेंट क्या होता है, जानिए इसके फायदे (प्रतीकात्मक तस्वीर)

प्राकृतिक सेक्स लुब्रिकेंट क्या होता है, जानिए इसके फायदे (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सेक्स के दौरान (During Sex) कंडोम (Condom) के इस्तेमाल से पहले ही योनि (Vagina) में बाहरी लुब्रिकेंट (Sex Lubricant) का ...अधिक पढ़ें

  • Myupchar
  • Last Updated :

    सेक्स प्रक्रिया के दौरान प्राइवेट पार्ट से निकलने वाले चिकनाई युक्त पदार्थो को लुब्रिकेंट कहा जाता है. सेक्स को और अधिक संवेदनशील बनाने के लिए यही लुब्रिकेंट मददगार होता है या यूं कहें कि सेक्स का आनंद उठाने के लिए यह लुब्रिकेंट सहायक होता है, लेकिन यह लंबे समय तक नहीं रहता है और कपल को असहजता के साथ दर्द भी हो सकता है. यही वजह है कि लंबे समय तक सेक्स करना मुमकिन हो जाता है.आइए जानते हैं कि प्राकृतिक लुब्रिकेंट किस प्रकार बनता है और इसके क्या फायदे हैं-

    ऐसे बनता है प्राकृतिक लुब्रिकेंट

    myUpchar के अनुसार, महिलाओं के सेक्स के बारे में सोचने या फोरप्ले के दौरान उनकी योनि में प्राकृतिक लुब्रिकेंट बनने लगता है और जब यह योनि से निकलता है, तभी उन्हें सेक्स का आनंद आता है. लुब्रिकेंट बनने की प्रक्रिया इस बात पर भी निर्भर करती है कि महिलाओं की सेक्स को लेकर मानसिक स्थिति क्या है. इसी के अनुसार हर महिला में लुब्रिकेंट बनने की मात्रा अलग-अलग हो सकती है. जैसे यदि कोई महिला बहुत ज्यादा तनाव में है तो उनमें सेक्स को लेकर उत्तेजना कम हो जाती है. इस कारण तनावग्रस्त महिलाओं की योनि में लुब्रिकेंट का स्तर कम रहता है. महावारी के समय भी लुब्रिकेंट के स्तर को एस्ट्रोजन नामक हार्मोन कम कर देता है लेकिन जब ओवुलेशन पीरियड शुरू होता है तो उनमें लुब्रिकेशन का स्तर बढ़ने लगता है.

    महिला का स्वास्थ्य भी जिम्मेदार

    महिलाओं में लुब्रिकेंट बनने की प्रक्रिया महिलाओं के स्वास्थ्य पर निर्भर करती है. जैसे यदि किसी महिला ने कैंसर आदि के इलाज में कीमोथैरेपी करवाई है या डायबिटीज से ग्रसित है तो लुब्रिकेशन का स्तर उनमें कम देखा जाता है. वहीं, महिला यदि एलर्जी या सर्दी की दवाएं ज्यादा इस्तेमाल करती है तो यह दवाएं भी उनकी योनि में बनने वाले लुब्रिकेशन का स्तर कम कर सकती हैं.

    लुब्रिकेंट के फायदे

    सामान्य क्रीम इस्तेमाल करने के बजाय प्राकृतिक लुब्रिकेंट ज्यादा सुरक्षित होता है क्योंकि अन्य पदार्थ योनि में संक्रमण फैला सकते हैं.

    यदि किसी महिला की योनि में अक्सर रूखापन बना रहता है, जो इसके कई कारण हो सकते हैं. रजोनिवृत्ति के दौरान लुब्रिकेंट बनने में समस्या हो सकती है, ऐसे में बाहरी लुब्रिकेंट काफी मददगार होता है, जो सेक्स के आनंद को बढ़ा सकता है.

    यदि महिला में लुब्रिकेंट कम बनता है तो सेक्स के दौरान उनकी योनि में घर्षण बनने की वजह से उन्हें घाव व पीड़ा हो सकती है. ऐसे में बाहरी लुब्रिकेंट की मदद ली जा सकती है. इस दौरान बाहरी लुब्रिकेंट के रूप में नारियल तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है. यह नुकसान नहीं पहुंचाता है.

    सेक्स के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले कंडोम में भी लुब्रिकेंट नहीं होते हैं. इसके लिए कंडोम के इस्तेमाल से पहले ही योनि में बाहरी लुब्रिकेंट का प्रयोग किया जा सकता है और सेक्स का आनंद उठाया जा सकता है.

    इन बातों का रखें विशेष ध्यान

    myUpchar के अनुसार, सेक्स के दौरान यदि किसी बाहरी लुब्रिकेंट का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ऐसा कोई भी पदार्थ इस्तेमाल बिल्कुल न करें, जो नुकसानदायक हो. बाहरी लुब्रिकेंट प्रजनन पर भी बुरा प्रभाव डाल सकता है. इससे योनि में संक्रमण होने के साथ-साथ साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं. प्रजनन अंग शरीर में काफी संवेदनशील होते हैं, ऐसे में थोड़ी सी लापरवाही गंभीर खतरा पैदा कर सकती है. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, सेक्स के लिए लुब्रिकेशन पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

    Tags: Health, Health News, Lifestyle, News18-MyUpchar, Relationship

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें