नीलोफर ने याकूब को अचानक छोड़कर अकबर से क्यों कर ली शादी?

LoveSexaurDhokha: झगड़ा तो दूर कहा-सुनी तक नहीं, और अचानक उसकी बीवी उसके बच्चों को लेकर गायब हो गई. अब उसकी मुसीबत ये थी कि पुलिस उसकी मदद करने से कतरा रही थी क्योंकि वह एक अफगानी रिफ्यूजी था.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: January 30, 2019, 12:34 PM IST
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: January 30, 2019, 12:34 PM IST
वो रात तो रोज़ की तरह थी लेकिन वो सुबह नहीं. सुबह उसकी नींद खुली तो घर सूना था. उसने हर कोने में देखा लेकिन उसकी बीवी और बच्चे घर में कहीं नहीं थे. फिर एक चिट्ठी मिली जिसमें लिखा था 'मैं कैनेडा जा रही हूं..' उसने बीवी को खोजना शुरू किया तो दो साल तक दूतावासों के चक्कर काटता रहा. आखिरकार, उसकी बीवी मिली लेकिन कैनेडा नहीं, भारत में ही! दूसरे शहर में.

READ: बॉयफ्रेंड के धोखे में किसी और के साथ SEX

अफगानिस्तान से याकूब साल 2013 में हिंदोस्तान आया था. दिल्ली में उसे अच्छी नौकरी मिली थी इसलिए वह यहीं सैटल हो गया. दिल्ली के एक होटल में उसे खानसामा का काम मिल गया था और वह यहां अपने परिवार को ठीक से पाल सकता था. उसने अपनी बीवी नीलोफर और तीन बच्चों को दिल्ली बुला लिया और गुड़गांव में एक ठीक ठाक से मकान में रहने लगा.

READ: बेवफा पति से बीवी कहती थी 'आय लव यू'

याकूब सुबह से रात तक होटल में काम करता था और रात को घर लौटता था. उसकी बीवी दिन भर घर के काम करती थी और बच्चों की देखभाल व पढ़ाई लिखाई का ज़िम्मा संभालती थी. सब ठीक चल रहा था. न तो नीलोफर को कभी ऐसा लगा कि याकूब उससे कोई बेवफाई कर रहा था, और न याकूब को नीलोफर के बारे में ऐसा कोई खयाल आया.

अलबत्ता, याकूब के सामने दूसरी परेशानियां ज़रूर थीं. नीलोफर की कुछ हसरतों को पूरा करने के लिए उसकी कमाई कुछ कम पड़ती थी. दूसरी तरफ, भारत में रहने के लिए बार-बार वीज़ा और ज़रूरी दस्तावेज़ तैयार करवाने पड़ते थे. चूंकि वो अफगानी था इसलिए आस पास के लोगों को भी किसी न किसी बात को लेकर एक अंदेशा सा बना रहता था. याकूब और उसका परिवार आसपास इसलिए किसी से ज़्यादा मेलजोल नहीं रखता था और न ही कोई उनसे.

दिल्ली समाचार, हैदराबाद समाचार, अफगानिस्तान समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationshipसाल 2015 में सितंबर महीने की एक सुबह याकूब सोकर उठा तो बिस्तर पर नीलोफर नहीं थी. 'नीलू, नीलू..' उसने आवाज़ दी लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. वह उठा और उसने पूरा घर छान मारा लेकिन न नीलू मिली और न बच्चे. 'आज तो स्कूल की भी छुट्टी है, किधर गया ये लोग?' इसी उधेड़बुन में उसने घर के आसपास भी देखा. वापस कमरे में आया तो उसे एक कागज़ मेज़ पर रखा मिला.

मैं तुम्हारे साथ नहीं रहना चाहती. अपने अम्मी और अब्बू के साथ कैनेडा शिफ्ट हो रही हूं. बच्चे मेरे ही साथ हैं, तुम उनकी फिक्र नहीं करना. मैं उनकी देखभाल तुमसे बेहतर ही करूंगी. ख़ुदा हाफिज़.


न कोई झगड़ा, न कोई बातचीत, बगैर कुछ कहे-सुने नीलोफर ऐसे कैसे जा सकती थी? इसी परेशानी में गुम याकूब ने हर उस आदमी को फोन किया जिससे नीलू के बारे में कुछ सुराग मिलने की उम्मीद थी. हर उस जगह दरयाफ्त किया, जहां नीलू या नीलू का पता मिल सकता था. न नीलू का फोन लग पाया और न ही उसके अम्मी या अब्बू से बात हो सकी. अब याकूब की ज़िंदगी में उथल-पुथल मच चुकी थी. कभी बीवी तो कभी बच्चों की याद में वह बेचैन हो उठता.

बीवी की खोज का 'मिशन इम्पॉसिबल'
याकूब ने नीलू को खोजने का सफर शुरू किया. उसने दिल्ली में पहले पुलिस की मदद मांगी. पुलिस ने नीलू की चिट्ठी के आधार पर मामला दो-तीन देशों के बीच का होने की बात कहकर उसे दूतावास यानी एम्बेसी की मदद लेने को कहा. याकूब कभी अफगानिस्तान तो कभी कैनेडा की एम्बेसी में जाकर दरख्वास्त देता और अपनी बीवी को तलाशने के लिए गिड़गिड़ाता.

पूरे दो साल याकूब अपनी बीवी की तलाश में दरबदर भटकता रहा लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लगा. उसने अपने तमाम दोस्तों से भी मदद की गुहार लगाई थी लेकिन कहीं से कोई मदद नहीं मिली थी. फिर साल 2017 के सितंबर-अक्टूबर महीने में याकूब को एक मदद मिली जब हैदराबाद में रहने वाले उसके एक दोस्त का फोन आया.

फोन : अस्सलाम वलैकुम मियां.
याकूब : वलैकुम अस्सलाम. सब ख़ैरियत? कैसे याद किया?
फोन : तुम्हारे काम का एक खबर है. हम हैदराबाद में है और हमने तुम्हारा बीवी यानी नीलोफर भाभीजान को इधर देखा है. भीड़ बहुत था और वक्त कम, इसलिए भाभीजान को हम रोक नहीं सका. लेकिन, इधर ही टोलीचौकी में वो हमको दिखा.
याकूब : ओए तुम क्या बोलता है! तुमको यकीन है कि तुमने नीलू को ही देखा?

इस फोन के बाद याकूब ने हैदराबाद जाने की पूरी तैयारी शुरू की. एक तरफ उसे खुशी भी हो रही थी कि बीवी—बच्चे मिल जाएंगे और दूसरी तरफ दो सालों से पल रहा गुस्सा भी था कि नीलू ने उसके साथ ऐसा क्यों किया. याकूब तय कर चुका था कि मिलते ही नीलू से कौन से सवाल पूछने थे और क्या फैसला सुनाना था. लेकिन, उसे अंदाज़ा नहीं था कि अभी कितना रास्ता बाकी था.

दिल्ली समाचार, हैदराबाद समाचार, अफगानिस्तान समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

हैदराबाद पहुंचने के बाद टोली चौकी जैसी बड़ी उपनगरी में नीलोफर को तलाशना आसान काम नहीं था. याकूब पहले गोलकोंडा पुलिस थाने पहुंचा और उसने अपनी गुहार लगाई. गोलकोंडा पुलिस ने कहानी सुनी लेकिन याकूब की उतनी मदद नहीं की क्योंकि कहानी में कई पेंच थे, मसलन याकूब का अफगानी होना, उसकी बीवी का दिल्ली से भागकर हैदराबाद आना, बगैर किसी झगड़े के और याकूब को किसी पर शक न होना.

रिफ्यूजी की मदद करने से कतरा रही थी पुलिस
याकूब ने महसूस किया कि उसे पुलिस की मदद नहीं मिल रही तो उसने अपने कुछ दोस्तों को बताया. फिर याकूब को उसके दोस्त 'मजलिस बचाओ तहरीक' के दफ्तर ले गए. यहां के लोगों ने उसकी कहानी सुनकर शमशाबाद ज़ोन की पुलिस से मदद दिलवाने का इंतज़ाम किया. अब याकूब साइबराबाद पुलिस को कहानी सुना रहा था, लेकिन यहां भी उसके अफगानी रिफ्यूजी होने की वजह से उसकी शिकायत दर्ज होने में देर लग रही थी.

याकूब को हैदराबाद आए तीन महीने से ज़्यादा हो चुके थे, तभी उसकी मदद का एक रास्ता खुला. एक औरत ने नरसिंगी थाने में अपने पति अकबर के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई कि वह उसके साथ घरेलू हिंसा यानी मारपीट करता था. पुलिस ने इस शिकायत पर एक्शन लिया तो पता चला कि अकबर अपनी बीवी से अलग दूसरी औरत के साथ टोलीचौकी के एक मोहल्ले में रह रहा था.


एक औरत की रिपोर्ट से जुड़ी याकूब की कहानी
अकबर के खिलाफ शिकायत करने वाली उसकी बीवी अक्सर थाने आती थी. दूसरी तरफ, याकूब भी थाने के चक्कर लगाता था. दोनों के सामने एक दूसरे के केस की बातें होती थीं. अकबर की बीवी को सारी बातें सुनकर ऐसा अंदाज़ा हुआ कि उसका पति अकबर जिस औरत के साथ रह रहा था, वही याकूब की बीवी हो सकती थी. उसने याकूब को अकबर का टोलीचौकी का पता दिया.

याकूब ने उस पते पर जाकर देखा कि अकबर की बीवी के तौर पर वाकई नीलोफर ही रह रही थी. छुपकर देख रहे याकूब की आंखें फटी रह गईं और इससे पहले नीलोफर उसे देखती, वह पुलिस को लेने चला गया. कुछ ही देर में पुलिस के साथ पहुंचे याकूब को देखकर नीलोफर हैरान रह गई और अगले ही पल उसकी नज़रें शर्म से झुक गईं. पुलिस ने नीलोफर की शिनाख्त शुरू की तो उसके पास से भारतीय नागरिक होने के सबूत के तौर पर आधार और वोटर आईडी कार्ड मिला, जो बाद में नकली पाया गया.

दिल्ली समाचार, हैदराबाद समाचार, अफगानिस्तान समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

और ऐसे खुली लव, सेक्स और धोखे की कहानी
पूछताछ और छानबीन के बाद कहानी साफ थी और याकूब की हैरानी का कोई ठिकाना न था. याकूब जब दिल्ली में अपने काम में मसरूफ रहा करता था, नीलोफर और अकबर की मुलाकातें होती थीं. अकबर उन दिनों, याकूब के घर के पास ही रहा था. नीलोफर और अकबर के बीच प्यार तो हुआ ही, साथ ही नीलोफर को हिंदोस्तान में हमेशा और सुरक्षित ढंग से रहने का रास्ता भी दिखा.

याकूब की गैरहाज़िरी में दोनों के बीच संबंध बन चुके थे और दोनों ने साथ रहने का फैसला किया. याकूब से अलग होने की बात कहने की हिम्मत नीलोफर नहीं जुटा पाई थी इसलिए वह बगैर कुछ कहे ही उसे छोड़कर चली आई. अकबर ने उसे बच्चों के साथ अपनाने का भरोसा दिया था. याकूब को छोड़ने के बाद इन करीब ढाई सालों में अकबर और नीलोफर का भी एक बच्चा हो चुका था.

याकूब : तुम हमारा बीवी होकर, किसी और आदमी से शादी कर लिया? खुदा से भी डर नहीं लगा तुमको?
नीलोफर : बच्चों की बेहतरी के लिए सब किया. इस आदमी का प्यार में हमको एहसास ही नहीं हुआ कि तुम्हारा साथ गलत हो गया.

याकूब वहां से चला तो गया लेकिन उसकी जंग अभी बाकी थी. अब उसे उसने अपने बच्चों को हासिल करने के लिए लड़ाई लड़ना थी. उसने एम्बेसी के ज़रिये शिकायतें और अर्ज़ियां दाखिल करते हुए कहा कि उसकी बीवी उसे तलाक दिए बगैर किसी हिंदोस्तानी आदमी के साथ रिश्ते में थी और इस रिश्ते से उसे एक बच्चा भी हो चुका था. याकूब ने साल 2018 में अर्ज़ी में कहा कि अगर नीलोफर ने अकबर से शादी कर ली तो वह उसे तलाक देना और अपने बच्चों को अपने साथ ले जाना चाहेगा.

(यह कहानी मीडिया में रही खबरों पर आधारित है जिसमें नाम खबरों के अनुसार वास्तविक हैं.)

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अपराध की और कहानियों के लिए क्लिक करें

करोड़ों की आनलाइन ठगी का ये है ‘नाइजीरियन’ तरीका
फोन बजा तो नाम लिखा था 'BABY', फिर उसने हैकिंग से जानी बॉयफ्रेंड की असलियत
बॉयफ्रेंड के 'जानलेवा' धोखे से बच नहीं सकी मार्शल आर्ट्स एक्सपर्ट! फिर छेड़ी जंग

PHOTO GALLERY : तीन कत्ल, जिनकी मास्टरमाइंड थी एक हसीना!
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार