मृत्यु-परीक्षा : पति ने कहा क्या चुनोगी? उसने चुनी प्रेमी की हत्या!

LoveSexaurDhokha: यह कहानी बेंगलूरु के उस चर्चित हत्याकांड की है जिसमें दो साल तक एक समाजसेवी की लाश नहीं मिली थी और जब मिली तब खुली लव, सेक्स और क्राइम की एक सनसनीखेज़ कहानी.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: December 4, 2018, 8:17 PM IST
मृत्यु-परीक्षा : पति ने कहा क्या चुनोगी? उसने चुनी प्रेमी की हत्या!
सांकेतिक चित्र
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: December 4, 2018, 8:17 PM IST
'तेरे पति को कैसे पता चलेगा? जब बात हमारे बीच ही है.'
'लेकिन, ये सब कब तक छुपेगा गणेश? मुझे बड़ा डर लगता है.' बेंगलूरु में सेल्वी और गणेश के बीच संबंध गहरे होते जा रहे थे और दोनों समाज और रिश्तों के डर से घबरा भी रहे थे. लेकिन सच आखिर कब तक छुपता, लाख कोशिशों के बावजूद एक दिन तो खुलासा होना ही था और फिर शादी या प्यार के रिश्ते में फरेब का दाग हो तो अंजाम खून तक तो पहुंचता ही है.

READ: वो सॉरी कह देती तो शायद न मर्डर होता, न सुसाइड!

सेल्वी : मेरे पति को कुछ शक होने लगा है. अब हमें ये सब बंद करना पड़ेगा गणेश.

गणेश : तू डरती काय को है सेल्वी? कुछ नहीं होगा. और बंद कुछ नहीं होगा. मैं तो नहीं रह सकता तेरे बगैर, तू रह लेगी क्या?
सेल्वी : बात अब हमारी नहीं है गणेश. आखिर पूरा परिवार और सारे रिश्ते इस तरह तोड़े तो नहीं जा सकते. हमारे रिश्ते का रास्ता ही गलत है इसलिए इसकी कोई मंज़िल नहीं है.
गणेश : अच्छा! हमारा प्यार गलत है? मैं नहीं मानता. तू फिक्र मत कर, मैं कोई रास्ता निकालता हूं.
Loading...

दोनों के बीच नज़दीकियां बेकदर बढ़ चुकी थीं और उधर सेल्वी के पति स्वामी को कुछ भनक तो लग ही चुकी थी. एकाध बार वह जब अचानक घर पहुंचा था तो उसने गणेश को सेल्वी के साथ देखा था लेकिन उस हालत में नहीं, जहां किसी सबूत की ज़रूरत नहीं होती. बस, उसके दिमाग में एक शक घर कर चुका था. वहीं, स्वामी को उसके दो दोस्त शेखर और दंडपाणि अफवाहें सुनाते हुए ताने देते थे.

शेखर : तू नाम का ही स्वामी है, तेरी बीवी तो तुझे स्वामी समझती नहीं!
स्वामी : क्या मतलब? खबरदार, अगर कोई बकवास की तो.
दंडपाणि : हां, अभी बकवास ही लगेगी तुझे लेकिन जब पता चलेगा तो कहीं का नहीं रहेगा. अबे, बीवी पर भरोसा करना अच्छी बात है लेकिन औरत पर आंख मीचकर भरोसा करने वाले अक्सर बेवकूफ बनते हैं. कोई बुरा नहीं कि तुम ज़रा नज़र रखो. गुस्सा होने की बात नहीं है, थोड़ा सोचो.

Lover killed, murder in love, paramour killed, Bengaluru news, प्रेमी का कत्ल, रकीब की हत्या, बेंगलूरु समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

इधर, सेल्वी और गणेश के बीच और भी बहुत कुछ चल रहा था. सेल्वी से अच्छी खासी रकम गणेश बतौर कर्ज़ ले चुका था जो सेल्वी ने उसके वादे पर मदद करने के लिहाज़ से दी थी. इस रकम के लिए भी सेल्वी तकाज़ा कर रही थी क्योंकि स्वामी को उसे जवाब देना था. दूसरी तरफ, गणेश यह सोच रहा था कि सेल्वी के साथ रिश्ते को हमेशा कायम कैसे रखा जा सकता था.

गणेश : एक काम कर, तू मेरी शादी की बात अपनी बहन के साथ छेड़ और हमारी शादी करवा दे.
सेल्वी : पागल हो गए हो क्या तुम? मेरी बहन को ऐसी नज़र से देखते हो तुम?
गणेश : तो इसमें क्या बुराई है? अरे तू समझती नहीं है, देख हम रिश्तेदार हो जाएंगे तो फिर किसी को शक नहीं होगा हमारे मिलने पर. इस तरह हम हमेशा अपने रिश्ते को बनाए रखेंगे.

गणेश ने जिस ढंग से कहा था, वह सेल्वी के मन में शक पैदा कर रहा था. उधर, स्वामी को दोस्तों की बातें परेशान करती रहतीं और बार-बार उसके सामने गणेश और सेल्वी के साथ होने का चित्र घूमता रहता. और एक दिन, रोज़ की तरह स्वामी काम पर जाने के बहाने से घर से निकला लेकिन लौटकर घर के पीछे की तरफ से नज़र रखने लगा. कुछ देर बाद उसने देखा कि गणेश उसके घर पहुंचा.

अब स्वामी ने देखा कि दरवाज़ा बंद हुए कुछ देर हो चुकी थी. स्वामी ने घर के एक रोशनदान से झांककर देखा तो उसके होश उड़ गए. गणेश और सेल्वी को इस हालत में ज़्यादा देर स्वामी देख नहीं सका और वह वहां से चला गया. परेशान स्वामी खुद को छला हुआ महसूस कर रहा था. तब उसने बजाय दोस्तों के, पहले सेल्वी से ही इस बारे में खुलकर बात करना तय किया.

स्वामी : अब मैं तुझे अपनी पत्नी मानने से इनकार कर दूं तो?
सेल्वी : गलती हो गई मुझसे. मुझे माफ कर दो प्लीज़. तुम जो बोलो मैं वो प्रायश्चित करने को तैयार हूं.
स्वामी : अग्निपरीक्षा तो नहीं लेकिन तुझे मृत्यु परीक्षा देना होगी. हमेशा अपने पाप से मुक्त रहने के लिए या तो उस आदमी को खत्म कर या खुद को. फैसला तेरे हाथ है, अगर मेरी पत्नी के रूप में रहना है!

Lover killed, murder in love, paramour killed, Bengaluru news, प्रेमी का कत्ल, रकीब की हत्या, बेंगलूरु समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

सेल्वी हैरत से स्वामी को तकती रह गई और स्वामी उसे सोचने का वक्त देकर वहां से चला गया. काफी सोचने-विचारने के बाद सेल्वी आखिरकार गणेश को रास्ते से हटाने के फैसले पर पहुंची. कहीं न कहीं सेल्वी के मन में एक अपराध बोध था और फिर वह गणेश को मक्कार मानने पर मजबूर थी क्योंकि उसे लगा कि गणेश उसकी बहन पर खराब नीयत रखता था और फुसलाकर रकम भी ले चुका था.

सेल्वी ने अपना फैसला स्वामी को सुनाया तो स्वामी ने उससे प्लैन पूछा. अब सेल्वी के पास कोई जवाब नहीं था इसलिए सेल्वी ने कहा कि गणेश को मारने में उसे मदद चाहिए. सेल्वी ने गणेश को नहीं बल्कि स्वामी को चुना था और यही स्वामी के लिए खुशी की बात थी इसलिए स्वामी ने गणेश को खत्म करने की प्लैनिंग में सेल्वी की पूरी मदद की. अब दोनों ने मिलकर अपनी झोपड़ी को ही कत्लगाह बनाना तय किया और स्वामी ने अपने दोनों दोस्तों दंडपाणि और शेखर को मदद के लिए राज़ी किया.

दिसंबर 2006 की एक रात स्वामी ने गणेश को डिनर पर बुलाया. गणेश को इन तमाम बातों की कोई भनक नहीं थी और वह मन ही मन हंसता था कि स्वामी कितना बेवकूफ है जो अपनी बीवी के आशिक को ही घर पर बुलाता था. गणेश डिनर पर पहुंचा, तो कुछ ही देर बाद स्वामी के दोनों दोस्त भी वहां आ गए. सबने शराब पी और कुछ खाया. गणेश कुछ नशे में आया, तो स्वामी ने सेल्वी को इशारा किया.

सेल्वी को सिर्फ स्वामी के प्रति वफादारी का सबूत देना था इसलिए सेल्वी ने स्वामी के इशारे पर गणेश को एक ज़ोरदार चांटा मारा. गणेश की आंखें फटी रह गईं और वह कुछ समझ पाता, इससे पहले ही सेल्वी उसका गला दबाने लगी. सेल्वी को हटाने की कोशिश कर रहे गणेश के गले में अगले ही पल एक रस्सी कसने लगी. कुछ ही देर में गणेश ने छटपटाते हुए दम तोड़ दिया.

Lover killed, murder in love, paramour killed, Bengaluru news, प्रेमी का कत्ल, रकीब की हत्या, बेंगलूरु समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

अब स्वामी ने दोनों दोस्तों के साथ मिलकर उस झोपड़ी में एक गहरा गड्ढा खोदा और गणेश की लाश को वहां कायदे से दफना दिया. इस झोपड़ी में भगवान की कुछ तस्वीरें और पूजा-पाठ व गृहस्थी की चीज़ें छोड़ दी गईं. अगले ही दिन से स्वामी और सेल्वी इस झोपड़ी के पास वाले मकान में शिफ्ट हो गए. सेल्वी डरी हुई थी लेकिन स्वामी ने उसे ढांढ़स बंधाया. वक्त गुज़रता गया और दो साल बीत गए.

दोनों बेखौफ हो चुके थे क्योंकि दो साल बाद भी पुलिस गणेश को तलाश करते हुए उन तक नहीं पहुंच सकी थी, हालांकि गणेश की गुमशुदगी की रिपोर्ट उसकी हत्या के बाद ही की जा चुकी थी. भले ही देर से सुनी जाए, लेकिन खून आवाज़ देता है इसलिए 2008 में किसी और केस में दंडपाणि और शेखर को गिरफ्तार किया गया. पुलिस की पूछताछ में दोनों ने इस खून का राज़ खोल दिया.

एनएस पाल्या इलाके में पुलिस उस झोपड़ी तक पहुंची और हत्या की साज़िश का खुलासा करने के लिए तमाम कानूनी कार्यवाहियां कर पुलिस ने खुदाई करवाकर गणेश की लाश के अवशेष वहां से बरामद किए जिन्हें फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया और स्वामी व सेल्वी को इस कत्ल के जुर्म में गिरफ्तार किया गया.

(सच्ची घटनाओं पर आधारित लव सेक्स और धोखे की इस कहानी में किरदार वास्तविक हैं और उनके नाम भी.)

ये भी पढ़ें

डबल मर्डर: बच्ची की लाश नदी से मिली, तब पता चला कहां दफन थी मां की लाश?
देर रात घर पहुंचा तो उसने देखा कि बेडरूम में किसी के साथ थी बीवी!
कश्मीर जाना चाहते थे नौ दोस्त, टूर पर निकलने से पहले पहुंचे जेल

PHOTO GALLERY : कत्ल की स्क्रिप्ट लिख रहे दिमाग फोन पर अपडेट कर रहे थे हर कदम
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->