नयी दुल्हन ने क्यों कहा था 'अगले महीने खुलेगा व्रत, तब होगी सुहागरात'

LoveSexaurDhokha: एक लड़की की शादी हुई लेकिन सुहागरात में ही उसके पति को झटका लगा जब नयी दुल्हन ने एक अजीब सा बहाना बनाया. कुछ ही दिनों सच सामने आया तो पंचायत के बाद शादी टूटने का तमाशा हुआ.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: January 8, 2019, 9:00 PM IST
नयी दुल्हन ने क्यों कहा था 'अगले महीने खुलेगा व्रत, तब होगी सुहागरात'
सांकेतिक चित्र
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: January 8, 2019, 9:00 PM IST
रिश्ता हुआ, शादी हुई और फिर सुहागरात का वक्त आया. दूल्हा बेकरार था, लेकिन नयी नवेली दुल्हन बेहद झिझकी हुई थी. दूल्हे ने उसकी झिझक दूर करने की तमाम कोशिशें कीं तो उसने किसी ऐसे व्रत की बात कही जो एक महीने बाद खुलना था. एक महीने का इंतज़ार करना तो बड़ा मुश्किल था इसलिए रोज़ाना सवाल-जवाब का सिलसिला चल पड़ा तो सच सामने आया और जिसे भी ये सच पता चला, वह अपनी हैरानी छुपा नहीं पाया. इसी सच की वजह से शादी और हर रिश्ता एक महीने के भीतर खत्म हो गया.

READ: सास-दामाद के अफेयर की कहानी

शादी के काबिल हो चुका मनोज उत्तर प्रदेश के मैनपुरी ज़िले के एक गांव में रहता था और छोटा-मोटा धंधा करता था. साल 2015 के मार्च महीने में उसके कुछ रिश्तेदार एक रिश्ता लेकर उसके घर पहुंचे. हरदोई के एक गांव की लड़की के बारे में सुनकर मनोज को अच्छा लगा. बात आगे चली तो मनोज के परिवार के बुज़ुर्गों ने लड़की और उसके घरवालों से मुलाकात करना तय किया.



दोनों परिवार मिले और बातें चलीं. मनोज और उस लड़की यानी मंजू की आंखें भी लड़ीं. मंजू ने शर्म से आंखें झुका लीं तो मनोज को मन ही मन गुदगुदी सी महसूस हुई. दोनों परिवारों के बीच सब कुछ तय हुआ और मई में शादी की तारीख पक्की कर दी गई. शादी को लेकर मनोज के मन में लड्डू फूट रहे थे और वह बेसब्री से दो महीनों का वक्त काट रहा था.

शादी का दिन आ गया. 9 मई को मनोज और मंजू की शादी हुई, 10 तारीख को बिदाई और बाकी रस्में हुईं और 11 मई की रात वही रात थी, जिसका मनोज को बेकरारी के साथ इंतज़ार था. सुहागरात के लिए बेसब्र हो चुका मनोज जैसे ही कमरे में पहुंचा तो मंजू शरमाई और झिझकी हुई सी बिस्तर पर बैठी थी. मनोज का रोमांच और बढ़ रहा था और वह मंजू के साथ कुछ बातचीत करने के मूड में था.

Transgender wedding, wedding first night, uttar Pradesh news, ट्रांसजेंडर की शादी, सुहागरात की कहानी, उत्तर प्रदेश समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

मंजू के साथ इधर-उधर की कुछ बातें करने के बाद मनोज ने अपना इरादा ज़ाहिर किया तो मंजू ने इनकार कर दिया. अब मनोज का रोमांच खत्म होने का वक्त आ गया था. मनोज ने कुछ ज़बरदस्ती करने की भी कोशिश की तो मंजू ने आखिरकार उसे झिड़क दिया. जब मनोज ने इस बेरुखी की वजह पूछी तो काफी पूछताछ के बाद मंजू ने बताया कि उसने शादी से पहले एक व्रत रखा था, जिसकी आखिरी पूजा अगले महीने होगी, उसी के बाद व्रत खुलेगा और तभी कुछ संभव होगा.
Loading...

मनोज : एक महीने का व्रत? ऐसा कौन सा व्रत होता है?
मंजू : होता है. लड़कियां ऐसा व्रत रखती हैं.
मनोज : लेकिन, ये तो ज़्यादती है. शादी के एक महीने तक हम पति पत्नी की तरह नहीं रह सकते, यह तुम्हें ठीक लगता है?
मंजू : अब ठीक है या नहीं है, मुझे नहीं पता लेकिन मैं यह व्रत नहीं तोड़ सकती. मैं भगवान जी को नाराज़ नहीं कर सकती.

मनोज उस रात तो जैसे-तैसे मुंह फुलाकर कमरे से चला गया लेकिन एक महीने तक रुक पाना उसके लिए मुहाल था. वह रोज़ाना मंजू को मनाने और समझाने की कोशिश करता लेकिन मंजू का इरादा था कि बदलने का नाम नहीं ले रहा था. कुछ ही दिन गुज़रे कि दोनों के बीच इसी बात को लेकर झगड़े होने लगे और मंजू के लिए भी अब सवाल इतने हो चुके थे कि उसके पास जवाब नहीं बचे थे.

मनोज ने यह दुविधा घर की औरतों समेत कुछ लोगों को बता दी थी. सब मिलकर मंजू से सवाल-जवाब करने लगे थे और मंजू परेशान हो चुकी थी. शादी के दो ही हफ्तों बाद जब इस बात को लेकर झगड़ा बढ़ा तो मंजू के पास सच बताने के सिवाय चारा नहीं बचा.

मंजू : अब मैं कैसे बताऊं तुम्हें? मैं तुम्हारी बीवी नहीं बन सकती.
मनोज : बीवी नहीं बन सकती! मतलब? शादी करने से पहले तो तुमने ऐसा कुछ नहीं कहा किसी से? तुम्हारे घर वालों से बात करना पड़ेगी क्योंकि ज़रूर तुम्हें ऐसी कोई बीमारी है, जो छूने से फैलती है और तुम बता नहीं रही हो.
मंजू : तुम समझते क्यों नहीं मनोज. बीमारी नहीं है, कुदरत है. तुम्हारी बीवी होने के लिए लड़की होना ज़रूरी है और यही मेरी बदकिस्मती है कि मैं...

मंजू की बातें सुनकर मनोज की आंखें फटी रह गई थीं. अब उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि उसे क्या करना चाहिए. एक तरफ उसे लग रहा था कि उसके साथ मंजू की असली पहचान छुपाकर उसके घर परिवार ने धोखा दिया और दूसरी तरफ, एक पल के लिए उसे यह भी खयाल आ रहा था कि मंजू को हमदर्दी की ज़रूरत है, न कि सज़ा की. लेकिन, सवाल उसकी पूरी ज़िंदगी का था और फिर पूरे परिवार की प्रतिष्ठा भी इस मामले से जुड़ी थी.

ज़्यादा देर मनोज इस बात को अपने भीतर छुपाकर नहीं रख सका और उसके करीबी लोगों को मंजू के सच के बारे में पता चल गया. बात मंजू के मायके तक पहुंची तो उसके परिवार के लोग मिलने पहुंचे. मंजू के परिवार ने मनोज के परिवार के लोगों पर पहले गुस्सा ज़ाहिर किया और जबरन लड़की को बदनाम करने की कोशिश का आरोप लगाया. इससे बात नहीं बनी, तो फिर उन्होंने काफी कोशिश की ये साबित करने की कि उनकी लड़की पूरी तरह ठीक है.

Transgender wedding, wedding first night, uttar Pradesh news, ट्रांसजेंडर की शादी, सुहागरात की कहानी, उत्तर प्रदेश समाचार, love sex or dhokha, detective stories, cheating stories, spouse cheating, shak, doubt, husband and wife, extra marital affairs, how woman cheat on you, tricks of cheating, detective cheating case, real stories of cheating, जासूसी कथाएं, जासूसी कहानियां, वो कैसे देता है धोखा, धोखे की कहानियां, धोखा मिलाना, चीटिंग, साथी ने दिया धोखा, शक, लव सेक्स धोखा, अवैध संबंध, detective story, love sex dhokha, illicit relationship

दोनों के परिवारों में झगड़ा इस कदर बढ़ गया कि मामला पंचायत तक पहुंच गया. पंचायत में मनोज के परिवार ने मंजू के थर्डजेंडर होने की बात का खुलासा करते हुए आरोप लगाया कि शादी से पहले असलियत छुपाकर धोखा दिया गया. मंजू के परिवार ने इस आरोप को नकारा तो पंचायत ने मेडिकल टेस्ट करवाने का फैसला सुनाया. लेडी डॉक्टर ने टेस्ट करने के बाद खुलासा कर दिया कि मंजू पूरी तरह लड़की नहीं थी बल्कि ट्रांसजेंडर थी.

अब मनोज की तरफ के कुछ लोग बेहद तैश में थे और धोखाधड़ी का आपराधिक केस पुलिस में दर्ज करवाना चाहते थे. इसी वक्त गुमसुम मंजू की तरफ मनोज की बहन ने देखा और उसने हंगामे के बीच में आकर कोई केस दर्ज करवाने से इनकार किया.

'आपस की बात है और समझदारी इसी में है कि आपस में ही सुलझा ली जाए.' मनोज की बहन की बात पर सबने गौर किया और शादी में जो तोहफे और लेन-देन किया गया था, उसकी रकम की वापसी का पूरा हिसाब किताब हो गया. शादी और दो परिवारों का हर रिश्ता खत्म हो चुका था और मनोज को यही सदमा था कि उसकी ज़िंदगी में ये कैसा मोड़ आया था. मनोज के घर वाले शुक्र मना रहे थे कि टंटा निपट गया. मंजू के घर वाले अपनी किस्मत को रोते जा रहे थे और मंजू के बारे में सिवाय मंजू के कोई कुछ सोच नहीं रहा था.

(सच्ची घटनाओं और खबरों पर आधारित लव सेक्स और धोखे की इस कहानी में किरदारों के नाम वास्तविक नही हैं.)

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अपराध की और कहानियों के लिए क्लिक करें

Killer Couple: 70 बार चाकू मारने वाला कातिल कौन था? बार-बार फेल हुई थ्योरी
'1 लाख दो और छह महीने में 1 करोड़ लो', सावधान! इसे स्कीम नहीं Fraud कहते हैं
आशिकी पर भारी पड़ी ममता! इसलिए प्रेमिका ने प्रेमी को दी मौत

PHOTO GALLERY : Instagram से शुरू हुआ रिश्ता, Whatsapp पर ब्रेक-अप, फिर एक मौत!
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...