इनसिक्योर है आपका पार्टनर? ऐसे करें पता

अगर सही समय रहते आप अपने साथी को अपने विश्वास में नहीं ले पाते तो कई बार प्यार भरा खूबसूरत रिश्ता टूटने की कगार पर भी पहुंच जाता है.

News18Hindi
Updated: July 10, 2019, 10:31 AM IST
इनसिक्योर है आपका पार्टनर? ऐसे करें पता
इनसिक्योर है आपका पार्टनर? ऐसे करें पता
News18Hindi
Updated: July 10, 2019, 10:31 AM IST
प्यार में डूबे कपल्स के रिलेशनशिप में एक पड़ाव ऐसा भी आता है जब वो साथी की छोटी से छोटी बात को भी शक की नजरों से देखने लगते हैं. साथी की हर छोटी हरकत पर सवाल जवाब करने से धीरे धीरे रिश्तों में खटास पैदा होने लगती है और पार्टनर भी आपसे इरिटेट होने लगता है. अगर सही समय रहते आप अपने साथी को अपने विश्वास में नहीं ले पाते तो कई बार प्यार भरा खूबसूरत रिश्ता टूटने की कगार पर भी पहुंच जाता है. इसके बाद न आप सुकून से रह पाते हैं और साथी का भी चैन उड़ जाता है. अगर आपका साथी भी आपसे इन तरह का व्यवहार करता है तो समझ लीजिए कि वो आपको लेकर इनसिक्योर है. आइए जानते हैं रिश्ते में कौन सी चीजें पार्टनर की इनसिक्योरिटी को दर्शाती हैं.

फोन कॉल्स पर सवाल: कई लोग पार्टनर की फोन कॉल्स तक चेक करते हैं. अगर उनका नंबर बिजी आ रहा है तो उस पर भी कई तरह के सवाल करते हैं. मसलन -किससे बात कर रहे थे?, क्यों बात कर रहे थे? और इतनी देर तक बात क्यों कर रहे थे?. देखा जाए तो वास्तविकता में इन सवालों का कोई निश्चित जवाब नहीं होता है. लेकिन अगर आप भी अपने साथी से ऐसे सवाल करते हैं तो तो यकीन मानिए वो दिन ज्यादा दूर नहीं है जब आपका रिश्ता टूट जाएगा. आपको इस सच को स्वीकार करना होगा कि आपके आने से पहले भी उसकी जिंदगी में कई अहम रिश्ते थे जो उसपर आज भी हक़ रखते हैं. इसलिए रिश्ते में साथी को स्पेस दें. अगर कोई बात बहुत ज्यादा खटकती है तो साथी से उस मसले पर बेझिझक बात करें.



ऑनलाइन रहने पर सवाल: कई लोगों की आदत होती है कि वो हमेशा पार्टनर का ऑनलाइन स्टेटस चेक करते रहते हैं. जब साथी ऑनलाइन दिखा तो उनके शक की सुइयां चालू हो जाती हैं. इस बात को याद रखें कि जरूरी नहीं है कि साथी जब भी ऑनलाइन हो वो आपसे बात करे ही हो सकता है वो किसी और से बात कर रहा हो. ऐसे में उसे डिस्टर्ब करना या उस पर शक करना बिल्कुल भी जायज नहीं है.

दोस्ती पर हो शक: कई लोगों की आदत होती है कि पार्टनर की पर्सनल लाइफ में तो खलल डालते ही हैं साथ ही उनके दोस्तों को भी शक की नजरों से देखते हैं. कई बार ऐसा होता है जब आप अपने दोस्तों के साथ आउटिंग का प्लान बनाते हैं या उनके घर रुक कर पार्टी करने का प्लान करते हैं तो उन्हें उस पर भी ऐतराज होता है. वो हमेशा आपकी दोस्ती को दायरों में कैद करना चाहते हैं. जबकि उन्हें इस बात का एहसास ही नहीं रहता है कि केवल यही एक रिश्ता है जो सारे दायरों से आजाद है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...