अपना शहर चुनें

States

Republic Day 2021: राष्ट्रीय ध्वज फहराने के हैं ये खास नियम, आप भी जानें

राष्ट्रीय ध्वज फहराने के भी हैं कुछ नियम. फोटो साभार/एएनआई
राष्ट्रीय ध्वज फहराने के भी हैं कुछ नियम. फोटो साभार/एएनआई

Republic Day 2021: तिरंगा हमारा राष्ट्रीय ध्वज (National Flag) है. इसमें केसरिया, सफेद और हरा तीन रंग हैं. यह हमारे राष्‍ट्रीय गर्व का प्रतीक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 20, 2021, 2:16 PM IST
  • Share this:
Republic Day 2021: देश में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाया जाता है. इस बार देश 72वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है. यह एक राष्ट्रीय पर्व है. 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा (Constituent Assembly of India) की ओर से संविधान अपनाया गया और 26 जनवरी, 1950 को इसे लागू कर दिया गया. गणतंत्र दिवस समारोह के मौके पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा भारतीय राष्ट्र ध्वज को फहराया जाता हैं. तिरंगा हमारा राष्ट्रीय ध्वज (National Flag) है. इसमें केसरिया, सफेद और हरा तीन रंग हैं. इसलिए इसे तिरंगा भी कहा जाता है. राष्ट्र ध्वज को फहराते समय किन बातों का ध्‍यान रखना जरूरी है और राष्ट्रीय ध्वज फहराने के क्‍या हैं खास नियम, आप भी जानें-

तिरंगा झुकाया नहीं जा सकता
नई संहिता की धारा 2 में सभी निजी नागरिकों अपने परिसरों में राष्‍ट्रीय ध्‍वज फहराने का अधिकार देना स्‍वीकार किया गया है. तिरंगे को कभी झुकाया नहीं जाता, न ही जमीन पर रखा जाता है. आदेश के बाद ही सरकारी इमारतों पर झंडे को आधा झुकाकर फहराया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- इस बार रिपब्लिक डे रहेगा कुछ अलग, जानें इससे जुड़ी रोचक बातें
इतनी होनी चाहिए लंबाई


झंडे की लंबाई और चौड़ाई का अनुपात 3:2 का होना चाहिए. इसके अलावा केसरिया रंग को नीचे की तरफ करके झंडा लगाया या फहराया नहीं जा सकता.

इस बीच ही फहराया जाएगा
इस ध्‍वज को किसी लाभ, पर्दें या वस्‍त्रों के रूप में उपयोग नहीं किया जा सकता है. जहां तक संभव हो इसे मौसम से प्रभावित हुए बिना सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच ही तिरंगा फहराया जा सकता है.

भूमि से स्‍पर्श नहीं करना चाहिए
इस ध्‍वज को आशय पूर्वक भूमि, फर्श या पानी से स्‍पर्श नहीं कराया जाना चाहिए. इसे वाहनों के ऊपर और बगल या पीछे, रेलों, नावों या वायुयान पर लपेटा नहीं जा सकता।

अन्‍य ध्‍वज इससे ऊंचा न हो
भारतीय राष्‍ट्रीय ध्‍वज भारत के नागरिकों की आशाएं और आकांक्षाएं दर्शाता है. यह हमारे राष्‍ट्रीय गर्व का प्रतीक है. किसी अन्‍य ध्‍वज या ध्‍वज पट्ट को हमारे ध्‍वज से ऊंचे स्‍थान पर लगाया नहीं जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- Swami Vivekananda Jayanti: जानें स्वामी विवेकानंद से जुड़ी 10 अनोखी बातें

नुकसान नहीं पहुंचा सकते
राष्‍ट्रीय ध्‍वज को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा सकते. झंडे के किसी भाग को जलाने, नुकसान पहुंचाने के अलावा मौखिक या शाब्दिक तौर पर इसका अपमान करने पर सजा और जुर्माना दोनों हो सकते हैं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज