अपना शहर चुनें

States

Republic Day 2021: क्यों 26 जनवरी को मनाया जाता है गणतंत्र दिवस, जानें इसके पीछे की कहानी

Republic Day 2021: इस बार देश 72वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है.
Republic Day 2021: इस बार देश 72वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है.

Republic Day 2021: देशभर में गणतंत्र दिवस (Republic Day) उत्साह, उमंग और हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है. लोग एक दूसरे को गणतंत्र दिवस की बधाइयां देते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 9:12 AM IST
  • Share this:
Republic Day 2021: हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. इस दिन को देशभर में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है. इसे पहली बार 26 जनवरी, सन 1950 को मनाया गया था. इसके बाद से यह पर्व हर साल मनाया जाता है. देशभर में गणतंत्र दिवस उत्साह, उमंग और हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है. लोग एक दूसरे को गणतंत्र दिवस की बधाइयां देते हैं. इस मौके पर देश की राजधानी दिल्ली स्थित इंडिया गेट पर परेड आयोजित की जाती है. आइए इस मौके पर आपको बताते हैं कि गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है.

क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस एक राष्ट्रीय पर्व है जो हर साल जनवरी महीने में 26 तारीख को मनाया जाता है. 26 जनवरी, 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को निरस्त कर सविंधान को लागू किया गया. भारत को पूर्ण गणराज्य का दर्जा दिलाने की मुहीम देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की अध्यक्षता में हुई थी. 26 जनवरी, 1929 को लाहौर कांग्रेस अधिवेशन में भारत को पूर्ण गणराज्य बनाने का प्रस्ताव पेश हुआ था. हालांकि, अंग्रेजी हुकूमत ने कांग्रेस के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था.

इसे भी पढ़ेंः Republic Day 2021 Wishes: करीबियों को इन SMS, Images से भेजें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं
तब कांग्रेस ने 26 जनवरी, 1930 को भारत को पूर्ण गणराज्य की घोषणा कर दी. इसके 16 साल बाद 9 दिसंबर, 1946 को भारतीय सविंधान लिखने की शुरुआत हुई. इसके सभापति सच्चिदानंद सिन्हा थे, लेकिन बाद में सविंधान सभा के सभापति डॉ. राजेद्र प्रसाद चुने गए थे. वहीं, सविंधान सभा समीति के विधीवेत्ता भीमराव आंबेडकर को चुना गया था. सविंधान निर्माण में 2 वर्ष 11 महीने 18 दिन लग गए थे.



इसके बाद 26 नवंबर, 1949 को समीति ने सविंधान सभापति को सौंपा. हालांकि, आधिकारिक तौर पर सविंधान 26 जनवरी, सन 1950 को लागू हुआ था. इस दिन को चुनने की मुख्य वजह लाहौर कांग्रेस अधिवेशन है. इस दिन यानी 26 जनवरी, 1929 को पहली बार पूर्ण गणराज्य का प्रस्ताव पेश किया गया था. इसके लिए ही 26 जनवरी के दिन भारतीय सविंधान को लागू किया गया और तब से इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज