# काम की बात : क्‍या देसी वियाग्रा लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है ?

अगर कोई युवा पुरुष वियाग्रा का सेवन करता है तो इसका सीधा असर उसके पिता बनने की क्षमता पर पड़ता है.

अगर कोई युवा पुरुष वियाग्रा का सेवन करता है तो इसका सीधा असर उसके पिता बनने की क्षमता पर पड़ता है.

  • Share this:
    सवाल – मेरी उम्र 60 साल है. मैं डायबिटीज और हाई ब्‍लडप्रेशर का मरीज हूं. इस कारण मेरी दोनों किडनियों ने काम करना बंद कर दिया था. मैंने 20 बार डायलिसिस करवाया है. लेकिन अब मेरी सेहत बिलकुल अच्‍छी है. पिछले दो सालों से डायलिसिस तो बिलकुल बंद है, लेकिन मुझे किडनी की दवा, ब्‍लड प्रेशर की गोली और डाय‍बिटीज के चलते इंसुलिन के इंजेक्‍शन लेने पड़ते हैं. पहले मेरे लिंग में जरा भी उत्‍तेजना नहीं होती थी, लेकिन अब होने लगी है. मुझे सेक्‍स की इच्‍छा भी होती है. मैं पहले से ही इतनी सारी दवाइयों का सेवन कर रहा हूं. ऐसे में क्‍या मैं देसी वियाग्रा भी ले सकता हूं? इसका मेरे शरीर पर कोई नकारात्‍मक प्रभाव तो नहीं पड़ेगा?

    डॉ. पारस शाह

    उत्‍तर - यह सच है कि सेक्स जीवन में अलौकिक आनंद देता है. सेक्‍स का बहुत महत्‍वपूर्ण स्‍थान है, लेकिन वह कितना भी महत्‍वपूर्ण क्‍यों न हो, जीवन से ज्‍यादा बड़ा और महत्‍वपूर्ण तो नहीं हो सकता. एक समय पर आपकी दोनों किडनियां फेल हो गई थी, आप डायलिसिस पर रहे. हार्ट की दवाइयां खाते हैं और इंसुलिन के इंजेक्‍शन भी लेते हैं.

    मेरी राय में इतनी दवाओं के सेवन और ऐसे नाजुक स्‍वास्‍थ्‍य के बाद आपको देसी या विदेशी किसी प्रकार की कोई वियाग्रा नहीं लेनी चाहिए. मैं पहले भी कई बार इस बात पर रौशनी डाल चुका हूं कि इन दवाइयों का शरीर पर नकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है. ऐसी दवाइयों के सेवन से अब तक दुनिया भर में काफी लोगों की मौत हो चुकी है.

    इन दवाइयों से मेरी कोई निजी दुश्‍मनी नहीं है. जब भारतीय बाजार में यह दवाइयां आने वाली थीं, तब पूरे देश से छह डॉक्‍टरों की एक टीम बनाई गई थी. मैं भी उस टीम का एक सदस्‍य था. शुरुआत के वर्षों में इन दवाइयों के अच्‍छे परिणाम मिले, लेकिन समय के साथ इनके बुरे परिणाम भी देखने को मिले.



    हाल के परीक्षणों से तो यह बात सामने आई है कि अगर कोई युवा पुरुष इन दवाइयों का सेवन करता है तो इसका सीधा असर उसके पिता बनने की क्षमता पर पड़ता है. इंटरनेट पर इस संबंध में तमाम आर्टिकल मौजूद हैं जो आपकी शंकाओं का समाधान कर सकते हैं.

    कुल मिलाकर सच यह है कि ये दवाइयां स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हितकारी नहीं हैं, चाहे आपकी उम्र कुछ भी हो. युवा से लेकर बड़ी उम्र के पुरुषों तक पर यह दवाइयां नकारात्‍मक असर डालती हैं. हालांकि इसका अर्थ यह नहीं है कि आप अपने जीवन में यौनसुख की आशा ही छोड़ दें. कई बार उम्र के साथ पुरुषों के हॉर्मोन में कमी आ जाती है, जिसके कारण नपुंसकता हो सकती है. अगर आपके प्रोस्‍टेट का लेवल नॉर्मल लिमिट में है तो दवा, इंजेक्‍शन, स्‍प्रे द्वारा आप उसे बढ़ा सकते हैं. वह आपको फिर से युवा महसूस कराने में मददगार होगा. इसके अलावा अपने स्‍वास्‍थ्‍य का ध्‍यान रखें और प्राकृतिक तरीके से ही यौन शक्ति दोबारा पाने की कोशिश करें. कृत्रिम दवाओं पर निर्भरता खतरनाक हो सकती है.

    (डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.)

    ये भी पढें-

    #काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?

    #काम की बात : क्‍या पहली बार सेक्‍स का अनुभव तकलीफदेह होता है?

    #काम की बात: मैं अपने लिंग की लंबाई कैसे बढ़ा सकता हूं?

    #काम की बात: एक दिन में कितनी बार सेक्स कर सकते हैं?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.