• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Shardiya Navratri 2018: जानिए कन्या पूजन के समय लड़कों को क्यों कहा जाता है लंगूर

Shardiya Navratri 2018: जानिए कन्या पूजन के समय लड़कों को क्यों कहा जाता है लंगूर

Shardiya Navratri 2018: कन्या पूजन के दौरान यदि लंगूर के तौर पर लड़के को भोजन न कराया जाए तो व्रत अधूरा माना जाता है.

Shardiya Navratri 2018: कन्या पूजन के दौरान यदि लंगूर के तौर पर लड़के को भोजन न कराया जाए तो व्रत अधूरा माना जाता है.

Shardiya Navratri 2018: कन्या पूजन के दौरान यदि लंगूर के तौर पर लड़के को भोजन न कराया जाए तो व्रत अधूरा माना जाता है.

  • Share this:
    नवरात्रि (Navratri 2018) के नौ दिनों के उपवास के पारण के समय साधक कन्या पूजन कर अपना व्रत खोलते हैं. साधक कन्याओं को इस दिन हलुआ-पूड़ी और चना या दही जलेबी खिलाते हैं. दरअसल नवमी के दिन छोटी कन्याओं को देवी का रूप मानकर उनका आदर सत्कार किया जाता है. कन्या खिलाने के दौरान एक लड़के को भी 'लंगूर' के तौर पर बैठाया जाता है. आइए आज आपको बताते हैं कि आखिर क्यों आखिर क्यों कन्या पूजन के दौरान लड़कों को बनाया जाता है लंगूर और क्या है इसका महत्व.

    नवरात्रि में कन्या पूजन के दौरान 'लंगूर' के रूप में बैठाए जाने वाले लड़के को बजरंग बली का रूप माना जाता है. मान्यता है कि कन्या पूजन के समय यदि लंगूर को न बैठाया जाए तो यह पूजा अधूरी मानी जाती है.

    ऐसे किया जाता है कन्या पूजन:

    - कन्‍या भोज के एक दिन पहले ही छोटी कन्याओं को बुलावा भेजा जाता है.

    - भोज के लिए जब कन्याएं आपके घर में प्रवेश करें तो दूध की धार और फूलों से उनका सत्कार कर मां के नौ स्वरूपों की जयकारे लगाएं.

    - अब इन कन्याओं को किसी साफ़ सुथरी जगह पर बैठाकर किसी पीतल की बड़ी परात में दूध, फूल और पानी के मिश्रण में उनके चरण धुलें और चरण स्पर्श कर उनका आशीर्वाद लें.

    - मां दुर्गा के सभी रूपों का स्मरण करते हुए उन्हें भोजन कराएं.

    - इसके बाद उन्हें दखिना स्वरुप कुछ भेंट करें. फिर पैर छू कर उन्हें विदा करें.

    - कन्या पूजन में शामिल होने वाली लड़कियों की आयु अधिकतम 10 साल ही होनी चाहिए.

    - कन्या पूजन के दौरान लड़कों को भी लंगूर के रूप में पूजे जाने का बड़ा महत्व है. क्योंकि इसके बिना व्रत अधूरा माना जाता है. जिस प्रकार मां वैष्णो देवी के दर्शन भैरो के बिना अधूरे माने जाते हैं ठीक उसी तरह बिना एक लड़के को लंगूर के तौर पर भोज कराने से यह व्रत अधूरा होता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज