पार्टनर पर चिल्लाने से रिश्ते पर होता है निगेटिव असर, इन पांच बातों का रखें ध्यान

पार्टनर पर चिल्लाने से रिश्ते पर होता है निगेटिव असर, इन पांच बातों का रखें ध्यान
ऊंची आवाज में बात करना वैसे भी सही नहीं माना जाता.

लॉकडाउन (Lockdown) में दिन-रात पति-पत्नी (husband wife) के घर में रहते है इससे थोड़ी खटपट होती रहती हैं, लेकिन दोनों में किसी एक को भी ओवर-डॉमिनेटिंग नेचर (over-dominating Nature)का नहीं होना चाहिए. इससे रिश्तों ने नकारात्मक असर पड़ता है.

  • Share this:
लॉकडाउन (Lockdown) में अधिकांश जोड़े घरों में रहते हैं ऐसे में थोड़ी-बहुत खटपट दोनों के बीच होनी आम बात है. क्योंकि पति और पत्नी (Husband-wife) एक- दूसरे की हर बात से सहमत हों यह जरूरी नहीं है. इसका कोई लॉजिक भी नहीं बनता है, लेकिन कई बार लोगों का नेचर ओवर-डॉमिनेटिंग (over-dominating Nature) होता है, जिससे कि वो अपनी बात मझाने के लिए सामने वाले पर चिल्लाने लगते हैं या ऊंची आवाज में बोलने लगते हैं. अगर आप भी लॉकडाउन में ऐसी गलती करते हैं तो इससे आप दोनों के बीच रिश्ता खराब हो सकता है. ऊंची आवाज में बात करना वैसे भी सही नहीं माना जाता. इसका आपके पार्टनर के मनोविज्ञान पर नकारात्मक असर पड़ता है. आइए इसे बारे में हम आपको विस्तार से बताते हैं...

आपकी बातों से पार्टनर हर्ट होता है
ऑनली हेल्थ डॉटकाम की खबर के अनुसार अगर आप अपने पार्टनर चीख- चिल्लाकर बात करते हैं और इससे आपका पार्टनर हर्ट होता और उसे आपकी बातें सुनना अच्छा नहीं लगाता. क्योंकि तेज आवाज और चीखना कई लोगों को हथियार की तरह लगता है. इस तरह से बात करना मानसिक हिंसा के दायरे में आता है. इस बात का आपके रिश्ते पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. इसलिए आपको जो भी समझाना है आप धीमी आवाज में प्यार से समझा सकते हैं.

महिला मित्र बनाना हेल्थ के लिए है अच्छा, जानिए क्या कहता है साइंस
पार्टनर झूठ बोलना शुरू कर देते हैं


अगर आप हर बात में अपने पार्टनर पर चिल्लाते हैं और उनकी बेज्जती करते हैं तो आपका आपके गुस्से से बचने के लिए झूठ बोलना शुरू कर देता है. ये तरीका तो आपको संतुष्ट कर देता है, लेकिन इससे धीरे-धीरे आप अपने पार्टनर के दिल से दूर होते जाते हैं. इससे हो सकता है कि आगे हर मामले में आपका पार्टनर आपसे झूठ बलने लगे. इससे आगे भी नुकसान आपका ही होगा. इसलिए पार्टनर के साथ हमेशा प्यार से पेश आएं. उन्हें बराबर का सम्मान दें और बराबरी से बात करें.

हमेशा खुद को सही साबित करना
ऊंची आवाज में बात करने पर आपके बॉडी लैंग्वेज का कई बार आपके पार्टनर के मनोविज्ञान पर बुरा असर पड़ता है. उनके लगने लगता है कि आप हर हाल में अपनी बात उनको मानने के लिए मजबूर कर रहे हैं. ऐसे में पार्टनर को लगने लगता है कि आपकी जिंदगी में उनकी कोई अहमियत नहीं है. इसलिए आपको अपने पार्टनर के साथ हमेशा सलीके से पेश आना चाहिए. उनकी बातों को समझना और गलत लगने पर प्यार से समझाने से ही रिश्ता बेहतर बनता है.

दो दिलों के बीच पैदा होती है दूरी
जो लोग डॉमिनेटिंग नेचर के होते हैं, उनका अपने पार्टनर के साथ रिश्ता हमेशा के लिए बुरा हो जाता है. क्योंकि प्यार में बराबरी का एहसास बहुत जरूरी है. जबकि डॉमिनेटिंग पार्टनर्स के साथ रहने वाले लोग अक्सर अपने रिश्ते में दबाव महसूस करते हैं, जिससे उनके मन में अपने पार्टनर के लिए वैसा सम्मान और वैसा प्यार कभी आता ही नहीं होता, जिसकी एक अच्छे रिश्ते में जरूरत होती है.

इमोशनल कनेक्ट खत्म होता है
अपने पार्टनर से चिल्ला कर बात करने वाले और अपनी बात मनवाने के लिए ऊंची आवाज का सहारा लेते वाले लोगों का अपने पार्टनर से इमोशनल कनेक्ट खत्म हो जाता है. ऐसे लोग अक्सर सिर्फ समाज की व्यवस्था में बंधे हुए जोड़े हो सकते हैं, लेकिन प्रेमी कभी नहीं हो सकते हैं. इसलिए पार्टनर के साथ इमोशनली कनेक्ट रहने के लिए जरूरी है कि आप उन्हें बराबर का सम्मान दें, बड़े फैसलों में उनकी राय लें और उनसे प्यार से बात करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज