Happy Janmashtami: देश के अलग-अलग मंदिरों से आज रात करें जन्मोत्सव का लाइव दर्शन

Happy Janmashtami: देश के अलग-अलग मंदिरों से आज रात करें जन्मोत्सव का लाइव दर्शन
कोरोना के कारण इस बार मंदिरों में भीड़ नहीं जुटेगी ऐसे में कई मंदिरों ने लाइव दर्शन कराने की व्यवस्था की है.

आज देश के विभिन्न राज्यों में छोटे-बड़े कृष्ण मंदिरों (Krishna temples) में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाएगा. श्रीमद्भागवत महापुराण (Shrimad Bhagwat Maha Purana) में वर्णन है कि भगवान श्रीकृष्ण द्वापर में भाद्रपद महीने के कृष्णपक्ष की अष्टमी को आधी रात रोहिणी नक्षत्र में जन्में थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 8:17 PM IST
  • Share this:
आज श्रीकृष्ण( Lord Sri Krishna) जन्माष्टमी का पर्व मथुरा और द्वारिका सहित देश के कई बड़े कृष्ण मंदिरों(Templs) में मनाया जाएगा. आज रात में मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाएगा और भगवान को 56 भोग लगाया जाएगा. कोरोना (corona) के कारण इस बार मंदिरों में लोगों की भीड़ एकत्र नहीं होगी, इसलिए गुजरात के कई मंदिरों ने इस कार्यक्रम को लाइव (Live) करने का फैसला लिया है. गुजरात के देवभूमि द्वारका मंदिर प्रबंधन, खेडा डाकोर मंदिर प्रबंधन और अरवल्ली शामलाजी मंदिर मंदिर प्रबंधन ने इस उत्सव को लाइव दिखाने के फैसला किया है. इसके लिए तीनों मंदिर प्रबंधन ने लिंक जारी किया है, जिसमें क्लिक करके मंदिर में भगवान श्रीकृषण के बाल रूप के लाइव दर्शन कर सकते हैं.

Video: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर जरूर सुनें अमृतवाणी, पूरी होगी मनोकामना

गुजरात के अलग-अलग मंदिर से लाइव दर्शन के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें



1. http://www.dwarkadhish.org/ देवभूमि द्वारकाः द्वारका मंदिर से लाइव दर्शन के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
2. http://www.ranchhodraiji.org/LiveDarshan खेडाः डाकोर मंदिर से लाइव दर्शन के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

3. https://www.shreeshamlajivishnutemple.org/livedarshan.html अरवल्लीः शामलाजी मंदिर से लाइव दर्शन के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

इस नक्षत्र में हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का जन्म
गर्ग संहिता और श्रीमद्भागवत महापुराण के अनुसार द्वापर युग में भाद्रपद महीने के कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि पर आधी रात में रोहिणी नक्षत्र में भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था. इस दौरान चंद्रमा अपनी उच्च राशि वृष में था. ग्रह नक्षत्र की ऐसी ही स्थिति आज बनने पर रात में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व मनाया जाएगा.

घर पर ऐसे करें भगवान श्रीकृष्ण की पूजा
देश भर में आज जन्माष्टमी पर्व मनाया जा रहा है. आज के दिन श्रीकृष्ण के बाल स्वरूप यानी लड्डू गोपाल की पूजा की जाती है. इसके साथ ही भगवान विष्णु के अवतारों की विशेष पूजा करने का विधान है. आज के दिन बाल गोपाल की विशेष पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि आती है. श्रीकृष्ण की पूजा के लिए दिन में भी शुभ मुहूर्त हैं.

Happy Janmashtami 2020: भगवान श्रीकृष्ण की पूजा के बाद जरूर पढ़ें उनकी जन्मकथा और आरती

पूजा विधि
1. घर के मंदिर में पूजा की व्यवस्था करें. सबसे पहले गणेश जी की पूजा करें. गणेशजी पर शुद्ध जल, वस्त्र चढ़ाएं. चंदन लगाकर चावल और फूल चढ़ाएं. इसके बाद उनके सामने धूप-दीप जलाएं.
2. अब भगवान श्रीकृष्ण की पूजा करें. श्रीकृष्ण को स्नान करवाएं. ओम क्लीं कृष्णाय नम: मंत्र बोलते हुए श्रीकृष्ण की मूर्ति को शुद्ध जल इसके बाद पंचामृत और इसके बाद शुद्ध जल से स्नान कराएं. अब भदवान को नये वस्त्र अर्पित करें.
3. नये वस्त्र के बाद भगवान का श्रंगार करें. इसके बाद चंदन, चावल, अबीर, गुलाल, अष्टगंध, फूल, इत्र, जनेउ भगवान को चढ़ाएं.
4. इसके बाद हार-फूल, फल, मिठाई, जनेऊ, नारियल, सूखे मेवे, पान, दक्षिणा और अन्य पूजन सामग्री चढ़ाकर धूप-दीप जलाएं.
5. तुलसी के पत्ते डालकर माखन-मिश्री का भोग लगाएं. इसके बाद पान चढ़ाएं फिर दक्षिणा चढ़ाएं. ऊँ कृष्णाय गोविन्दाय नमो नम: मंत्र का जाप करें. अब कर्पूर जलाएं और आरती करें. इसके बाद परिक्रमा करें.
9. पूजा में हुई अनजानी भूल के लिए क्षमा याचना करें.
10. इसके बाद अन्य भक्तों को प्रसाद बांट दें और खुद भी प्रसाद ग्रहण करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज