लाइव टीवी

अब स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस से होगी डायबिटीज की पहचान

भाषा
Updated: January 29, 2020, 11:21 AM IST
अब स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस से होगी डायबिटीज की पहचान
मधुमेह की पहचान करेगा स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस

प्रोफेसर हान ने कहा, हमने एक स्मार्ट एलईडी कॉन्टैक्ट लेंस बनाया है जो डायबिटीज की पहचान कर डायबेटिक रेटिनोपेथी का इलाज कर सकता है.

  • Share this:
डायबिटीज की पहचान करना अब काफी आसान हो गया है . शोधकर्ताओं ने हील में ही एक ऐसा स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस विकसित किया है, जो न सिर्फ डायबिटीज की पहचान कर सकता है बल्कि डायबेटिक रेटिनोपेथी (मधुमेह के कारण होने वाली आंख की बीमारी) का इलाज भी करता है. पत्रिका नेचर रिव्यू मैटेरियल में प्रकाशित शोध में इस उपकरण का जिक्र किया गया है.

यह स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस न सिर्फ मरीज के रक्त शर्करा के स्तर को मापता है बल्कि डायबिटीज के कारण आंखों में होने वाली बीमारी का भी इलाज कर सकता है. डायबिटीज रोगियों को खाना खाने से पहले और बाद में खून की जांच कर रक्त शर्करा के स्तर का पता लगाना पड़ता है. इस उपकरण को आंखों में लगा लेने से उन्हें खून के नमूने निकालने की जरूरत नहीं पड़ेगी. इस स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस में स्मार्ट लाइट इमिटिंग डायोड भी लगे हुए हैं जो रेटिनोपेथी के उपचार में मदद करते हैं. यह एलईडी और फोटोडिटेक्टर आंखों की रक्त वाहिकाओं में मौजूद रक्त और आंसुओं से ही शुगर के स्तर का पता लगा लेते हैं.

डायबिटीज में अगर शुगर लेवल का ध्यान न रखा जाए तो काफी दिक्कत हो सकती है
डायबिटीज में अगर शुगर लेवल का ध्यान न रखा जाए तो काफी दिक्कत हो सकती है


आंसुओं से ही रक्त शुगर का स्तर मापा जा सकता है :

शोधकर्ताओं ने स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस को खरगोश की आंखों में लगाया. इस खरगोश की आंखों में डायबेटिक रेटिनोपेथी की समस्या थी. एक माह बाद जब इन खरगोशों के आंखों की जांच की गई तो डायबेटिक रेटिनोपेथी की समस्या में कमी देखी गई.

इसे भी पढ़ें: क्या सांप से फैल रहा है कोरोना वायरस? रिपोर्ट में सामने आई ये बात

शोधकर्ता प्रोफेसर शी क्वांग हान और उनकी टीम को इस स्मार्ट कॉन्टैक्ट लेंस को विकसित करने के लिए काफी सराहना मिल रही है. यह अपनी तरह का पहला लेंस है जो आंसुओं से ही रक्त शुगर के स्तर का पता लगा लेता है और रेटिनोपेथी को ठीक करने के लिए सही जगह तक इलाज को पहुंचाता है.अब इस कॉन्टैक्ट लेंस का प्रयोग इंसानों पर किया जाएगा. इस साल के मध्य में क्लीनिकल परीक्षण शुरू होने की संभावना है. इसके साथ ही शोधकर्ताओं ने एक स्मार्ट वीयरेबल उपकरण भी बनाया है जो पसीने से ही रक्त शर्करा के स्तर का पता लगा लेता है. इसे क्लीनिकल परीक्षण के बाद सफल पाया गया है.

डायबिटीज के रोगियों के लिए फलों और सब्जियों का जूस का फायदेमंद होता है
डायबिटीज के रोगियों के लिए फलों और सब्जियों का जूस का फायदेमंद होता है


प्रोफेसर हान ने कहा, हमने एक स्मार्ट एलईडी कॉन्टैक्ट लेंस बनाया है जो डायबिटीज की पहचान कर डायबेटिक रेटिनोपेथी का इलाज कर सकता है.

इसे भी पढ़ें: आयुष्मान खुराना ने 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान' में लिया है इस बीमारी का नाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 7:43 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर