Home /News /lifestyle /

सिनेमा हॉल में मूवी के दौरान 'SNACKS' फिल्म देखने का मजा कर सकते हैं किरकिरा- स्टडी

सिनेमा हॉल में मूवी के दौरान 'SNACKS' फिल्म देखने का मजा कर सकते हैं किरकिरा- स्टडी

किसी एक्टिविटी के दौरान लोगों के आसपास खाना होता है, तो वे उस एक्टिविटी का लुत्फ कम उठा पाते हैं. (फोटो-pexels.com)

किसी एक्टिविटी के दौरान लोगों के आसपास खाना होता है, तो वे उस एक्टिविटी का लुत्फ कम उठा पाते हैं. (फोटो-pexels.com)

Snacks Can Spoil the Fun of the Movie in Theatre : एक हालिया स्टडी में यह बात सामने आई है कि पॉपकॉर्न या अन्य स्नैक्स को सिनेमाहॉल में ले जाना स्वाद के नजरिए से अच्छा विचार हो सकता है, लेकिन इससे फिल्म का मजा किरकिरा हो सकता है. टेस्टी फूड आपके ब्रेन को विचलित कर सकता है और फिल्म के बजाय आपका ध्यान इस बात पर जा सकता है कि इनका स्वाद कैसा है. हालांकि, साइंटिस्टों का कहना है कि चॉकलेट, बिस्किट या पसंदीदा मिठाइयां आादि मीठे स्नैक लंबी लाइन में लगने जैसे उबाऊ या खराब अनुभवों को बेहतर करने का उपयोगी तरीका हो सकते हैं. इस स्टडी के नतीजे जर्नल ऑफ मार्किटिंग रिसर्च (Journal of Marketing Research) में प्रकाशित किए गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

    Snacks Can Spoil the Fun of the Movie in Theatre:  सिनेमाघरों में फिल्म देखने जाने वाले ज्यादातर लोग टिकट खरीदने के साथ-साथ पॉपकॉर्न (Popcorn) और कई अलग तरह के स्नैक्स (Snacks) खरीदना नहीं भूलते. एक हालिया स्टडी में यह बात सामने आई है कि पॉपकॉर्न या अन्य स्नैक्स को सिनेमाहॉल में ले जाना स्वाद के नजरिए से अच्छा विचार हो सकता है, लेकिन इससे फिल्म का मजा किरकिरा हो सकता है. टेस्टी फूड्स आपके ब्रेन को विचलित कर सकते हैं और फिल्म के बजाय आपका ध्यान इस बात पर जा सकता है कि इनका स्वाद कैसा है. हालांकि, साइंटिस्टों का कहना है कि चॉकलेट, बिस्किट या पसंदीदा मिठाइयां आादि मीठे स्नैक लंबी लाइन में लगने जैसे उबाऊ या खराब अनुभवों को बेहतर करने का उपयोगी तरीका हो सकते हैं. इस स्टडी के नतीजे जर्नल ऑफ मार्किटिंग रिसर्च (Journal of Marketing Research) में प्रकाशित किए गए हैं.

    इरास्मस यूनिवर्सिटी (Erasmus University) में रॉटरडैम स्कूल ऑफ मैनेजमेंट (Rotterdam School of Management) द्वारा की गई इस स्टडी में पाया गया कि जब किसी एक्टिविटी के दौरान लोगों के आसपास खाना होता है, तो वे उस एक्टिविटी का लुत्फ कम उठा पाते हैं, क्योंकि खाने के चक्कर में उनका इस अनुभव के साथ जुड़ाव कम हो जाता है.

    क्या कहते हैं जानकार
    रिसर्चर्स डॉ ऐनी-कैथरीन क्लेसे (Dr Anne-Kathrin Klesse) और डॉ एमिली गारबिंस्की (Dr Emily Garbinsky) के मुताबिक, कंपनियां जान-बूझकर ग्राहक का अनुभव सुखद बनाने के लिए भोजन का उपयोग करती हैं. उदाहरण के लिए, मनोरंजन पार्क, मूवी थिएटर और कॉन्सर्ट वेन्यू आदि सभी, ग्राहकों के अनुभवों को बेहतर बनाने का दावा करते हुए उन्हें फूड आइटम प्रदान किए जाते हैं. हालांकि, रिसर्च बताती है कि ये रणनीति वास्तव में उल्टी हो सकती है. प्रोफेसर क्लेसे का कहना है कि हमारी स्टडी के जरिए इस बारे में महत्वपूर्ण चीजें पता चली हैं कि कौन-से कारक फिल्म या अन्य गतिविधियों का अनुभव किरकिरा कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें-
    रोज एक कप ब्लैक कॉफी सेहत के लिए है बेहद फायदेमंद, जानें पीने का सही तरीका

    क्या निकला स्टडी का नतीजा
    इस स्टडी के नतीजे ये भी बताते हैं कि खाने की उपस्थिति उपभोक्ताओं के नकारात्मक अनुभवों को बढ़ा सकती है. रिसर्चर्स ने कहा कि हालांकि उन परिस्थितियों में लोगों को टेस्टी खाना पेश किया जा सकता है, जहां उनके लिए अनुभव कम सुखद या उबाऊ हो, जैसे कि लंबी कतार में लगना. ऐसे में स्नैक का साथ उनके बुरे अनुभव को अच्छा बना सकता है.

    यह भी पढ़ें-
    Benefits Of Mustard Greens: सर्दियों में इम्यूनिटी को बनाना हो स्ट्रांग तो डाइट में शामिल करें सरसों का साग

    10 से ज्यादा स्टडी के आधार पर किया गया दावा
    कई तरह के एक्सपीरियंस का यूज करते हुए 10 से अधिक स्टडीज के आधार पर ये रिसर्च की गई है. इस दौरान टेस्टी खाने की मौजूदगी या गैर मौजूदगी रही. बाद में, लोगों ने अपने सुखद अनुभव के लेवल का संकेत दिया. एक संगीत कार्यक्रम में देखा गया कि कुकीज, चॉकलेट के साथ संगीत सुनने वालों ने बिना कुकीज के संगीत सुनने वालों की तुलना में संगीत का लुत्फ कम लिया.

    Tags: Food, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर