लाइव टीवी

गहरी नींद से कम होती है टेंशन, तेज चलता है दिमाग: रिसर्च

News18Hindi
Updated: November 10, 2019, 12:12 PM IST
गहरी नींद से कम होती है टेंशन, तेज चलता है दिमाग: रिसर्च
गहरी नींद से कम होती है टेंशन

दुनियाभर में कम नींद लेने वाले देशों में भारत दूसरे नंबर पर है जबकि चीन में सबसे ज़्यादा लोग नींद ना आने के शिकार हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2019, 12:12 PM IST
  • Share this:
अमेरिका की कैलिफ़ॉर्निया यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में दावा किया गया है कि गहरी नींद लेने से तनाव में 30 प्रतिशत तक कमी आती है. रिसर्च में इस बात का दावा भी किया गया है आज के समय में ज्यादातर लोग अनिद्रा का शिकार हो रहे हैं. कम नींद लेने की वजह से लोगों में गुस्सा और चिड़चिड़ाहट बढ़ती जा रही है. व्यवहार में आ रहे इस परिवर्तन का सीधा असर हमारी मानसिक क्षमता पर पड़ता है. जिस्सकी वजह से सोचने समझने की क्षमता प्रभावित होती है.

लेकिन अच्छी बात यह है कि इस समस्या को गहरी नींद लेकर खत्म किया जा सकता है. रिसर्च के अनुसार, गहरी नींद से 30 प्रतिशत तक टेंशन कम की जा सकती है और इससे सोचने की ताक़त को भी बढ़ाया जा सकता है. अमेरिका की कैलिफ़ॉर्निया यूनिवर्सिटी की इस रिसर्च के मुताबिक़ गहरी नींद के दौरान शरीर और दिमाग़ पूरी तरह आराम करते हैं. इससे दिमाग में नकारात्मक विचार आने बन्द हो जाते हैं और चेहरे से तनाव भी ग़ायब हो जाता है.

इसे भी पढ़ेंः क्या आप अपने मोटापे से परेशान हैं? अब बैंगन वजन घटाने में करेगा मदद

हालांकि रिसर्च में यह बात भी सामने आई है कि लोगों के लिए गहरी और लम्बी नींद लेना आसान काम नहीं है. काम के बढ़ते दबाव की वजह से लोग गहरी नींद लेने से बचते हैं, और ये समस्या हर देश में है. एक रिसर्च में दावा किया गया है कि भारत में क़रीब 10 करोड़ लोग नींद न आने के शिकार हैं. इससे भी ज्यादा चौंकाने वाली बात ये है कि दुनियाभर में कम नींद लेने वाले देशों में भारत दूसरे नंबर पर है जबकि चीन में सबसे ज़्यादा लोग नींद ना आने के शिकार हैं.

इसे भी पढ़ेंः मौसम बदलने पर बढ़ जाती है साइनस की समस्या, जानें क्या है इसका आसान इलाज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 12:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...