पालक खाकर एनर्जी से भर जाता है पोपाय द सेलर, जानें पालक खाने के फायदे

पालक के फायदे जानें (pic credit: instagram/random_dollify_characters)
पालक के फायदे जानें (pic credit: instagram/random_dollify_characters)

कार्टून 'पोपाय द सेलर मैन' (Popeye the Sailor Man) जब पालक खाता था तो उसकी एनर्जी वापस आ जाती थी. (पालक) का इस्तेमाल ईंधन की कोशिकाओं (Fuel Cells) को ऊर्जा देने के लिए किया जा सकता है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 3:52 PM IST
  • Share this:
अगर आप कार्टून देखने के शौकीन हैं तो आपने अमेरीकी कार्टून 'पोपाय द सेलर मैन' (Popeye the Sailor Man) जरूर देखी होगी और इस कार्टून में वो एपिसोड भी जरूर देखा होगा जिसमें कार्टून के मुख्य किरदार पोपाय (Popeye) पालक (Spinach) के फायदे गिनाता है. अब एक नए अध्ययन के अनुसार, इस हरी पत्तेदार सब्जी (पालक) का इस्तेमाल ईंधन की कोशिकाओं (Fuel Cells) को ऊर्जा देने के लिए किया जा सकता है.

वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के रसायन विज्ञान विभाग ( Department of Chemistry, Washington University) के चार वैज्ञानिकों ने यह अध्ययन किया है. अध्ययन के मुताबिक, पालक मानव शरीर के साथ-साथ मशीनी ईंधन के लिए भी लाभदायक है. अध्ययन से पता चला है कि पालक को कार्बन नैनोशीट में बदलना संभव है जो ईंधन कोशिकाओं में ऑक्सीजन-न्यूनीकरण की प्रतिक्रिया के लिए उत्प्रेरक (Catalyst) बन सकता है.

ऑक्सीजन न्यूनीकरण (Oxygenation) की यह प्रतिक्रिया (Oxygen-Reduction Reaction) एक ऐसी क्रिया है जिसमें रासायनिक ऊर्जा का ऑक्सीकरण कर उसे यांत्रिक ऊर्जा (Electricity Energy) में परिवर्तित किया जाता है.



उत्प्रेरक (Catalyst) एक ऐसा पदार्थ है जो सलंयन के दौरान बिना रुकावट और भस्म हुए प्रतिक्रिया की दर को बढ़ाने का काम करता है. इसलिए एक ऑक्सीकरण न्यूनीकरण प्रतिक्रिया (oxidation-reduction) में रासायनिक क्रिया के दौरान इलेक्ट्रोन्स (Electrons) का हस्तांतरण होता है जिससे बिजली पैदा होती है. ऑक्सीकरण न्यूनीकरण प्रतिक्रिया को ईंधन कोशिकाओं और धातु-बैटरी से ऊर्जा पैदा करने के लिए नियंत्रित भी किया जा सकता है.
परंपरागत रूप से, प्लैटिनम आधारित उत्प्रेरक (Platinum-Based Catalysts) का उपयोग किया जाता रहा है. प्लैटिनम एक दुर्लभ और बहुत महंगी धातु है। इसको कुछ कार्बन पदार्थों से आसानी से बदला जा सकता है जो कि सस्ता भी है. लेकिन, कार्बनिक पदार्थ प्लैटिनम में घुलकर कम प्रदर्शित होते हैं. इसलिए शौधकर्ता कुछ ऐसे तत्वों को खोज रहे थे जो प्लैटिनम से ज्यादा सस्ती और प्रभावी हो. ऐसे में वैज्ञानिकों को पालक की पत्तियों में इसका जवाब मिला, क्योंकि पालक में आशाजनक रूप से सस्ता, अधिक टिकाऊ और कुशल उत्प्रेरक (Catalyst) पाया गया है.

प्रमुख लेखक शाउज़ोंग ज़ो ने बताया कि अध्ययन में पता चला है कि स्थायी उत्प्रेरक प्राकृतिक संसाधनों से ऑक्सीजन न्यूनीकरण प्रतिक्रिया के लिए बनाया जा सकता है.' उन्होंने पालक से निकाले गए कार्बन-आधारित उत्प्रेरकों के उत्पादन के तरीकों पर विस्तार से बताया, जो प्रभावशाली रूप से सक्रिय भी हैं. ज़ो का मानना है कि यह यौगिक वास्तव में स्थिरता और गतिविधि के मामले में महंगी धातु प्लैटिनम उत्प्रेरक को पीछे छोड़ सकता है.

उन्होंने बताया कि अन्य अध्ययनों में चावल और घास पर भी विचार किया गया था लेकिन इन अध्ययनों में पालक सबसे प्रभावी साबित हुआ है. क्योंकि पालक आयरन और नाइट्रोजनयुक्त है और यह दोनों तत्व ऑक्सीजन न्यूनीकरण प्रतिक्रिया के लिए बेहद प्रभावी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज