आज में जिएं, कल में नहीं, इन 8 टिप्‍स से डालें आदत

जिंदगी को जिएं प्रेजेंट में.
Image: Pexels-samantha garrote

जिंदगी को जिएं प्रेजेंट में. Image: Pexels-samantha garrote

To Stay In The Present Moment: वर्तमान (Present) में रहकर जिंदगी के हर पल (Moment) को जीना ही हर किसी का मकसद होना चाहिए, लेकिन ऐसा अक्सर हो नहीं पाता यहां हम आपसे ऐसा कर पाने के टिप्स शेयर कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 12:39 PM IST
  • Share this:
वर्तमान (Present) में जीना, अपने अभी (Now) के साथ संपर्क में रहना ही असरदार और शानदार जिंदगी जीने का असली फ़लसफ़ा है. देखा जाए तो वास्तव में प्रेजेंट यानी वर्तमान के सिवाय ऐसा कोई पल नहीं जिसे हम जीते हैं और तो और फ्यूचर भी एक आगामी मौजूदा  पल (Moment) ही होगा, इसलिए हमेशा प्रेजेंट में रहकर और उसी तत्काल पल को जीने की सोच अपनी जिंदगी पर लागू करनी चाहिए.यह हम नहीं कह रहे बल्कि मशहूर लेखक,लाइफ कोच और मेटाफिजिकल स्पीकर डॉ. वेन डायर कह गए हैं. लेकिन पास्ट भूलकर और फ्यूचर न सोचकर जिंदगी जीना हर किसी को मुश्किल ही लगता है, क्योंकि प्रेजेंट में रहने की कला को सीखना इतना आसान भी नहीं है, लेकिन इसे लगातार रोजाना के अभ्यास, प्रतिबद्धता और जागरूकता से सीखा जा सकता है.जिससे जिंदगी वास्तव में सपनों सी खूबसूरत लग सकती है. हम यहां आज आपको यही बताने जा रहे हैं.तो फिर हो जाइए तैयार हमारे इन टिप्स के जरिए पल-पल और भरपूर जिंदगी जीने के लिए.  

ध्यान से सुनने की आदत डालिएः  

दूसरों की बात सुनना और वास्तव में यह समझना कि वे आपसे क्या कह रहे हैं, आपको दूसरों के साथ गहरे और प्रामाणिक संबंध बनाने में मदद करता है. इसके साथ ही आप खुलकर खुद को भी व्यक्त कर पाते हैं कि आप कौन है और क्या कहना चाहते हैं. दूसरों के साथ होने वाले सच्चे और ईमानदार कम्युनिकेशन की सराहना करना सीखें. इससे आप अपने आसपास के लोगों के साथ होने वाली हर तरह की बातचीत का आनंद ले पाएंगे.

ये भी पढ़ेंःसच है किसी के वास्ते तेरे दिल में हो प्यार जीना इसी का नाम है,अपनाकर देखिए न एक बार
  


अपने विचारों पर गौर करेंः 

यह अनुमान है कि रोजाना हमारी चेतना में लगभग 70,000 विचार तैर रहे होते हैं.इसका बहुत बड़ा हिस्सा हमारे बीते अनुभवों पर आधारित नेगेटिव और सीमित सोच का होता है.ये विषैले विचार हमें यह सोचने को मजबूर करते हैं कि हमारा परिस्थितियों पर कोई कंट्रोल नहीं रहा और हम उन्हें बदल नहीं सकते हैं. ऐसे में अपने विचारों के लिए जागरूक होना, हमें उन्हें  पुनर्निर्देशित (Redirect) करने का मौका देता है. इससे हमें नए विचारों और नई संभावनाओं के आधार पर एक नई वास्तविकता को सामने लाने का मौका मिलता है. अपने आप को अपने विचारों को देखने का तोहफा दें और सच मानिए यह आपकी जिंदगी को बदल देगा.  



धीरे-धीरे खाएं और भोजन का स्वाद लेंः  

जीवन की आपाधापी में हम अक्सर अपने भोजन को निगलते भर हैं. और कभी-कभी तो खुद को बेहतर महसूस करवाने के लिए कुछ भी अनाप-शनाप खा लेते हैं. केवल खाने भर की ये खुशी अक्सर हमें  असंतुष्ट छोड़ देती है, इसलिए खाना धीरे-धीरे खाएं और खाते वक्त उसके स्वाद,गंध, और बनावट के प्रति सचेत रहें. इससे आप प्रेजेंट मोमेंट में मौजूद रहते हैं और यह आपको जीवन के सबसे सुखद अनुभवों में से एक भोजन का आनंद लेने में मदद करता है.  

ये भी पढ़ेंः ज़िंदगी रहेगी गुलजार और खुशगवार बस अपनाएं ये आसान से तरीके 

होशहवास में सांस लेंः  

एक-एक सांस जो हम लेते हैं वो हमें हील करने की पावर रखती है.लेकिन तब जब हम अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होते हैं. जब हम सांस धीरे-धीरे लेते हैं तो हम इसे बेहद असरदार बनाते हैं और शरीर की हर कोशिका को ऑक्सीजन मिलती है. सांस में दिमाग को शांत करने के साथ ही विषाक्त या नेगेटिव विचारों को खत्म कर हमारा ध्यान वर्तमान में केंद्रित करने की ताकत भी है.  

एक वक्त में एक काम पर फोकस करेंः  

मल्टीटास्किंग हमेशा असरदार नहीं होती है. हम अक्सर कई काम एक साथ हाथ में ले लेते हैं और एक ही वक्त में कई चीजों को पूरा करने के चक्कर में अपना बेस्ट देने से चूक जाते हैं. इसकी जगह अगर हम थोड़े स्लो मोशन में किसी एक काम पर फोकस करते हैं तो पूरी बेहतरी के साथ उसे पूरा कर पाते हैं. इससे जीवन के प्रति एक नया और पॉजीटिव दृष्टिकोण बनने के साथ ही संतुष्टि भी मिलती है, इसलिए एक दिन में एक हजार कामों को पूरा करने के जुनून को छोड़े. आप खुद महसूस करेंगे कि इससे आपकी प्रोडक्टिविटी में इजाफा हुआ है.  

रोजाना करें दया के कामः  

एक साधारण मुस्कान, एक मददगार हाथ, सड़क पर चलते एक राहगीर को एक सांत्वना भरा शब्द बोल भर देना आपके जीवन में काफी सुधार कर सकता है. सच्चाई यह है कि हम कभी नहीं जान पाते कि दयालुता के हमारे काम हमारे आसपास के लोगों के जीवन को कैसे समृद्ध और बेहतर बनाने जा रहे हैं. रोजाना अपने आसपास थोड़ी दयालुता फैलाकर देखिए. कुछ अच्छे काम करें, और देखें कि उस अच्छेपन के परिणामस्वरूप आपका खुद का जीवन कैसे बेहतर बनता है.  

आभारी रहेंः  

हमारे पास जीवन में आभारी (Grateful) रहने के लिए बहुत कुछ हैं.मसलन जिस हवा में हम सांस लेते हैं, जीवन जीने का अवसर और हमारे आसपास की दुनिया को अनुभव करने का एहसास, इतना ही नहीं प्यार और खुशी के तोहफे जो हमारे पास हैं. हमें इन सभी के लिए ग्रेटफुल होना चाहिए.जब हम रोज इनके प्रति आभार जताते हैं तो यह हमारी सेहत, हमारे मन और जीवन पर पॉजिटिव असर डालता है.  

हर दिन के लिए जिओः  

जब आप सुबह उठते हैं क्या आप शुक्रगुजार और आभारी होते हैं कि आपको जीवन का अनुभव करने के लिए एक और दिन मिला है.जानिए की हर दिन हम सब के लिए एक उपहार है और इसे जीने के लिए केवल सही रिस्पांस, आभार और उत्साह होना चाहिए. हमारे चारों तरफ ऐसे कई उपहार और अवसर बिखरें हैं जो उनका लाभ उठाने के लिए हमारे इंतजार में हैं. तो फिर देर किस बात की है, बाहर निकलें, दिन का अनुभव करें, वर्तमान पल में रहें, और जादुई उपहारों का जीवन बनाएं जिसका इस्तेमाल आप खुद और दूसरों को फायदा पहुंचाने के लिए कर सकते हैं. 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज