• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • मूड ठीक करने वाला अकेला फल है केला, जानें इस 'हैप्पी फूड' की कहानी

मूड ठीक करने वाला अकेला फल है केला, जानें इस 'हैप्पी फूड' की कहानी

केले के फूल, पत्तों और छिलके तक का इस्‍तेमाल किया जाता है.

केले के फूल, पत्तों और छिलके तक का इस्‍तेमाल किया जाता है.

हर सीजन (Season) में खाए जाने वाले केले (Banana) के बिना पिकनिक भी अधूरी लगती हैं. केला जिसे कई बार हैप्पी फूड (Happy Food) भी कहा जाता है, दुनिया भर में खाया जाता है.

  • Share this:

    (विवेक कुमार पांडेय)

    सफर पर जा रहे हों और भूख लग जाए या फिर खेलते-खेलते पेट में चूहे कूदने लगें तो सबसे पहले जो फल जेहन में आता है वह है केला (Banana). जी हां, केला जिसे कई बार हैप्पी फूड (Happy Food) भी कहा जाता है दुनिया भर में खाया जाता है. बिना बनाना चिप्स (Banana Chips) के तो कई बार पिकनिक भी अधूरी ही लगती हैं. अपने गुणों को लेकर केला स्वास्थ्य के लिए काफी बेहतर है और हर सीजन (Season) में इसे खाया जा सकता है.

    इतिहास: केले का इतिहास काफी पुराना है. साउथ ईस्ट एशिया, मुख्यत: भारत में इसका ओरिजिन माना जाता है. 327 ईसा पूर्व (BC) केला अरब लोगों के जरिए यह पश्चिमी देशों में पहुंचा था. केले का जिक्र भारतीय परंपरा में बहुत पुराना है. तमाम ग्रंथों और पुराणों में इसका जिक्र है. आज भी पूजा-पाठ में केले का काफी महत्व है. भारत में ही केला अलग-अलग साइज और रंग में मिलता है.

    महत्व: केले का सामाजिक महत्व बहुत ज्यादा है. मंदिरों और यहां तक कि दक्षिण भारतीय घरों में थाली के तौर पर केले के पत्तों का प्रयोग होता है. हिंदू धर्म में भोजन के लिए केले के पत्ते का महत्व कहीं ज्‍‍‍‍‍‍यादा है. प्रसाद के तौर पर भी केले का प्रयोग खूब होता है. सामाजिक आदान-प्रदान में भी इसका प्रयोग किया जाता है.

    ये भी पढ़ें – चीनी और गुड़ वाली कई तरह से बनती है जलेबी, इसी की तरह मीठा है इसका इतिहास…

    प्रयोग: केला कई रूप से इस्तेमाल होता है. केले की सब्जी, कोफ्ता, चिप्स और अंचार तक बनते हैं. केले के डंठल तक की लजीज सब्जी बनती है. केला पक जाए तो सीधे भी खाया जाता है और लस्सी, शेक और आइसक्रीम में बनाना फ्लेवर काफी मशहूर है. कस्टर्ड तो बिना केले के मिलता ही नहीं. इसके साथ ही केले के पौधे से लेकर केले के छिलके तक का प्रयोग खाने में होता है (देश के अलग-अलग हिस्सों में).

    बिजनेस: भारत केले का सबसे बड़ा निर्यातक है. भारत के अलग-अलग हिस्सों में जितना केला उगता है उतना ही केला पूरी दुनिया एक्सपोर्ट के लिए उगाती है. हालांकि भारत में ही केले की बहुत खपत है. यह इंस्टैंट एनर्जी देने वाला फूड है साथ ही यह मूड भी सही करता है इसलिए इसे हैप्पी फूड भी कहते हैं.

    खेती: केले का सबसे ज्यादा उत्पादन महाराष्ट्र में होता है लेकिन सबसे ज्यादा केले के खेत तमिलनाडु में है. इसके बाद कर्नाटक का नंबर आता है. साउथ में जाने पर आप हर दुकान में अलग-अलग साइज और रंग के केले लटकते हुए देख सकते हैं. हमारे देश में करीब 20 तरह के केलों को उगाया जाता है.

    ये भी पढ़ें – ‘कल्याण छोले-कुलचे’ ठेले पर भीड़ देख चौंकिएगा मत…

    फायदा: केले में मुख्य रूप से पोटैशियम और पेक्टिन पाया जाता है. इसके साथ ही मानव मन को आराम पहुंचाने वाले तत्व भी इसमें होते हैं. यह शरीर में सूजन को कम करने में मदद करता है, नर्वस सिस्सट सही रखता है और व्हाइट ब्लड सेल्स बढ़ाने के साथ विटामिन बी6 को बढ़ाता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज