लाइव टीवी

Story Telling: कहानी कहिए, लोगों से जुड़िए, कुछ इस तरह कीजिए तैयारियां

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 1:31 PM IST
Story Telling: कहानी कहिए, लोगों से जुड़िए, कुछ इस तरह कीजिए तैयारियां
मंच पर या लोगों के समूह के बीच कहानी कहना, एक कला है.

स्टोरी टेलिंग (story telling) मंच पर या लोगों के समूह के बीच कहानी कहना, एक कला है जिसे अच्छी तरह से प्रैक्टिस करने के बाद बड़े प्लेटफॉर्म पर आराम से किया जा सकता है. विभिन्न लोगों को सुनें लेकिन अपना स्टाइल बरकरार रखें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 1:31 PM IST
  • Share this:
स्टोरी टेलिंग (Story Telling) करना चाहते हैं लेकिन कहीं न कहीं अटकते और झिझकते हैं? या फिर स्टोरी कहते सुनते हैं लेकिन मन में इसे लेकर कई सवाल हैं? यदि हां तो यह लेख आपके लिए ही है. पहले तो बता दें कि मंच पर स्टोरी टेलिंग एक तरह की परफॉर्मेंस है जिसमें कहानी कहने का अंदाज और आपका कॉन्टेंट बहुत कुछ मायने रखता है. साथ ही, आप इसे कितना रुचिपूर्ण तरीके से कह पाते हैं और लोग आपसे कैसे कनेक्ट होते हैं, यह भी आपको देखना, समझना और जरूरत के मुताबिक, इंप्रूव करना होगा.

Story Telling ऐसा आर्ट नहीं है जिसके लिए आपको जबरदस्त एक्सट्रोवर्ट ही होना जरूरी है. जैसा कि मुझसे पिछले दिनों किसी ने कहा कि वह यार दोस्तों के बीच तो कंफर्टेबेल रहता है, उसके किस्से और उसका अंदाज दोस्तों को तो पसंद आता है लेकिन अंजान लोगों के सामने वह बचपन से ही झेंप जाता है. उसने मुझे कहा था- मैं खुल कर बात नहीं कर पाता, कहानी सुनाना तो दूर की बात है. इसलिए जब मैंने राइटर, शॉर्ट फिल्म राइटर, सॉन्ग राइटर और स्टोरी टेलर दिव्य प्रकाश दुबे से पूछा कि क्या किसी का इंट्रोवर्ट होना आपके इस शौक को अंजाम देने में आड़े आएगा, तो उनका कहना था- नहीं भाई! यह बिल्कुल वैसे ही है जैसे कोई एक्टर मंच पर परफॉर्म करता है. मंच पर या लोगों के समूह के बीच कहानी कहना, एक कला है जिसे अच्छी तरह से प्रैक्टिस करने के बाद बड़े प्लेटफॉर्म पर आराम से किया जा सकता है.

दिव्य प्रकाश बताते हैं कि स्टोरी टेलिंग तीन तरह से की जा सकती है- पहली, एक समूह को संबोधित करते हुए, दूसरा, बीच बीच में संगीत या गाने बजाते हुए (दास्तांगोई और नीलेश मिसरा की कहानियों में यह पाया जाता है) तीसरे, जिन लोगों को आप कहानी सुना रहे हैं, उन्हें अपनी कहानी का किरदार बनाते हुए सुनाएं. दिव्य प्रकाश इस 'स्टोरीबाजी' को अपना स्टाइल बताते हैं. इसमें समूह के ही किसी व्यक्ति से बातचीत की जाती है और कहानी को आगे बढ़ा दिया जाता है. यह इंटरेक्टिव स्टाइल निश्चित तौर पर लोगों को लंबे समय तक बांधे रखता है

स्टोरी टेलिंग के लिए खुद को ऐसे तैयार करें:


  1. स्टेज पर जाने से पहले तैयारियां कर लें

  2. अपने करीबी दोस्तों को घर पर बुलाएं और उन्हें वैसे ही सुनाएं जैसा आप बड़े समूह या किसी मंच पर स्टोरी टैलिंग करना चाहेंगे

  3. Loading...

  4. उनसे फीडबैक लें क्योंकि उनसे बेहतर क्रिटिसिज्म आपको कहीं नहीं मिलने वाला.

  5. आपकी स्टोरी रियलिस्टिक होनी चाहिए. इतनी फिक्शनल न लगे कि लोग कनेक्ट न कर पाएं

  6. लोग आपके मुंह से कहानी सुन रहे होते हैं लेकिन सुनना वह ऐसा ही चाहते हैं जो कहीं न कहीं से उन्हें छूता हो

  7. अच्छा तो यह होगा कि आप खुद कहानी पहले लिख लो और उसकी पहले अकेले में प्रैक्टिस कर लो.

  8. उसके बाद अपने कलीग्स या अपने परिवार को सदस्यों को भी बिठाकर आप इसे सुना सकते हो
    यूट्यूब पर स्टोरी टेलिंग के कई वीडियोज हैं. उन्हें देखें और समझें.

  9. विभिन्न लोगों को सुनें लेकिन अपना स्टाइल बरकरार रखें. अपने स्टाइल को इंप्रूव करें लेकिन उसे खत्म न कर दें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 1:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...