होम /न्यूज /जीवन शैली /Street Food ज़ायकाः करोल बाग के 'चीला मूंगलेट' वाले बिट्टू सोनम कपूर की शादी में लगा चुके हैं स्टॉल

Street Food ज़ायकाः करोल बाग के 'चीला मूंगलेट' वाले बिट्टू सोनम कपूर की शादी में लगा चुके हैं स्टॉल

करोल बाग केबी चाट वाला

करोल बाग केबी चाट वाला

मैं 10वीं में था जब पापा ने साथ मांगा. 17 साल की उम्र से ही चाट बना रहा हूं. जिंदगी में उतार-चढ़ाव देखे. काम में छोटा भ ...अधिक पढ़ें

    Street Food ज़ायका सीरीज़ की 10वीं कहानी में  मिलेंगे  बिट्टू से. ये  दिल्ली के करोल बाघ में 'चीला मूंगलेट' बेचने के लिए जाने जाते हैं. 48 साल के बिट्टू का असल नाम  दिनेश कुमार और  इनकी ‘फरम’ का नाम  KB चाट है. बिट्टू  21 साल से चाट बेच रहे हैं, लेकिन उनका  ‘ठिया’ 48 साल पुराना है. करोल बाग में दुकान  है पर स्टॉल रेड़ी पे ही लगाते हैं. क्योंकि मार्केट में पहचान रेड़ी से ही है. दुकान दोपहर 2 बजे  खोलते हैं.


    साल 1970 में ‘फादर’ लाला ओम प्रकाश (स्व.) करोल बाग मेन बाजार में चाट-पापड़ी, दही-भल्लों की रेड़ी लगाते थे. पापा का साथ चाचा देते थे. चाचा को अपना अलग काम करना था. वे पिताजी से अलग हो गए. और ‘फादर’ अकेले पड़ गए थे. तब मैं आठवीं में था. ‘फादर’ का हाथ बंटाना शुरू कर दिया था. दो साल पढ़ाई और की. 10वीं करते-करते ‘जिम्मेवारी’ इतनी हो गई कि पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी. ‘फादर’ को अपनी तरफ से पूरा सहयोग दिया.

    साल 1994 में शादी हुई. तब 24 का था. तीन साल बाद छोटे भाई (राकेश कुमार) की भी शादी हुई. पापा-चाचा की तरह फिर हम दोनों भाईयों ने काम को आगे बढ़ाया. पिताजी घर रहने लगे. परिवार बढ़ रहा था. धीरे-धीरे समय बितता रहा.

    News18 Hindi

    कॉमनवेल्थ गेम्स से दो साल पहले ठिया शिफ्ट किया. अजमल खां रोड 'करोल बाग' मेन बाजार से, अंदर गली में स्टॉल लगाने लगे. हमें लगा था कि, कॉमनवेल्थ के दौरान मेन बाजार में पुलिस परेशान करेगी. सड़क पर गैस-सिलैंडर नहीं रखने देंगे.

    दुकान होते हुए भी लगाते हैं रेड़ी
    गेम्स के आने से दो साल पहले गली के अंदर रेड़ी जमा ली थी. इस दौरान सीमेंट की दुकान भी मिल गई थी, बेसमेंट वाली. दुकान मिली तो सामान रखने का जुगाड़ हुआ. काम को बढ़ाया. 2010 तक चाट-पापड़ी के साथ गोलगप्पे, पाव-भाजी, दही-भल्ले, आलू चाट, फ्रूट चाट, आलू मटर चाट, आलू शकरकंदी की चाट भी बनानी शुरू कर दी थी.

    चीला मूंगलेट बनाने की शुरुआत का दिलचस्प किस्सा
    दही-भल्ले के लिए मूंग की दाल लाते थे. उस दिन भी मूंग की दाल पीसी थी, लेकिन भल्ले बन नहीं बन पाए थे. बैटर ले आया था. पता नहीं था इसे इस्तेमाल किस चीज में करूंगा.

    पाव-भाजी और कुल्चा सेकने वाले तवे पर मूंग की दाल का बैटर डाला. उस पर मसाले डाले. और उसे सेक ही रहा था कि एक सरदार जी आए. जिन्हें मैं जिंदगी भर नहीं भूलूंगा. उन्होंने पूछा, ये क्या बना रहे हो? जवाब दिया, ये तो मुझे भी नहीं पता मैं क्या बना रहा हूं. जो भी बना रहा हूं अच्छी चीज ही बना रहा हूं. सेकने के बाद चीला बताकर दो चटनी के साथ सरदार जी को परोसा. उन्होंने उसे खाया और बहुत बढ़िया आइटम भी बताया. और ये सलाह भी दी कि इसे बनाना शुरू करो. इतने में मेरे पास और ग्राहक आए. पहले को, दूसरे को फिर तीसरे को, पूरा दिन चीला बताकर लोगों को परोसता रहा. इस तरह दाल खत्म हो गई.

    News18 Hindi

    उसके दूसरे रोज़ से ही अलग स्टॉल लगाकर इसे बेचना शुरू कर दिया था. उस समय सिर्फ साधारण मसालों का इस्तेमाल करता था. कोई फिलिंग नहीं की थी. धनिया अदरक और चुकंदर का लच्छा डालता था. लोगों ने अपनी-अपनी राय दी. चीले में फिलिंग करनी शुरू की. तब इसका नाम चीला मूंगलेट रखा. 6 महीने तक सादा बेचा था. 40 रुपये का. फिलिंग के बाद, 50 रुपये का कर दिया था.

    7 साल पुराना हुआ चीला मूंगलेट
    इसे बनाते हुए 7 साल हो गए. 6 साल बाद इसका रेट 70 रुपये है. अमूल बटर से ही तैयार होता है. कोई और मक्खन बदला तो स्वाद में फर्क आता है. 1 साल पहले से इसके अंदर खजूर की चटनी देनी शुरू की है. उसके पैसे एक्सट्रा हैं. एक डबल बटर मूंगलेट है. वो डबल करारा होता है. जिसका रेट 100  है.

    वीडियो में देखें, कैसे बनता है 'चीला मूंगलेट'- 










    View this post on Instagram






    A post shared by Sanika and Harshit (@streetsidefoodie) on Jul 1, 2018 at 12:42am PDT






    दोनों भाई कैसे संभालते हैं काम
    ‘शादी-बिया’ और बाहर का काम छोटा भाई संभालता है. ‘ठिए’ पर जो काम होता है वो मेरी जिम्मेदारी होती है. पहली बार किसी सेलिब्रिटी (सोनम कपूर) की शादी ने छोटे भाई ने स्टॉल लगाया था. पुराना काम है. ग्राहक के प्रति व्यवहार अच्छा रखते हैं. क्वॉलिटी में पैसे का लालच नहीं करते. 14 हजार रुपये किलो का हींग आता है. चीले में मेन स्वाद इसका आता है. हींग और मसाले खारी बावली से खरीदते हैं. पिसे-पिसाए.

    महीने का कितना कमा लेते हैं
    घर के खर्च और कारीगरों की सैलरी निकालने के बाद सेविंग कर लेते हैं. परिवार अच्छे से रहता है. ठीक-ठाक कमा लेते हैं.

    चीला मूंगलेट रेसिपी
    रात में मूंग दाल भिगोते हैं. बाकी ‘माल’ तैयार करके आखिर में मूंग दाल ब्लेंड कर पीस लेते हैं. ऐसे बैटर तैयार होता है. थोड़ी देर हाथ से फेटा लगाते हैं. जिससे हल्का फूल जाए. फिर इसमें तीन आइटम डालते हैं. नमक, बिकानेरी मिर्ची और हींग. बनाते हुए इसमें तीन आइटम की फिलिंग करते हैं. प्याज, स्वीट कॉर्न और शिमला मिर्च. तीनों डालकर अंडे की तरह फेटते हैं. बैटर और हल्का फूलता है.

    इसके बाद फ्राई पैन में मक्खन डालकर इसे सेकते हैं. सिकने से पहले ऊपर से इसमें हरा धनिया, अदरक और चुकंदर गार्निश करते हैं. पलटकर थोड़ी देर पकने का इंतजार करते हैं. दोबारा पलटते हैं. चार कट लगाते हैं. मक्खन डालते हैं. पकाते हैं. इसके बाद इसे चटनी के साथ देते हैं. एक हरा धनिया, हरी मिर्ची और पुदीना चटनी होती है. दूसरी अमचूर, चीनी, मसाले से बनती है. और तीसरी खजूर की चटनी बनाते हैं.

    Photo and Video Credit: delhifoodwalks Page and streetsidefoodie instagram Page

    इसे भी पढ़ेंः
    Street Food ज़ायकाः मिलिए उस पान वाले से जिसकी दुकान पर चाचा नेहरू भी रोज खाते थे पान
    Street Food ज़ायकाः न पैमप्लेट न ऐड, जानें कैसे मशहूर हुआ DU वाला ‘टॉम अंकल मैगी पॉइंट’
    Street Food ज़ायकाः मिलिए, उस लिट्टी वाले से जो तंगी के चलते डॉक्टरी की पढ़ाई न कर सका, अब कमाता है लाखों
    Street Food ज़ायकाः बंटवारे से पहले से बेच रहे हैं लस्सी, 'पर-दादा' का ज़ायका संभाल रहे हैं अंशुमन
    Street Food ज़ायकाः आफताब और राजेश हज़ारों साल पुराने तरीके से मिट्टी के बर्तन में पकाते हैं 'अहुना मटन'

    Tags: Eat healthy, Food diet, Health Explainer, Health News, Healthy Diet, Healthy Foods, Nutritious Foods, Street Food, Superfoods, Weight Loss

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें