लाइव टीवी
Elec-widget

प्यार से ज्यादा परिवार का साथ देता है ख़ुशी: रिसर्च

News18Hindi
Updated: November 30, 2019, 9:18 AM IST
प्यार से ज्यादा परिवार का साथ देता है ख़ुशी: रिसर्च
परिवार का ख्याल रखकर लोगों को ज्यादा ख़ुशी मिलती है

विकासवादी मनोवैज्ञानिक (Evolutionary psychologists) पिछले 40 सालों से मानव व्यव्हार पर यह जानने के लिए अध्ययन कर रहे थे कि आखिर क्या चीज लोगों को ज्यादा ख़ुशी देती है और उन्हें उत्साहित महसूस करवाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 9:18 AM IST
  • Share this:
खुशियों की कोई परफेक्ट डेफिनेशन नहीं है और ना ही इस बात को निश्चित किया जा सकता है कि आप कहां खुशियों की तलाश में भटक सकते हैं. ख़ुशी के पीछे की वजह तलाशने के लिए शोधकर्ताओं की एक टीम ने 40 साल तक 27 देशों के लगभग 7,000 लोगों पर रिसर्च की. इस रिसर्च का यह उद्देश्य था कि यह पता लगाया जा सके कि लोगों को किस चीज से ख़ुशी मिलती है और वो किस चीज से प्रेरित महसूस करते हैं.

यूएस की स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता Ahra Ko from Arizona ने बताया कि इस रिसर्च में हमने 27 देशों से अलग अलग प्रतिभागियों को इसमें शामिल किया था. लोगों ने बताया कि उन्हें अपने परिवार की देखभाल करना और साथी के साथ प्यार भरा वक्त बिताना ज्यादा खुश और उत्साहित महसूस करवाता है.

इसे भी पढ़ें: डिप्रेशन की वजह से कड़वे और मीठे का फर्क नहीं कर पाती जीभ: रिसर्च

उन्होंने ये भी बताया कि कोरिया, चीन यूरोप और अमेरिका जैसे देशों में भी लोगों की सोच का यही पैटर्न सामने आया. इस स्टडी के तहत ऑस्ट्रेलिया, बुल्गारिया, थाईलैंड और यूगांडा जैसे देश भी शामिल थे. लेकिन इसमें अंटार्कटिका को शामिल नहीं किया गया था.

विकासवादी मनोवैज्ञानिक (Evolutionary psychologists) पिछले 40 सालों से मानव व्यव्हार पर यह जानने के लिए अध्ययन कर रहे थे कि आखिर क्या चीज लोगों को ज्यादा ख़ुशी देती है और उन्हें उत्साहित महसूस करवाती है. उनका मेन फोकस इस बात पर था कि लोग अपने साथी के साथ रोमांटिक या सेक्स्शुअल रिश्तों में ज्यादा खुश थे. लेकिन स्टडी में शामिल ज़्यादातर लोगों ने साथी की तलाश को बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं बताया.

इसे भी पढ़ें: इस कोर्स में हुए फेल तो जिंदगी भर रह जाएंगे कुंवारे, छीन लिया जाएगा शादी का अधिकार

लोगों ने स्वीकार किया कि परिवार की देखभाल करना और उसे सपोर्ट करना लोगों को ज्यादा ख़ुशी देता है. इसके अलावा लोग कमिटेड रोमांटिक या सेक्सुअल रिलेशनशिप में रहना ज्यादा पसंद करते हैं. लोगों के लिए ये दो प्रेरित करने वाले कारक ज्यादा महत्वपूर्ण पाए गए बजाये कि कम समय के लिए किसी पार्टनर या सेक्सुअल रिलेशनशिप में होना.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 9:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com