• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • आलू की सब्जी और मेथी की चटनी के साथ लाजवाब कचौड़ी खाने के लिए पहुंचें लक्ष्मीनगर के 'श्रीगणेश कॉर्नर' पर

आलू की सब्जी और मेथी की चटनी के साथ लाजवाब कचौड़ी खाने के लिए पहुंचें लक्ष्मीनगर के 'श्रीगणेश कॉर्नर' पर

मांगने पर आपको दोने में दो कचौड़ी के साथ आलू की रसेदार व जायकेदार सब्जी तो मिलेगी ही, साथ में मेथी की चटनी भी ऊपर से डलवा सकते हैं.

मांगने पर आपको दोने में दो कचौड़ी के साथ आलू की रसेदार व जायकेदार सब्जी तो मिलेगी ही, साथ में मेथी की चटनी भी ऊपर से डलवा सकते हैं.

ITO से यमुनापार कर लक्ष्मीनगर क्रॉसिंग पर पहुंचेंगे तो मदर डेरी रोड की ओर मुड़ते ही बाईं ओर कोने पर यह दुकान और वहां मौजूद कचौड़ी (Kachori) खाने वालों का मजमा बता देगा कि यमुनापार की इस दुकान की बात कुछ और ही है.

  • Share this:
    (डॉ. रामेश्वर दयाल)
    आजकल सावन का महीना चल रहा है. रिमझिम बारिश और गरजते बादलों के बीच मन होता है कि कुछ तला और चटपटा मिल जाए तो सावन का आनंद दोगुना हो जाए. इसी आनंद को बढ़ाने के लिए आज हम आपको खस्ता और गरमा-गरम कचौड़ी के साथ, आलू की जायकेदार सब्जी और मैथी की चटनी का स्वाद चखवाते हैं. दिल्ली के यमुनापार की इस दुकान में वैसे तो और भी बहुत कुछ मिलता है, लेकिन इस दुकान पर तो अधिकतर लोग कचौड़ी का मजा लूटने के लिए आते हैं. उसका कारण यह है कि यहां बड़ी कड़ाही में लगातार कचौड़ी तलती रहती हैं, जिनकी सौंधी खुशबू आपको निमंत्रण देती हुई नजर आएगी.

    गरमा-गरम कचौड़ी की तो बात ही कुछ और है
    यमुनापार की इस दुकान का नाम है- 'श्रीगणेश कॉर्नर'. आईटीओ से यमुनापार कर लक्ष्मी नगर क्रॉसिंग पर पहुंचेंगे तो मदर डेरी रोड की ओर मुड़ते ही बाईं ओर कोने पर यह दुकान और वहां मौजूद कचौड़ी खाने वालों का मजमा बता देगा कि यमुनापार की इस दुकान की बात कुछ और ही है. चूंकि इस दुकान की यूएसपी कचौड़ी हे तो पहले उस पर बात कर ली जाए. दुकान पर आपको अधिकतर समय गरमा-गरम कचौड़ी ही मिलेगी. कारण यह है कि यह दुकान सालों पुरानी है और वहां सालों से ही यह डिश बेची जा रही है, इसलिए वहां कड़ाही में लगातार कचौड़ी तलती हुई नजर आएगी.

    इसे भी पढ़ेंः पकौड़े खाने हैं तो चले आइए दिल्ली के सरोजनी नगर, 15 तरह की वैरायटीज हैं मौजूद

    मांगने पर आपको दोने में दो कचौड़ी के साथ आलू की रसेदार व जायकेदार सब्जी तो मिलेगी ही, साथ में मेथी की चटनी भी ऊपर से डलवा सकते हैं. इस डिश का मजा 40 रुपये में लिया जा सकता है. खाते हुए आपको दोबारा आलू की सब्जी चाहिए तो वह भी बिना किसी गुरेज के आपके दोने में डाल दी जाएगी. सुबह से दोपहर तक तो यहां लोग कचौड़ी खाने आते हैं और लगे हाथों पैक करवाकर भी ले जाते हैं.



    दुकान पर पहुंचिए, टोकन कटवाइए और खाने का आनंद लीजिए
    इस दुकान पर वैसे तो 75 रुपये में छोले-भठूरे की प्लेट मिलती है, साथ ही 15 रुपये में एक समोसा भी सर्व किया जाता है. अब तो वहां मिठाइयां भी मिलने लगी हैं लेकिन दुकान पर खड़े होकर आप निरीक्षण करेंगे तो पाएंगे कि कचौड़ी के दीवानों की संख्या अधिक है. दुकानदार का कहना है कि उनकी कचौड़ी में उड़द की दाल व खास मसालों की पिट्ठी भरकर बनाया जाता है, जिससे उसका स्वाद उभर कर आता है. छोलों का स्वाद भी कुछ अलग है और भठूरों में पनीर का स्टफ भी भरा दिखाई देगा. श्रीगणेश कॉर्नर वालों का दावा है कि पूरे यमुनापार में उनकी जैसी स्वादिष्ट और गरमा-गरम कचौड़ी कहीं पर नहीं मिलेगी. साथ में खास गरम मसाले डालकर बनाई गई आलू की सब्जी उसका स्वादा और बढ़ा देती है. इसी का परिणाम है कि दुकान के अंदर और बाहर लोग कचौड़ी खाते हुए नजर आ जाएंगे. दुकान पर पहुंचिए, टोकन लीजिए और गरमा-गरम खाना खाने के लिए तैयार हो जाइए.

    इसे भी पढ़ेंः ताजी खुरचन खानी हो या फिर रबड़ी चखने का मन हो, पुरानी दिल्ली में 'हजारी लाल' का नाम ही काफी है

    30 साल से बेची जा रही खस्ता और जायकेदार कचौड़ी
    इलाके में इस दुकान पर करीब 30 साल से कचौड़ी बेची जा रही है. इस दुकान को राकेश गुप्ता व उनके बेटे नवीश गुप्ता चला रहे हैं. उनका कहना है कि कच्चा माल वह खुद खरीदकर लाते हैं और शाम रात को दुकान बढ़ाते वक्त जो भी खाना बच जाता है, उसे निपटा दिया जाता है. हर रोज ताजे माल से खाना तैयार किया जाता है, इसलिए ग्राहकों का दुकान पर विश्वास कायम है. दुकान पर सुबह 8.30 बजे कचौड़ी की भीनी-भीनी गंध उड़ना शुरू हो जाती है, यानी वह बिकना शुरू हो जाता है. उसके बाद 11 बजे के आसपास समोसे और भठूरे भी मिलना शुरू हो जाते हैं. रात 8.30 बजे तक दुकान पर माल बिकता रहता है. कोई साप्ताहिक अवकाश नहीं है. बस साल में एक दिन होली पर अवकाश रखा जाता है.
    नजदीकी मेट्रो स्टेशन: लक्ष्मी नगर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज