Home /News /lifestyle /

स्ट्रोक और डिमेंशिया का रिस्क कम कर सकती है चाय-कॉफी की चुस्की- स्टडी

स्ट्रोक और डिमेंशिया का रिस्क कम कर सकती है चाय-कॉफी की चुस्की- स्टडी

स्टडी से मुताबिक जिन लोगों ने दिनभर में 2-3 कप पी, उनमें स्ट्रोक और डिमेंशिया का जोखिम सबसे कम पाया गया. (फोटो-shutterstock)

स्टडी से मुताबिक जिन लोगों ने दिनभर में 2-3 कप पी, उनमें स्ट्रोक और डिमेंशिया का जोखिम सबसे कम पाया गया. (फोटो-shutterstock)

Tea-Coffee Health Benefits: चीन (China) की तिआंजिन मेडिकल यूनिवर्सिटी (Tianjin Medical University) के रिसर्चर्स की स्टडी (Study) में ये बात सामने आई है कि चाय-कॉफी की चुस्कियां (Sips) स्ट्रोक (Stroke) और डिमेंशिया (Dementia) का जोखिम घटा सकती हैं. इस स्टडी को साइंस जर्नल 'पीएलओएस मेडिसिन (PLOS Medicine)' में प्रकाशित कर किया गया है. तिआंजिन मेडिकल यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स द्वारा जारी स्टडी के मुताबिक, जिन लोगों ने दिनभर में दो-तीन कप कॉफी (Coffee) या तीन-पांच कप चाय (Tea) या फिर दोनों के चार-छह कप पीए, उनमें स्ट्रोक (Stroke) और डिमेंशिया (Dementia) मतलब भूलने की बीमारी का जोखिम सबसे कम पाया गया.

अधिक पढ़ें ...

    Tea-Coffee Health Benefits: अक्सर ये देखने में आया है कि लोग चाय-कॉफी से होने वाले नुकसान के चलते इसके सेवन (Intake) को लेकर सतर्कता बरतने को कहते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि चाय-कॉफी पीने से बड़ी मानसिक बीमारियों का खतरा भी कम हो सकता है? जी हां, चीन की तिआंजिन मेडिकल यूनिवर्सिटी (Tianjin Medical University) के रिसर्चर्स की स्टडी में ये बात सामने आई है कि चाय-कॉफी की चुस्कियां स्ट्रोक (Stroke) और डिमेंशिया (Dementia) का जोखिम घटा सकती हैं. इस स्टडी को साइंस जर्नल ‘पीएलओएस मेडिसिन (PLOS Medicine)’में प्रकाशित कर किया गया है. तिआंजिन मेडिकल यूनिवर्सिटी (Tianjin Medical University) के रिसर्चर्स द्वारा जारी स्टडी के मुताबिक, जिन लोगों ने दिनभर में 2-3 कप कॉफी या 3 से 5 कप चाय या फिर दोनों के 4-6 कप पीए, उनमें स्ट्रोक (Stroke) और डिमेंशिया (Dementia) मतलब भूलने की बीमारी का जोखिम सबसे कम पाया गया.

    आपको बता दें कि रिसर्चर्स ने 10 से 14 साल की अवधि में 50 से 74 साल के 3.60 लाख प्रतिभागियों पर यह स्टडी की है. स्टडी (Study) में चाय और कॉफी का संतुलित सेवन करने वाले लोगों में डिमेंशिया का 28 फीसदी और आघात का 32 फीसदी कम जोखिम मिला.

    रोजाना कितने कप हैं जरूरी? 
    इससे पहले कुछ स्टडी ये भी बताया जा चुका है कि रोजाना तीन कप कॉफी पीना अल्जाइमर (Alzheimer’s) का खतरा घटा सकता है. हालांकि, एक दिन में छह कप से ज्यादा कॉफी पीने वालों में डिमेंशिया या मस्तिष्क विकारों (dementia or brain disorders) का जोखिम बढ़ भी सकता है.

    यह भी पढ़ें- Sugar Craving: मीठी चीजों को देख होती है क्रेविंग तो इस तरह करें कंट्रोल, लंबी उम्र तक रहेंगे फिट

    शोधकर्ताओं को प्रतिभागियों की यह जानकारी ब्रिटेन के बायोबैंक (UK Biobank) से मिली, जिसे 2006 से 2014 के बीच किया गया. इस दौरान 5,079 प्रतिभागियों को डिमेंशिया और 10,053 को आघात यानी स्ट्रोक का सामना करना पड़ा.

    यह भी पढ़ें- Vitamin c benefits on skin: स्किन की हेल्थ के लिए क्यों जरूरी है विटामिन सी, जानिए कारण

    क्या है डिमेंशिया?
    डिमेंशिया (Dementia) को साधारण भाषा में भूलने की बीमारी कहते हैं, हालांकि ये बीमारी का नाम नहीं है, बल्कि एक बड़े लक्षणों के ग्रुप का नाम है. इसके भूलने के अलावा जो लक्षण होते हैं, वो इस तरह से हैं- नई बातें याद करने में दिक्कत होना, लॉजिक को समझ न पाना, लोगों से मिलने-जुलने में झिझक, इमोशंस को संभालने में दिक्कत, पर्सनैलिटी चेंज आदि. ये सभी लक्षण ब्रेन लॉस (Brain loss) के कारण होते हैं, जिससे लाइफ में हर कदम दिक्कतों को सामना करना पड़ता है.

    Tags: Coffee, Health, Health News, Mental health, New Study, Tea

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर