लाइव टीवी
Elec-widget

ThanksGiving Day: क्या आपने कभी अनजानों का शुक्रिया अदा किया है!


Updated: November 28, 2019, 10:31 AM IST
ThanksGiving Day: क्या आपने कभी अनजानों का शुक्रिया अदा किया है!
Thanksgiving day party

क्या आपने कभी सोचा है कि यही शुक्रियादा उन लोगों को करतने का क्या तर्क हो सकता है जिन्हें आप कभी मिले नहीं, पहचानते नहीं, इसके बावजूद घर बुलाकर उनके लिए डिनर का आयोजन करें.

  • Last Updated: November 28, 2019, 10:31 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. अमेरिका में हर साल 28 नवंबर को थैक्सगिविंग डे (ThanksGiving Day) मनाया जाता है. इस दिन लोग अपने परिवार, पड़ोसियों और जान-पहचान वालों को उनके सहयोग-साथ-समर्थन के लिए शुक्रियादा करते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि यही शुक्रियादा उन लोगों को करतने का क्या तर्क हो सकता है जिन्हें आप कभी मिले नहीं, पहचानते नहीं, इसके बावजूद घर बुलाकर उनके लिए डिनर का आयोजन करें.

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में अब ऐसे अनजाने थैक्सगिविंग पार्टियों का चलन बढ़ने लगा है. रिपोर्ट में बताया गया कि पिछले साल एडम नाओर और उनकी महिला मित्र ने बकायदा विज्ञापन जारी कर अपने घर थैक्सगिविंग डिनर का आयोजन किया. विज्ञापन में उन्होंने बताया कि वो अकेले रहने वालों, विधवा या ऐसे किसी व्यक्ति के लिए शानदार भोज का आयोजन करना चाहते हैं.

आज के दौर में जब टेक्नोलॉजी की मदद से डेटिंग और विदेश यात्राएं अनजान लोगों के साथ की जा रहीं हैं तो फिर थैक्सगिविंग के मौके को क्यो छोड़ा जाए. नोआर की तरह कई लोग अपने घर में छोटा आयोजन करते हैं जबकि कुछ तो बकायदा भण्डारे लगाते हैं.

इस तरह के सामाजिक प्रयोग करने वालों का कहना है कि अनजान लोगों के साथ उनका उठना बैठना, मिलना, डिनर करना या कहीं घूमने जाना अच्छा लगता है. अपने परिवार या दोस्तों के साथ इस तरह की गतिविधि तनावपूर्ण हो सकती है या इनमें हमेशा कोई-न-कोई विषय आपके साथ बना रह जाता है.

कुछ लोग थैक्सगिविंग पर अगर 50 लोगों की पार्टी कर रहे हैं तो उनमें से 20 ऐसे हो सकते हैं जिनसे वो कभी मिले नहीं. उदाहरण के लिए जेसली सोटो का परिवार मांसाहारी है लेकिन वो खुद शाकाहारी. ऐसे में वो शाकाहारी लोगों के साथ पार्टी करना पसंद करती हैं.

ऐसा नहीं है कि हर बार इस तरह की पार्टी में आपको अच्छा अनुभव हो. कई बार मेहमानों में से कोई आपकी सोच के विपरीत निकाल जाता है. ऐसे में कोशिश यह होती है कि एक तरह की सोच रखने वाले लोग हों जो पार्टी का मजा खराब न करें.

ये भी पढ़ें:
Loading...

भूखे भजन न होय गोपाला', अमेरिकी शोध ने साबित कर डाला

सोशल मीडिया, टीवी और कंप्युटर किशोरों में बढ़ा रहे हैं तनाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 10:31 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...